ब्राउजिंग श्रेणी

Hindi

कांशीराम के जीवन का संघर्ष कैसा रहा ?

By- Mahendra Yadav 1987-88 के आसपास की बात है। न चुनाव हो रहे थे, न मध्यप्रदेश में उस समय अक्सर होने वाले आरक्षण विरोधी आंदोलन जैसी कोई घटना हो रही थी। छतरपुर जिले में कांशीराम की मेला ग्राउंड में एक सामान्य सभा होने जा रही थी। अचानक महाराजा कॉलेज के सवर्ण छात्रों की बड़ी भीड़ जमा होने लगी। नारे लगाने लगी कि कांशीराम की सभा नहीं होने देनी है। कुछ दूरद्रष्टा आंदोलनकारी अंदेशा जताने लगे थे कि एक दिन यही आदमी देश पर शासन करेगा, इसलिए इसे अभी दबाना ज़रूरी है। सभा के आयोजक गिने-चुने संसाधनविहीन थे। सभा के लिए कई गांवों में

आप कांशीराम जी को कितना जानते हैं ?

BY- प्रेमकुमार मणि 15 मार्च मशहूर दिवंगत नेता कांशीराम का जन्मदिन है . 1934 में पंजाब प्रान्त के रोपड़ या रूपनगर जिलान्तर्गत खासपुर गांव में आज ही के दिन उनका जन्म हुआ था . अनेक कारणों से कांशीराम जी केलिए मेरे मन में अथाह सम्मान है . उनसे एक छोटी -ही सही मुलाकात भी है ,लेकिन यह महत्वपूर्ण नहीं है . महत्वपूर्ण है उनकी वह राजनीति ,जिसने कई बार असंभव को संभव कर दिया . भारत के सबसे बड़े प्रान्त उत्तरप्रदेश ,जो गाय,गंगा,गीता के द्विजवादी विचार -चक्र में हमेशा बंधा -सिमटा रहा में अम्बेडकरवाद की धजा उन्होंने ऐसी फहराई कि

Bahujan activists grieve over the sad demise of Adivasi leader Abhay Flavian Xaxa

Today we lost an incredible person. Abhay Flavian Xaxa, a brother, Adivasi rights activist and organic intellectual whose writings and activism paved a new lens to look at the question of Adivasi rights,land, territory, autonomy, cultural identity and resources. His poem " I am not your data, I am not your entertainment in Indian Habitat centre confronted the "mainstream" fetish of looking at Adivasis as field work, as exotic bodies, as mere datas, as tableaus in republic day parades, or as entertainers. His poem "

MP में सियासी हलचल, नोटिस के बाद भी पेश नही हुए 6 विधायक

मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार पर सियासी संकट के बीच काले बादल छटने का नाम ही नही ले रहे है. तमाम कवायदों और प्रयासों के बाद भी सरकार पर कारे बादल उल्टा लगातार घने होते जा रहे है. कांग्रेस से 22 विधायकों के इस्तीफा देने के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने 6 विधायकों को व्यक्तिगत तौर पर उपस्थित होकर इस्तीफा देने को कहा था. इसके साथ ही अपने इस्तीफे की वजह भी बताने की बात कही थी कि इस्तीफा किसी के दबाव में आकर दिया है या स्वेच्छा से दिया गया है. वहीं विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति ने शुक्रवार को कहा कि कांग्रेस से इस्तीफा

होर्डिंग विवाद पर योगी सरकार की साजिश, नया अध्यादेश जारी!

योगी सरकार ने लखनऊ में होर्डिंग मामले पर इलाहबाद हाईकोर्ट की सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. लेकिन सुप्रीम कोर्ट की ओर से हाईकोर्ट के आर्डर पर स्टे नही लगाया गया है. योगी सरकार ने आंदोलन के दौरान सरकारी या निजी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों से वसूली के लिए नियम बनाने का फैसला लिया है. योगी कैबिनेट ने शुक्रवार को यूपी रिकवरी फॉर डैमेज टू पब्लिक एंड प्राइवेट प्रॉपर्टी अध्यादेश-2020 को मंजूरी दे दी है. इस अध्यादेश को मंजूरी देनी की वजह सीएए हिंसा के दौरान संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों से भरपाई की

कोरोना का बरपा कहर, कर्नाटक के बाद अब दिल्ली में मौत

चीन में कोरोना वायरस का कहर बरपने के बाद अब भारत में भी इसकी शुरुआत हो चुकी है. भारत में कोरोना वायरस से कुल 2 लोगों की मौत हो चुकी है. इसके साथ ही दिल्ली में पहली मौत की खबर सामने आई है. एक 68 साल की बुजुर्ग महिला को कोरोना कोविड 19 से संक्रमित पाया गया. दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में महिला की मौत कोरोना वायरस और बाकी स्वास्थ्य संबंधित बीमारी से हुई है. केंद्र सरकार की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है कि कोरोना वारस के साथ-साथ 68 साल की ये महिला पहले से डायबीटीज़ और हाइपरटेन्शन जैसी स्वास्थ्य समस्याओं से

CM ने गृहमंत्री को घेरा, कहा- मेरे पास भी कागज़ात नही!

दिल्ली विधानसभा में शुक्रवार को NRCऔर NPR को लेकर गूंज रही. जहां सीएम केजरीवल ने गृहमंत्री शाह को जमकर घेरा औरआरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी रहा. इस दौरान सीएम केजरीवाल ने एनआरसी और एनपीआर के खिलाफ प्रस्ताव पास किया. साथ ही सीएम केजरीवाल ने केंद्र सरकार से इसे दिल्ली में लागू नही करने की अपील की है. बता दें कि एनआरसी और एनपीआर का यह प्रस्ताव दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने रखा था. जिसका समर्थन करते हुए अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार पर एक से एक सवाल दागे. दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल ने कहा कि देश में पहले ही

योगी सरकार के होर्डिंग पर पलटवार में क्यों लगे सेंगर-चिन्मयानंद के पोस्टर!

यूपी में योगी सरकार और सपा सरकार के बीच में सियासत गर्मा गई है. जिसके बाद एंटी-सीएए प्रदर्शनकारियों के नाम, फोटो और उनके पते के साथ लगाए गए पोस्टर के ठीक सामने बलात्कार के आरोपी चिन्मयानंद, बीजेपी नेता बीजेपी नेता और उन्नाव कांड के रेप का दोषी कुलदीप सिंह सेंगर की फोटो वाला पोस्टर लगाया गया है. यह पोस्टर उस होर्डिंग के जवाब में लगाए गए है जो सीएए के खिलाफ हुए प्रदर्शन के दौरान हिंसा फैलाने वाले 57 लोगों के पोस्टर लखनऊ में योगी सरकार ने लगवाए थे. जो प्रदर्शनकारियों की निजी जानकारियां उजागर कर रही थी जिन्हें सार्वजनिक

उन्नाव कांड: सेंगर को 10 साल कैद, पीड़िता को देना होगा 10 लाख मुआवजा

उन्नाव कांड के आरोपी और बीजेपी से निकाले हुए नेता कुलदीप सिंह सेंगर को अदालत ने दोषी करार दिया है. पीड़िता की पिता के हत्या के आरोप में अदालत ने आज सेंगर को 10 साल के कैद की सजा सुनाई है. इसके साथ ही अदालत ने सेंगर और उसके भाई को पीड़िता के परिवार को 10-10 लाख मुआवजे देने का आदेश दिया है. बता दें कि उन्नाव रेप पीड़िता के पिता की 9 अप्रैल 2018 में न्यायिक हिरासत में मौत हो गई थी. और इस मामले में सीबीआई ने सख्त जांच शुरु की थी जिसके बाद कुलदीप सिंह सेंगर समेत अन्य लोगों के खिलाफ हत्या के आरोपों की कड़ी जांच हुई. वहीं इस

22 विधायकों को स्पीकर का नोटिस जारी, क्या है इस्तीफे की वजह!

मध्यप्रदेश में 22 विधायकों के इस्तीफा देने से कमलनाथ सरकार पर संकट के बादल छाये हुए है. पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से इस्तीफा दिया और अब उनके समर्थक भी उनकी राह पर चल पड़े है. लेकिन इन सबके बीच विधानसभा एनपी प्रजापति ने इनके इस्तीफे अस्वीकार कर दिए है. एनपी प्रजापति ने सभी विधायकों को व्यक्तिगत रुप से मौजूद रहने के नोटिस जारी किए है. प्रजापति ने सभी 22 विधायकों को शुक्रवार तक पेश होने के आदेश दिए है. विधानसभा स्पीकर ने छह विधायकों को शुक्रवार, 7 विधायकों को शनिवार और बाकी के 9 विधायकों रविवार को उपस्थित