ब्राउजिंग श्रेणी

National

अब ज़िला सरकारी अस्पतालों को बेचने की तैयारी में मोदी सरकार, नीति आयोग ने जारी किया दस्तावेज़

भारतीय रेलवे के कुछ हिस्सों, एयर इंडिया और भारत पेट्रोलियम को बेचने के बाद अब केंद्र की मोदी सरकार ज़िला सरकारी अस्पतालों को भी निजी हाथों में सौंपने की तैयारी में जुट गई है। केंद्र की प्रमुख थिंक टैंक नीति आयोग ने पीपीपी मॉडल के तहत निजी मेडिकल कॉलेज से जिला अस्पतालों को जोड़ने की योजना’ को लेकर 250 पन्नों का दस्तावेज जारी किया है। खबरों के मुताबिक, अगर सरकार की ये योजना लागू हो जाती है तो निजी व्यक्ति या संस्थान मेडिकल कॉलेज की स्थापना और उसे चलाने के लिए भी जिम्मेदार होंगे। इसके अलावा इन मेडिकल कॉलेजों से सेकेंडरी

महाराष्ट्र: जब सत्ता के लिए राजनीतिक पार्टियां खेल रही थीं सियासी खेल, 300 किसानों ने कर ली खुदकुशी

महाराष्ट्र में जब राजनीतिक पार्टियां सत्ता के लिए सियासी खेल खेल रही थी, उसी दौरान राज्य के तीन सौ किसानों ने खुदकुशी कर ली। चार साल में ऐसा पहली बार हुआ जब इतनी ज्यादा संख्या में एक महीने में किसानों ने खुदकुशी की। साल 2015 में कई महीनों में ऐसा हुआ जब खुदकुशी करने वाले किसानों की संख्या 300 या उसके पार हो गई थी लेकिन इसके बाद यह रफ्तार कम हुई। लेकिन बीते साल नवंबर महीने में जब राज्य की सत्ता पर काबिज होने के लिए भाजपा, शिव सेना, कांग्रेस और राकंपा के बीच नूरा-कुश्ती हो रही थी, उसी महीने में 300 किसानों के आत्महत्या के

पेंटागन का खुलासा- राष्ट्रपति ट्रम्प ने दिया था आदेश, कासिम सुलेमानी को कर दो ढेर

इराक की राजधानी बगदाद में हुए अमेरिकी हमले में ईरान के टॉप मिलिट्री कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत का आदेश अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दिया था। अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने अपने एक बयान में इस बात की जानकारी दी है। शुक्रवार को पेंटागन ने एक बयान जारी कर कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने “विदेश में अमेरिकी कर्मियों की सुरक्षा के लिए स्पष्ट रक्षात्मक कार्रवाई” करते हुए ईरान के रेवोल्यूशनरी गार्ड्स कमांडर कासिम सुलेमानी को मारने का आदेश दिया था। अमेरिका के डिफेंस डिपार्टमेंट पेंटागन ने कहा है कि “अमेरिकी

वास्तविक “महिला दिवस शिक्षक दिवस” की शुभकामनाएं

आज सावित्रीबाई फुले का जन्मदिन है, भारत को सभ्य बनाने वाली एक महान महिला को याद करने का दिन है। सावित्रीबाई फुले वो महिला हैं जिन्होंने ब्राह्मणों के द्वारा कीचड़ और गंदगी फेंके जाने के बावजूद ओबीसी और दलित लड़कियों के लिए स्कूल खोला। सावित्रीबाई वो महिला हैं जो फूल और सब्जियां बेचकर, गद्दे, रजाई और कपड़े सिलकर अपना परिवार चलातीं थीं। सावित्रीबाई जब ओबीसी बहुजनों की बेटियों को पढ़ाने जाती थीं तब दो साड़ियाँ लेकर निकलती थीं। रास्ते मे ब्राह्मण उनपर कीचड़, गोबर आदि फेंकते थे। सावित्रीबाई स्कूल पहुंचकर साड़ी बदलकर बच्चों

कोटा में जाकर मृतक बच्चों की ‘मांओं’ से मिलें, UP में नाटकबाजी ना करें प्रियंका गांधी; मायावती का कांग्रेस पर हमला

राजस्थान कोटा के जेके लोन अस्पताल में साल 2019 के दिसंबर महीने में मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़कर 100 हो गई है। बच्चों की मौत पर राजनीति शुरू हो गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कोटा में पिछले 48 घंटे में 9 और बच्चों की मौत हुई है. इसके बाद यह आंकड़ा 100 के पार हो गया है. राजस्थान में फिलहाल कांग्रेस की सरकार है इस वजह से बीजेपी से लेकर दूसरी पार्टियां कांग्रेस और सीएम अशोक गहलोत पर सवाल उठा रहे हैं. इसी को देखते हुए बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने प्रियंका गांधी से सवाल करते हुए पहली बार प्रियंका पर निशाना साधते हुए

‘जो संन्यासी को जनकल्याण से रोकेगा, उसे दंड मिलेगा’- प्रियंका गांधी को सीएम योगी आदित्यनाथ का जवाब

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सोमवार को ”बदला” लेने सम्बन्धी टिप्पणी पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि भगवाधारी योगी उस हिन्दू धर्म को अपनाएं जिसमें हिंसा और बदले की भावना की कोई जगह नहीं है। सरकार ने फौरन पलटवार करते हुए इस पर कड़ी आपत्ति की और कहा कि कांग्रेस महासचिव ने मुख्यमंत्री के साथ-साथ भगवा को भी आरोपित कर दिया है। प्रियंका गांधी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने बयान दिया कि वह बदला लेंगे, उस बयान पर पुलिस प्रशासन कायम है। इस देश के इतिहास में शायद पहली बार मुख्यमंत्री ने

गहलोत जी, ‘निरोगी राजस्थान’ की बात से क्या बच्चों की मौत रुक जाएगी?

राजस्थान के कोटा में जे.के. लोन मातृ एवं शिशु चिकित्सालय एवं न्यू मेडिकल कॉलेज नाम के एक सरकारी अस्पताल में 48 घंटों में 10 छोटे बच्चों की मौत के बाद हालाँकि राज्य सरकार ने अस्पताल के सुपरिटेंडेंट को हटा दिया और मामले की जाँच के आदेश दिए हैं। इस अस्पताल में एक माह में 77 बच्चों की मौत हो चुकी है। यह सब ऐसे माहौल में हो रहा है जब एक तरफ़ प्रदेश सरकार ने 'निरोगी राजस्थान' की मुहिम शुरू की है और 'राइट टू हेल्थ' देने की तैयारी कर रही है। विपक्ष सवाल उठा रहा है तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कहते हैं कि पिछले छह सालों में इस तरह से

CM योगी की ‘बदले’ वाली कार्रवाई पर बोलीं प्रियंका- भारत की आत्मा में ‘बदला’ जैसे शब्द की जगह नहीं

उत्तर प्रदेश में संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में प्रदर्शन करने वालों से पुलिस जिस तरह पेश आ रही है, वो सवालों के घेरे में है। मानवधिकार कार्रकर्ताओं से लेकर देश की कई जानी मानी हस्तियां पुलिस की इस कार्रवाई को अमानवीय बता चुके हैं। अब कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदर्शनकारियों के प्रति पुलिस के रवैये को बदले की कार्रवाई बताया है। प्रियंका गांधी ने सोमवार को लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि उत्तर प्रदेश की पुलिस इस वक्त मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘बदला’ लेने वाले बयान पर काम कर रही है। उन्होंने

CAA, NRC के विरोध में रंगोली बनाना पड़ा भारी, एक महिला को आधा दर्जन पुलिसकर्मियों ने घेरा, वायरल हो रहा वीडियो

संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्ट्रर ऑफ सिटीजन (एनआरसी) के खिलाफ लोग विरोध दर्ज करने के लिए नए-नए तरीके अपना रहे हैं। कुछ लोग पोस्टर लेकर अपनी आवाज बुलंद कर रहे हैं तो कुछ लोग नारेबाजी के जरिए। इसी क्रम में चेन्नई में एक महिला ने रंगोली बनाकर सीएए और एनआरसी का विरोध किया। शांतिपूर्ण तरीके से विरोध कर रही महिला को आधा दर्जन पुलिसकर्मियों ने घेर लिया। रंगोली में ‘नोट टू एनआरसी’ और ‘नो टू सीएए’ लिखा गया था। इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। मामला दक्षिण चेन्नई के बेसेंट नगर इलाके का है। वीडियो

NRC से खतरे में सभी धर्म के लोगCAA के खिलाफ हिंसा और प्रदर्शन को लेकर विदेशी राजनयिकों ने जताई चिंता

चुनावी रणनीतिकार और जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने National Register Of Citizens (एनआरसी) को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की चुप्पी पर सवाल उठाए हैं। न्यूज एजेंसी ‘ANI’ से बातचीत करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि ‘अगर कांग्रेस अध्यक्ष एनआरसी के मुद्दे पर एक भी बयान देतीं तो इससे काफी चीजें साफ हो जातीं…धरना और विरोध प्रदर्शनों में हिस्सा लेना यह सब ठीक है…आखिर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की तरफ से एनआऱसी को लेकर एक भी बयान क्यों नहीं आय़ा? यह मेरी समझ से बाहर है।’ प्रशांत किशोर का मानना