सस्ती पढ़ाई का हक मांगने पर जेएनयू छात्रों को पड़ा मंहगा ?

0
Want create site? With Free visual composer you can do it easy.

दिल्ली के JNU में छात्रों ने प्रशासन को लेकर जंग शुरू करदी है… छात्रो के हिसाब से सरकार JNU को बंद करने में जुटी है. साथ ही सरकार छात्रों की अवाज दबाने में लगी हुई है. जिसे लेकर छात्रों ने धरना प्रदर्शन किया… जहां पुलिस और छात्रों में जंग का महौल देखा जा सकता है. पुलिस छात्रों को आतंकवाद की तरहा मिटाने में जुटी हुई है. मानें युनिवर्सिटी जंग का मैदान बन गई है.

इसी को लेकर आज ट्वीटर पर भी काफी गरमा गरमी देखने को मिली. कई जाने माने हस्तियों ने छात्रो का पक्ष लेते हुए ट्वीट भी किया. प्रो. दिलीप मंडल लिखते है कि

तो वहीं The Dalit Voice ने भी सरकार पर तंज कसते हुए लिखा कि

The Dalit Voice ने छात्रो का साथ देते हुए दूसरे ट्वीट में लिखा

साथ ही दिलीप मंडल ने यह भी कहा कि

वहीं राजनेता तेजस्वी यादव का कहना है कि

दिल्ली की JNU में बढ़ी फीस को लेकर छात्रों का बवाल जारी है….. जिसे लेकर पुलिस और प्रदर्शनकारी छात्रों के बीच झड़प हो गई…. जेएनयू में मचे बवाल के पीछे छात्रों का आक्रोश मुख्य तौर पर फीस बढ़ोतरी के खिलाफ है. छात्रों का आरोप है कि कुलपति प्रो एम जगदीश कुमार ने जेएनयू को पूरी तरह प्राइवेट करने की मंशा से हॉस्टल की फीस 3000 तक बढ़ा दी है.

पहले सिंगल सीटर हॉस्टल का रूम रेंट 20 रुपये था अब बढ़ाकर 600 रुपये कर दिया गया है. पहले डबल सीटर हॉस्टल का रूम रेंट 10 रुपये था, जिसे अब बढ़ाकर 300 रुपये कर दिया गया है…. पहले पानी-बिजली फ्री थी, अब इसके भी चार्ज लगाने की बात की जा रही है. साथ में सर्विस चार्ज 1700 रुपये महीना अलग से लेने की बात है.

इसके अलावा जहां पहले मेस की सिक्योरिटी 5500 रुपये थी, जिसे अब इसे बढ़ाकर 12 हजार रुपये कर दिया गया है…. बात सिर्फ फीस की ही नहीं है, 11 बजे रात के बाद हॉस्टल से बाहर निकलने पर भी पाबंदी है. हॉस्टल के टाइम को भी तय करने की कवायद की जा रही है. इसके अलावा हॉस्टल के लिए ड्रेस कोड लागू करने की बात भी है. 29 अक्टूबर को इस प्रस्ताव को हॉस्टल मैनेजमेंट कमेटी में पास करवाने के लिए लाया गया, तभी से छात्र विरोध कर रहे हैं. फिलहाल सरकार को ये समझने की जरूरत है कि छात्रों का पड़ाई ज्यादा जरूरी है… क्या की जब देश पड़ेगा तभी आगे बढ़ेगा.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक