ब्राउजिंग श्रेणी

Hindi

सोनभद्र नरसंहार पीड़ितों के लिए मायावती का बड़ा ऐलान

सोनभद्र में 17 जुलाई को जमीन विवाद को लेकर नरसंहार के बाद जो देश की गरमाई सियासत सीएम योगी के दौरे के बाद भी थमने का नाम नहीं ले रही है। घटना के बाद से लगातार वहां पार्टी नेताओं के पहुंचने का सिलसिला जारी है। इसी कड़ी में बहुजन समाज पार्टी के नेताओं ने उम्भा गांव का दौरा करके मृतकों के परिजनों के साथ उनका दुःख साझा किया। वहीं BSP सुप्रीमों मायावती के निर्देश पर विधानमंडल दल के नेता लालजी वर्मा और प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा पीड़ितों से मिलने पहुंचे। वहीं लाल जी वर्मा ने कहा कि मृतक परिवार को 50 लाख रुपये और 10 बीघा जमीन…

मॉब लिंचिंग पीड़ितों से मिलकर क्या बोले नसीरुद्दीन शाह,जानिए

बॉलीवुड एक्टर नसीरुद्दीन शाह अपने बयानों को लेकर कई बार चर्चा में आ चुके हैं। बेबाकी से अपनी बात रखने वाले एक्टर नसीरुद्दीन शाह एक बार फिर सुर्खियों में आ गए हैं। दरअसल, नसीरूद्दीन शाह हाल ही में मॉब लिंचिंग में मारे गए लोगों के परिजनों से मिले। रविवार को हुई इस मुलाकात में नसीरुद्दीन शाह ने परिजनों को दिलासा दिया। नफरत को अपराधों में राज्य की सहभागिता' को लेकर मुंबई के दादर में आयोजित राष्ट्रीय सम्मेलन में नसीरुद्दीन शाह ने कहा। पीड़ित और उसके परिजनों को मॉब लिंचिंग में काफी कुछ भुगतना पड़ता है।…

बिहार में 50 साल पहले घट चुकी है सोनभद्र जैसी घटना।

50 साल पहले ऐसी ही घटना घटी थी बिहार में जैसी आज सोनभद्र उत्तरप्रदेश में घटी है। 24 मई 1967 को पूर्णिया जिले के रूपसपुर चंदवा में 14 आदिवासी बटाईदारों की हत्या कर दी गई थी। यह बिहार का पहला बड़ा नरसंहार था। एक भूमि विवाद को लेकर आदिवासियों को उनके झोपड़ों सहित आग के हवाले कर दिया गया था। तब के कांग्रेस के बड़े नेता और विधानसभाध्यक्ष रूपनारायण सिंह का नाम आया था इस कांड के मास्टरमाइंड के रूप में ...खैर। जमींदार घराने से आने वाले विन्देशरी प्रसाद मंडल तब खांटी कांग्रेसी हुवा करते थे, पर आदिवासियों पर हुवे इस नृशंस अत्याचार के…

सोनभद्र:आदिवासियों का नरसंहार, क्या नेताओं, अधिकारियों और ताकतवर लोगों की मिली-भगत?

By- सिद्धार्थ रामू ~ सोनभद्र में आदिवासियों का नरसंहार, कुछ नहीं कर सकते दो बूंद आंसू तो बहा ही लीजिए। वे भी आपके अपने ही हैं। थोड़े देर के लिए ही सही उन्हें अपना मान लीजिए। जान लीजिए, देख लीजिए कितनी निर्ममता से उन्हें गोलियों से भूना गया है। कैसे एक महान आईएएस अफ़सर ने उनके खेत, अपनी बीबी और मां के नाम कराया। कैसे उसे एक बर्बर प्रधान को बेचा। https://www.youtube.com/watch?v=Nc80yxcTlbA&t=99s क्या यह सबकुछ नेताओं, अधिकारियों और ताकतवर लोगों की मिली-भगत के बिना हो सकता था। वक़्त निकाल कर ताकतवर लोगों के असली चेहरे को…

सोनभद्र नरसंहार कांड का सच

बनारस से सटे सोनभद्र जनपद में 16 जुलाई 2019 को दबंग भूमाफिया ने अवैध तरीके से आदिवासियों की जमीन हथियाने के लिए खूनी खेल खेला। हथियारबंद 300 लोगों ने निर्दोष वनवासियों पर करीब आधे घंटे तक अंधाधुंध फायरिंग की। इस घटना में 10 वनवासी मौके पर मारे गए और 25 से ज्यादा अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए। बड़ी बात यह है की घटना के समय वनवासियों ने सोनभद्र के एसपी व कलेक्टर से लेकर सभी आला अफसरों को फोन किए। सभी के मोबाइल बंद मिले। 100 डायल पुलिस आई, पर तमाशबीन बनी रही। इस पुलिस के सामने ही चार वनवासियों को गोलियों से छलनी किया गया। घोरावल…

सोनभद्र में आदिवासियों की हत्या मैला आँचल की नजर से:

सोनभद्र में आदिवासियों की हत्या पिछड़ी जाति से आने वाले गुर्जरों ने की है। मैला आँचल ब्राह्मणवाद के इस खेल को बखूबी चिह्नित करता है कि कैसे अपने वर्गीय हित में पिछड़ी और दलित जातियों को वर्गशत्रु के विरुद्ध इस्तेमाल किया जाता है। 2005 के नया ज्ञानोदय के इस लेख में इसका जिक्र मैंने किया था। आपस में लड़ने और प्रतिस्पर्धा करने वाली गांव की सभी जातियां संथालो के खिलाफ एकजूट हो जाती हैं। कई संथाल मारे जाते हैं। मैला आँचल में जाति, वर्ग और जेंडर संबंध पर मेरे लेख का एक अंश: वर्गीय संकट के समय कायस्थ, राजपूत मिलकर पंचायत का षड़यंत्र…

पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर ICJ ने लगाई रोक।

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव से जुड़े मामले में इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस(आईसीजे) ने बुधवार को अपना फैसला सुनाते हुए जाधव की फांसी पर पुनर्विचार करने को कहा है। भारत के हक में फैसला सुनाते हुए इंटरनेशनल कोर्ट ने जाधव को कांस्युलर एक्‍सेस देने का आदेश भी दिया है। लेकिन आईसीजे के इस फैसले को पाकिस्तान अपनी जीत बता रहा है। भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को 2016 में बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया था और पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने 2017 में उन्हें जासूसी और आतंकवाद के आरोप में मृत्युदंड की सजा…

बीजेपी की घिनौनी राजनीति, स्कूली छात्रों को दिला दी सदस्यता!

भले ही हमारे देश को एकता में अनकेता का देश कहा गया हो लेकिन वो धरातल पर दिखता नजर नहीं आ रहा हैं। हिन्दू मुस्लमान पर राजनीति हो रही हैं, कब्रीस्तान शमशान पर राजनीति हो रही हैं, अली बजरंगबली पर राजनीति हो रही है। लेकिन अब स्कूली बच्चों पर राजनीति होने लगी हैं। इतना ही नहीं अब स्कूली बच्चों को बीजेपी की सदस्ता दिलाया जा रही हैं।बीजेपी विधायक सुशील सिंह ने स्कूल पहुंचकर छात्रों को सदस्यता दिलाई। दरअसल वाराणसी के सैयदराजा गांव से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया। सैयदराजा में बीजेपी विधायक सुशील सिंह ने नेशनल इंटर कॉलेज में…