मुलायम अखिलेश मायावती को रैली में एक साथ देख किसे हुई तकलीफ?

0
Want create site? With Free visual composer you can do it easy.

By-Ratnesh Yadav,Research Scholar,Ambedkar University,Lucknow

हाँ कल के ऐतिहासिक पल को देखकर मुट्ठीभर लोगो को तकलीफ़ हुई होगी। मैं तो कहता हुँ तकलीफ होना लाज़मी है क्योंकि उनके पूर्वजों ने दलित-पिछड़ो की राजनीति को कमजोर करने के लिये कड़ी मेहनत की थी।

समाज में दुश्मन कोई दूसरा था और हम आप सपा-बसपा को ही एक दूसरे का दुश्मन मान बैठे थे, माने भी न क्यों? जातिवादी व साम्प्रदायिक मीडिया हमें तोड़ने के लिये हर दिन नये प्रपंच रचती थी।

सपा-बसपा के लोग तो एक ही तो हैं, एक ही मेहनतकश, पशुपालक, कृषक समाज से तो हैं। फिर दुश्मनी क्यों?

आपसी मतभेद को खत्म करने के लिये अखिलेश जी का पहला क़दम ही निर्णायक साबित हुआ था। आज उसी का परिणाम है कि असम्भव सी चीज़ सम्भव हो गई।

समाजवादी पार्टी व बसपा के लोगो का नज़रिया एक दूसरे प्रति नफरत से सम्मान में बदल गया। अखिलेश जी ने पूरी मेहनतकश आवाम को अल्प समय में ही इतने क़रीब ला दिया कि आने वाले समय में हमारा समाज शोषण मुक्त हो जायेगा।

हमारी आने वाली पीढ़ी अखिलेश जी को बहुजन समाज के सबसे मज़बूत नायक के रूप में याद रखेगी।

Via-Ratnesh Yadav,Research Scholar,Ambedkar University,Lucknow

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक