वर्णिका के पिता पर समझौते का दवाब, 6 बार किया बराला ने फोन!

0
Want create site? With Free visual composer you can do it easy.

By: NIN Bureau

हरियाणा। चंडीगढ़ में आईएस की बेटी के साथ छेड़छाड़ के मामले में बीजेपी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं, हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष के बेटे पर लगे छेड़छाड़ के आरोप में बीजेपी सरकार पर विपक्ष भी हमलावर है, विपक्ष सुभाष बराला से प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा की मांग कर रहा है, बराला के बेटे की वजह से पूरी बीजेपी सरकार की जमकर किरकिरी हो रही है।

गौरतलब है कि जिस राज्य का यह मामला सामने आया है, उसी राज्य की बीजेपी सरकार ने सबसे पहले बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ अभियान का नारा दिया था। अब वहीं की बेटियां खुद को सुरक्षित महसूस नहीं कर रही हैं, अपराधियों में कानून का कोई खौफ नहीं है। 2014 में जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठे तो पीएम ने पहले भाषण बेटियों की सुरक्षा को लेकर बात कही थी, लेकिन दावे- वादे सब फेल नजर आ रहे हैं, आलम यह है कि सुरक्षा का दावा देने वाली पार्टी के लोगों पर ही ऐसे संगीन आरोप लग रहे हैं।

 

खबरों के मुताबिक IAS अफसर वीएस कुंडू ने कहा कि वारदात की रात उनके फोन पर हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला का 6 बार कॉल आया था. इसके बाद बीजेपी एक नेता ने उनको कॉल करके समझौते के लिए दबाव बनाया था. बीजेपी नेता कुंडू को पहले से जानते थे. उन्होंने बताया कि आरोपी बाराला का बेटा है, इसलिए वे समझौता कर लें.

 

वीएस कुंडू ने बताया कि बीजेपी नेता ने उनसे कहा कि पीड़िता और आरोपी दोनों एक ही जाति से हैं. इसलिए उनको समझौता कर लेना चाहिए. लेकिन उन्होंने समझौते से साफ इंकार कर करते हुए कहा कि आरोपी किसका बेटा है, इसकी उनको कोई परवाह नहीं है. उनको उनकी बेटी की चिंता है. उसके साथ गलत हुआ है. उसे इस मामले में जरूर न्याय मिलना चाहिेए.

पीड़िता के पिता ने यह भी कहा कि वारदात की रात वो अपने बेटी के साथ थाने पहुंचे थे. वहां उन्होंने पुलिस से आरोपियों के मेडिकल जांच की बात कही थी. करीब दो घंटे के बाद पुलिसवालों ने बताया कि विकास बराला और उसके साथ के मेडिकल जांच में नशे में होने की पुष्टि हुई है. उनकी मेडिकल टेस्ट हुए हैं, जबकि बाद में खुलासा हुआ कि आरोपियों ने सैंपल ही नहीं दिया.

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक