एमपी पुलिस का ईसाईयों से बेतुका सवाल – मुस्लिमों का धर्म क्यों नहीं बदलते ?

0
Want create site? With Free visual composer you can do it easy.

सतना। देश भर में अल्पसंख्यक समुदाय भगवा गुंडागर्दी से पीड़ित है. अल्पसंख्यकों के साथ एक के बाद एक मार-पिटाई के कई मामले लगातार सामने आ रहे हैं. जिनमें कभी मुस्लिमों को तो कभी ईसाईयों को हिंसा का शिकार बनाया जा रहा है. ताजा मामला मध्यप्रदेश के सतना से सामने आया है. जहां ईसाई समुदाय के लोगों के साथ भगवा गुंडों ने जमकर मारपीट किया. बजरंग दल सहित अन्य हिंदूवादी संगठनों के गुंडों ने धर्मांतरण का आरोप लगाकर ईसाईयों के साथ मारपीट की. बजरंग दल के कार्यकर्ताओं का आरोप है कि मिशनरी के सदस्य लालच और भय दिखाकर जबरन धर्म परिवर्तन करा रहे थे. वहीं इस मामले में पुलिस ने एंटी कन्वर्जन लॉ के तहत एक पादरी को गिरफ्तार कर लिया गया. साथ ही 30 से ज्यादा ईसाईयों को हिरासत में ले लिया है.

‘धर्म बदलने के लिए पांच हज़ार रुपये दिए’
धर्मेंद्र डोहर का आरोप है कि उन्हें ईसाई बनने के लिए पैसा ऑफर किया गया था. धर्मेंद्र डोहर के मुताबिक धर्मांतरण करने के लिए पांच हजार रुपये दिए गए. तालाब में स्नान कराया गया. साथ ही उसका नाम बदलकर धर्मेंद्र थॉमस किया और कहा गया कि अब ईसा मसीह की पूजा करना.
धर्म परिवर्तन के शक पर ईसाईयों पर हमला
फ़ादर अनीश ने आरोप लगाया कि ‘पुलिस की मौजूदगी में बजरंग दल के लोगों ने ईसाई लोगों की जमकर पिटाई की. साथ ही बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने मिशनरी के 42 सदस्यों को को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. इसके बाद रात को ही बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने एक कार में भी आग लगा दी.
हालांकि, इस पूरे मामले में पुलिस और प्रशासन बैकफुट पर नजर आ रहा है. प्रशासन ने कार को जलाए जाने की बात को सिरे से खारिज कर दिया. प्रशासनिक अफसरों का दावा है कि कार में आग कैसे लगी इस बात की जांच की जा रही है. वहीं इस दौरान पुलिस ने पादरी से बेहद ही आपत्तिजनक सवाल किये. उनसे सवाल किया गया कि आप केरल से यहां क्यों आते हो जबकि लोग यहाँ हिन्दू हैं. केवल हिंदुओं को ही परिवर्तित करते हो ? कश्मीर में आप मुसलमानों को ईसाई धर्म में परिवर्तित करने के लिए क्यों नहीं जाते?”

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक