ब्राउजिंग श्रेणी

Politics

CAA पर सुप्रीम कोर्ट के जज का बड़ा ऐलान! मोदी परेशान

सरकार को बोलिये कि इन बच्चों को भी डरा दे, नहीं तो कल ये भी बेखौफ आपके खिलाफ आवाज बुलंद करेंगे। सबको मार दीजिये फिर लाशों को नागरिकता देकर वोट ले लीजियेगा। जब आने वाली पीढ़ियाँ मुझसे सवाल करेंगी कि जब सच कहना सबसे मुश्किल था, तब तुम क्या कर रहे थे. मैं कहूँगा कि सारा जोख़िम उठाकर वह सच बोल रहा था जो बोलना चाहिए था. सत्ता ही नहीं, मौसम भी डीयू के आन्दोलनकारी इंक़लाबियों का इम्तेहान ले रहा था. इनके नारों ने सबका हिसाब दिया. नागरिकता संसोधन कानून को लेकर पूरे देश उबल रहा है. जगह जगह पर विरोध प्रदर्शन हो रहा है. इसी कड़ी

दिल्ली पुलिस का JNU पर हमले के पीछे ABVP के गुंडों को नजरअंदाज करना

BY: Darshan Mondkar नकाबपोश गुंडों द्वारा जेएनयू पर हमले से पहले और उसके दौरान हिंसक गतिविधियों के समन्वय के लिए एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया था। डब्ल्यूए समूह को "यूनिटी अगेंस्ट लेफ्ट" कहा जाता था और लोग इस बात पर चर्चा कर रहे थे कि जेएनयू पर हमले की योजना कैसे बनाई जाए, किस गेट से और यह खबर भी दोहराई गई कि किसकी पिटाई की जा रही थी। इस WA समूह में 18 Admins थे। मेरे मित्र आनंद मंगले ने उस समूह में घुसपैठ करने और स्क्रीनशॉट लेने में कामयाबी हासिल करने के लिए सभी 18 नंबरों के रिकॉर्ड को रिकॉर्ड में लिया है। और जो

JNU में कैसे हुई हिंसा? छात्रों और रिपोर्टर ने बताई ‘आंखों देखी’

हम लगभग 8.30 बजे जेएनयू मुख्य द्वार पर पहुँचे। जेएनयू मेन गेट तक जाने वाली बेर सराय चिल्ड्रन पार्क (यानी बाबा गंगनाथ मार्ग) की सड़क पूरी तरह से अंधेरी थी। हमने देखा कि उस सड़क पर सभी स्ट्रीट लाइट को बंद कर दिया गया था। मुख्य गेट के पास पुलिस बल की भारी तैनाती थी। साथ ही पुलिस कम से कम सौ गुंडों के साथ खड़ी थी, जिनमें से कई ने लाठियां बरसाईं। उन्होंने मुख्य द्वार को अवरुद्ध कर दिया था, जेएनयू को नक्सल विश्वविद्यालय कहने के नारे लगा रहे थे, भारत माता की जय का नारा लगा रहे थे। गोल्लि मारों सौलन को। नारे लगाए जा रहे थे जिससे

जामिया के बाद अब जेएनयू के गर्ल्स हॉस्टल में गुंडों की तानाशाही

BY: Kanaklata Yadav आज शाम में हम लोग साबरमती ढाबे पर इकट्ठा थे, मुझे बाहर से खबर मिली कि बाहर बहुत से लोग मार पीट करने के लिए इकट्ठा हैं, काफी लोग कैंपस में भी घुस चुके हैं और आज रात में कुछ भी हो सकता है, आप लोग बच कर रहिये। हम लोग ये सब सुन ही रहे थे और जेएनयूटीए के पीस मार्च में शामिल होने वाले थे। हम और हमारे कई साथी साबरमती ढाबे पर चाय पी रहे थे, मुझे बाथरूम जाना था तो मैं साबरमती होस्टल में चली गई। बाथरूम के अंदर ही मुझे बाहर की आवाजें सुनाई देने लगीं, लोगों के चीखने भागने, गली गालौज और बदहवास भागती लड़कियों की

CAA पर BJP सांसद की धमकी- इस कानून को लागू नहीं करने वाले राज्यों में लगेगा राष्ट्रपति शासन

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पहले ही बड़े पैमाने पर लोगों में भ्रम की स्थिति बनी हुई है. यही कारण है कि बीजेपी घर घर जाकर लोगों को जागरुक करने जा रही है. लेकिन वहीं दूसरी तरफ मध्य प्रदेश के होशंगाबाद से बीजेपी सांसद उदय प्रताप सिंह का चेतावनी देते हुए बयान सामने आया है जिसमें वो कह रहे हैं जो राज्य CAA लागू नहीं करेंगे वहां राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है. उन्होंने कहा है कि संसद में कानून पास हुआ है राज्य सरकारें और नागरिक इसे मानने के लिए बाध्य हैं, अगर नहीं पालन होगा तो राष्ट्रपति शासन लगेगा. उन्होंने कहा, 'एक

असम: डिटेंशन सेंटर में रखे गए शख्स की मौत, कुल मृतकों की संख्या 29 पहुंची

अवैध प्रवासी होने के कारण असम के डिटेंशन सेंटर में रखे गए एक शख्स की एक बीते शुक्रवार को गोलपाड़ा स्थित गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (जीएमसीएच) में मौत हो गई. इस शख्स को 10 दिन पहले बीमार होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, इस शख्स की मौत के साथ ही अब तक राज्य में स्थित डिटेंशन सेंटरों में रखे गए लोगों की होने वाली मौतों की संख्या 29 पहुंच चुकी है. इन डिटेंशन सेंटरों में करीब 1000 लोगों को रखा गया है. एनडीटीवी के अनुसार, मृतक की पहचान 70 वर्षीय फालू दास के रूप में की गई

पीएम मोदी और अमित शाह के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज, 1 फरवरी को अगली सुनवाई

रांची के एक वकील ने जिला अदालत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज करवाया है। वकील ने अपनी शिकायत में कहा है कि मोदी-शाह ने 2013-2014 में चुनावी कैंपेन के दौरान और बीजेपी के घोषणापत्र में जो वादे किए थे उन्हें पूरा नहीं किया है। वकील की शिकायत है कि प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और रामदास अठावले ने चुनावी रैलियों में झूठ बोला और आम जनता में झूठी आस जगाई।वकील का नाम एचके सिंह है। उन्होंने कहा है कि बीजेपी नेताओं ने प्रत्येक देशवासी के अकाउंट में 15 लाख रुपए देने की बात कही थी

भारत के अधिकतर नोबेल पुरस्कार विजेता ब्राह्मण हैंः गुजरात विधानसभा स्पीकर

गुजरात विधानसभा के स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी का कहना है कि अभिजीत बनर्जी सहित भारत में अधिकतर नोबेल पुरस्कार विजेता ब्राह्मण हैं. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, त्रिवेदी ने कहा कि भारत के संविधान का मसौदा बनाने वाले और उसे डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर को सौंपने वाले बीएन राव भी ब्राह्मण थे. उन्होंने शुक्रवार को अहमदाबाद में ब्राह्मण बिजनेस समिट में यह बात कही. इस कार्यक्रम में राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल भी मौजूद थे. इससे पहले साल 2018 में इसी कार्यक्रम के पहले संस्करण में

अगर कोई CAA के खिलाफ प्रदर्शन करता है तो उसे बहुजन विरोधी घोषित कर देना चाहिए: नित्यानंद राय

केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय ने कहा है कि संशोधित नागरिकता कानून का विरोध करने वालों को ओबीसी और बहुजन विरोधी घोषित कर देना चाहिए। गृह राज्य मंत्री राय ने कहा कि पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में उत्पीड़न के कारण वहां से आने वाले लोगों में ज्यादातर अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और बहुजन वर्ग से हैं। उन्हें सम्मान देने के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी सीएए लेकर आए हैं। केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय ने कहा है कि संशोधित नागरिकता कानून का विरोध करने वालों को ओबीसी और बहुजन विरोधी घोषित कर देना चाहिए। गृह राज्य मंत्री

अब ज़िला सरकारी अस्पतालों को बेचने की तैयारी में मोदी सरकार, नीति आयोग ने जारी किया दस्तावेज़

भारतीय रेलवे के कुछ हिस्सों, एयर इंडिया और भारत पेट्रोलियम को बेचने के बाद अब केंद्र की मोदी सरकार ज़िला सरकारी अस्पतालों को भी निजी हाथों में सौंपने की तैयारी में जुट गई है। केंद्र की प्रमुख थिंक टैंक नीति आयोग ने पीपीपी मॉडल के तहत निजी मेडिकल कॉलेज से जिला अस्पतालों को जोड़ने की योजना’ को लेकर 250 पन्नों का दस्तावेज जारी किया है। खबरों के मुताबिक, अगर सरकार की ये योजना लागू हो जाती है तो निजी व्यक्ति या संस्थान मेडिकल कॉलेज की स्थापना और उसे चलाने के लिए भी जिम्मेदार होंगे। इसके अलावा इन मेडिकल कॉलेजों से सेकेंडरी