Home International Political उन्नाव रेप पीड़िता को न्याय दिलवाने के लिए 9 दिसम्बर को मैदान में उतरेंगे भीम आर्मी!
Political - Social - December 8, 2019

उन्नाव रेप पीड़िता को न्याय दिलवाने के लिए 9 दिसम्बर को मैदान में उतरेंगे भीम आर्मी!

एक तरफ बलात्कार की घटनाओं ने देश को झकझोर कर रख दिया है. हैदराबाद में एक बेटी से बलात्कार करने के बाद जलाकर हत्या करने के बाद. उन्नाव की बेटी ने भी शुक्रवार देर रात इस दुनिया को अलविदा कह दिया. लेकिन ये सभी घटनाएं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बेचैन क्यों नहीं कर रही हैं. दूसरे देशों के राष्ट्राध्यक्षों को जन्मदिन और चुनाव जीतने तक पर बधाई देने वाले मोदी ने इन बेटियों से बलात्कार और उनकी जलाकर हत्या करने वाली घटनाओं पर अभी तक कोई ट्वीट नहीं किया है.

उन्नाव रेप पीड़िता की दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई. इतनी बड़ी घटना दिल्ली में घटी, मगर पीएम मोदी शनिवार की सुबह झारखंड में मतदान करने की अपील कर रहे हैं. मोदी ने ट्वीट करके लिखा कि झारखंड विधानसभा चुनाव में आज दूसरे दौर का मतदान है.सभी मतदाताओं से मेरा आग्रह है कि वे अधिक से अधिक संख्या में मतदान कर लोकतंत्र के इस उत्सव को सफल बनाएं. पीएम मोदी की इस अपील पर कांग्रेस नेता अलका लांबा ने ट्वीट करते हुए लिखा झारखंड के हर उस पिता, हर उस भाई से आज कहना चाहूँगी. कि अगर अपनी बेटियों को सुरक्षित देखना चाहते हैं तो कभी भी BJP को वोट ना दें. यह सरकार बलात्कारियों को संरक्षण देने वाली पार्टी है प्रधानमंत्री मोदी जी ने चुप्पी साध रखी है. कुलदीप सेंगर चिन्मयानन्द और निहाल चंद इनके नेता हैं.

वही उन्नाव की बेटी को न्याय दिलाने के लिए बीते दिन कल शनिवार को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव विधानसभा के सामने धरने पर बैठ .यूपी में योगी सरकार को लताड़ते हुए कानून की लचर व्यवस्था पर कहा कि योगी के राज में कानून की धज्जियां उड़ गई हैं. मैं योगी से जानना चाहता हूं कि लड़कियों के सम्मान के लिए जो 1090 था उसको क्यों बंद कर दिया. बहरहाल भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आज़ाद ने उन्नाव घटना पर दुःख जाहिर किया और योगी सरकार की कार्यकारणी पर टिप्पणी की, ट्वीट कर कहा कि देश उन्नाव की एक बेटी जिंदगी की जंग हार गई रात 11:40 पर उसने आखरी सांस ली, कब तक बेबस होकर ऐसे दम तोड़ती रहेंगी बेटियाँ आखिर कसूर क्या था

उस बहन का वो बस न्याय चाहती थी. बाहरी योगी सरकार को जगाने के लिए 9 दिसम्बर को यूपी के प्रत्येक मुख्यालय पर भीम आर्मी आंदोलन करेगी.अब देखना ये होगा कि क्या उन्नाव की बेटी के साथ इंसाफ होगा. क्या उसके दोषी आरोपियों को सजा मिलेगी और अगर सजा मिलेगी भी तो किस तरह की मिलेगी. क्योंकि जिस तरीके से ट्वीटर पर ट्रेंड पर चल रहा है. #unnao hang brahmin rapist. क्योंकि पांचो आरोपी ब्राह्मण समाज से आते है और जो हमारे देश के पीएम है वो भी ब्राह्मण समाज से आते है तो क्या इन आरोपियों को फांसी की सजा होगी .वही अस मामले में बिहार के डीजीपी का कहना है कि जाति मजहब के नाम पर अपराधी का समर्थन करते हो. हीरो बनाकर माला पहनाते हो. जुर्म रोकना सिर्फ पुलिस का काम नहीं समाज का ठभी है. जब तक जनता नही जागेगी तब तक जुर्म नहीं रुकेगा. तो मेरी जनता से अपील है. आप भी महिलाओं के प्रति एपना फर्ज निभायो.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

डॉ. मनीषा बांगर ने ट्रोल होने के विरोधाभास को जताया. ब्राह्मण सवर्ण वर्ग पर उठाए कई सवाल !

ट्रोल हुए मतलब निशाना सही जगह लगा तब परेशान होने के बजाय खुश होना चाहिए. इसके अलावा ट्रोल …