Browsing Category

India

नितिन गडकरी के खिलाफ चुनाव लड़ेंगी डॉ. मनीषा बांगर

By-  अकील राजा लोकसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है। पूरे देश में इसे लेकर तमाम राजनीतिक प्रयास तेज हो गए हैं। इस बार के चुनाव की खासियत यह है कि इस बार वंचित तबके के वे लोग भी आ रहे हैं जो बुद्धिजीवी हैं और किसी राजनीतिक परिवार के सदस्य नहीं हैं। इनमें डॉ. मनीषा बांगर भी एक हैं जो नागपुर में पीपीआई-डी के टिकट पर चुनाव लड़ेंगी और नीतिन गडकरी को चुनौती देंगी। उनके द्वारा नागपुर से चुनाव लड़े जाने की घोषणा से नागपुर के बहुजन समाज के लोगों में खुशी की लहर दौड़ गई है। डॉ. बांगर बहुजनों, अल्पसंख्यकों और सिक्ख समाज के लोगों के बीच में…

8 वीं पास युवती ने बनाया 22,000 महिलाओं को आत्मनिर्भर

नमन: श्रीमती रूमा देवी कुमावत 8 वीं पास युवती ने बनाया 22,000 महिलाओं को आत्मनिर्भर । राजस्थान के बाड़मेर जिले में एक युवा महिला श्रीमती रूमा देवी कुमावत, जिसका विवाह महज 17 वर्ष की उम्र में हो गया था, वह आपनी जिजीविषा से परिस्थितियों से जूझ रही थी। वह बैग और कुशन कवर बनाती थीं लेकिन आय बहुत कम हो रही थी। https://www.youtube.com/watch?v=4xYQVlnilV4 गरीबी और विषम परिस्थितियों से मुकाबला करते हुए कुछ अलग करने का निश्चय किया। अपने गांव की निरक्षर महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिये दस महिलाओं का एक स्वयं सहायता समूह…

बज चुका है चुनावी बिगुल, देखिए कौन सी सीटों पर कब हैं चुनाव?

Published By- Aqil Raza  ~   लोकसभा चुनाव 2019 का चुनावी बिगुल बज चुका है। चुनाव आयोग ने रविवार शाम हुई प्रेस कांफ्रेंस में स्पष्ट कर दिया कि देश में आम चुनाव सात चरणों में संपन्न होंगे। 23 मई को मतगणना के साथ ही देश में नई सरकार तय हो जाएगी। देखिए किस सीट पर कब होंगे चुनाव। उत्तर प्रदेश-  80 सीट 11 अप्रैल: सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर 18 अप्रैल: नगीना, अमरोहा, बुलंदशहर, अलीगढ़, हाथरस, मथुरा, आगरा, फतेहपुर सीकरी 23 अप्रैल : मुरादाबाद, रामपुर, संभल, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा,…

परिनिर्वाण दिवस: SAVITRIBAI PHULE-AN IDEOLOGY

Published By- Aqil Raza By- Prof. Dr. Ratna Panvekar    ~ SAVITRIBAI PHULE-AN IDEOLOGY Savitribai was born in an era when women were treated as badly as animals. The social structure was so inhuman that women did not had any scope for education nor any freedom. She was born at Naigaon Taluka Khandala district Satara on 3rd January 1831. Her mother's name was Lakshmibai and her father was a  Patil of that village and fondly called as Khandoji Nevase Patil.  Savitribai was married with Jyotirao Phule in 1940. At the time of…

महिला दिवस पर इन्हें भी याद कर लीजिए ….

Published By- Aqil Raza By- Manish Ranjan केरल के त्रावणकोर के ब्राह्मण राज्य में गैरब्राह्मण महिलाओं को स्तन ढकने की मनाही थी साथ ही महिलाओं पर स्तन टैक्स लगाया जाता था. वे बिना टैक्स चुकाए अपने नवजात शिशु को अपने ही स्तन से दूध नही पिला सकतीं थीं. केरल के चेर्थाला की गरीब महिला नांगेली के पास टैक्स चुकाने के लिए पैसे नही थे और जब वे माँ बनीं तो अपने ही नवजात शिशु से दूर कर दी गईं . तो विरोध स्वरुप उनने अपने स्तन काटकर टैक्स अधिकारियों को दे दिये. https://www.youtube.com/watch?v=UbIuAa0zcBM इसके बाद उनकी मौत हो गई. उनका पति…

भारत बंद का असर फेल मानने वाले देखें देश के कितने राज्यों में उमड़ा बहुजनों का जनसेलाब

Published by- SADDAM KARIMI BY-  JD CHANDARPAL  लो अब 200 पॉइंट रोस्टर आन्दोलन से यह भी तय हो गया कि... जब तक बहुजन अपनी  सरकार नहीं बना लेते..तब तक एकजुट होकर लोकतांत्रिक या संविधानिक अधिकारों को बचाने के लिए रास्तो पर ही उतरना पड़ेगा...कुछ बुझे की नहीं...बार बार जन आन्दोलन करना होगा, भारत बंद करना होगा चलो... अभी तो यही सही मगर कब तक....यह कलम-कसाई षड्यंत्रकारी है…फरेबी है जब तक वे  सत्ताधारी रहेंगे षड़यंत्र का जाल बुनते रहेंगे और बहुजन इसी तरह जाल में फंसते रहेंगे... जन आन्दोलन करते रहेंगे...इसका समाधान...फुले के रणनीतिक…

International Women’s day: भारतीय समाज, बहुजन महिला का जीवन और मुक्ति का मार्ग

Published by- Aqil Raza By- Dr. Manisha Bangar     ~ अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर -- #आजकाबहुजन_विचार भारतीय समाज बहुजन महिला का जीवन और मुक्ति का मार्ग --शिक्षा , आर्थिक स्वालंबन और ब्राह्मणवादी व्यवस्था के खिलाफ संघठित संघर्ष से ही बहुजन महिला अपनी गुलामी की जंजीरे तोड़ पायेगी :-- कहने की आवश्यकता नहीं है कि महिलाओं की दासता केवल यहाँ पनप रही ब्राह्मणवादी विचारधारा से है जो सहूलियत के अनुसार संस्कृति या परंपरा के नाम पर खुद के लिए आहार और पोषण प्राप्त करती रही और इस बहाने खत पानी न मिलने पर धर्म के नाम पर दिमागों पर कोड़े…

जिस भी सो कॉल्ड महान पर्सनालिटी से आप प्रभावित है।

जिस भी सो कॉल्ड महान पर्सनालिटी से आप प्रभावित है, लेकिन जब पता चले कि वो यौन उत्पीड़न कर रहा है/ किया है तो उसे खारिज करिए. …........ क्या करें, जब ये पता चले कि शानदार, मानवीय और प्रगतिशील फिल्में, किताबें, नाटक, पेंटिंग, कविताएं रचने वाले का निजी जीवन यौन अपराधों से कलंकित है. बोहेमियन राप्सोडी अपने समय के रॉक म्यूजिक सुपरस्टार फ्रेडी मर्करी (1946-1991) की जिंदगी की कहानी है. वे क्विन नाम के बैंड के लिए गाते थे और बोहेमेयिन राप्सोडी इसी ग्रुप का कंपोजिशन है. इस ग्रुप ने अपने समय में जो म्यूजिक बनाया, उसकी लोकप्रियता की…

अभिनन्दन का बहुत बहुत अभिनन्दन

Published by- Aqil Raza By- Dr. Manisha  Bangar लेकिन, एक सेल्यूट तो हेनरी ड्यूनेन्ट को भी बनता है, याद करो जिनीवा करार, स्विस नागरिक एवम् उद्योगपति हेनरी ड्यूनेन्ट ही तो थे जिनीवा करार के शिल्पकार, मानवाधिकार आन्दोलनके नेता। https://www.youtube.com/watch?v=IE-tBcVGFls&t=114s हेनरी ड्यूनेन्ट ने1859 में सोल्फेरिनो की लड़ाई में जो देखा उनसे उनकी रूह काप गयी, युद्धभुमि पर हजारो जख्मी सैनिक तड़प रहे थे, ना उनको पानी मिल रहा था ना ही दवाई, बस तड़प रहे थे ऐसे जैसे की मौत का इंतजार कर रहे हो... इन सैनिको के लिए व्यक्तिगत तौर पर जो…

ملک کے حالات اور صحافت

Published by- Aqil Raza By- Naeem  ملک! بلکہ سرحد کے حالات سے ان دنوں کون واقف نہيں ہے۔ اتنا واقف تو شايد سرحد والے بھی نہ ہوں جتنا عوام ہے۔ اور اسکا سارا کا سارا کريڈٹ جاتا ہے ہمارے ملک کی ميڈيا کو۔ حالات پاکستان کی ميڈيا کے بھی يہی ہيں۔ سرجکل اسٹرائک کو نئے نئے ويڈِيو گيمس کی کلِپنگ سے تشبيہ دی جا رہی ہے۔ ميڈيا جنگ کو ايسے دکھا رہا ہے جيسے يہ بچّوں کا کھيل یا تماشا ہو۔ ايک طرف دونوں ملکوں ميں لوگ جو عام لوگ ہيں' موم بتّياں جلا رہے ہيں امن کے نام کی' محبّت کے نام کی تو دوسری طرف ميڈِيا لوگوں ميں زہر بھرنے ميں کوئی کسر نہيں…