Browsing Category

State

तनवीर हसन-दो दशक से सामाजिक न्याय की मजबूत आवाज

By -Khalid Anis Ansari तनवीर हसन दो दशक से ज्यादा राजद के साथ रहे हैं लेकिन कभी मंत्रिपद नहीं मिला. आलोचनात्मक आवाज़ हैं, आवामी नेता हैं, चमचागिरी नहीं करते हैं सुप्रीमो की. एक बार आधा गाँधी मैदान भर दिया था पटना में तो सियासी हलचल मच गयी थी. बकौल #नूर हसन आज़ाद भाई, जो कि पसमांदा आन्दोलन के सीनियर और तजुर्बेकार एक्टिविस्ट हैं, तनवीर साहब ने विधान सभा में दलित मुसलमानों के आरक्षण के लिए भी कई बार आवाज़ उठाई है. एक बार जब बक्खो मुस्लिम समाज के विस्थापन का मुद्दा उठा था तब भी तनवीर साहब ने उनके अधिकारों के लिए संघर्ष किया था.…

बेगुसराय में सीपीआई की प्रति क्रांति चल रही है…

Published by- Aqil Raza By- संजीव चन्दन   ~ बेगुसराय से सीपीआई के कैडर होते थे भोला सिंह, जिनकी जाति-यात्रा राजनीतिक यात्रा में तब्दील होते हुए आखिरी तौर पर भाजपा तक पहुंची। उनका पांव छूने भूमिहार-बलकरण कन्हैया पहुंचा ही था। यह ऐतिहासिक दृश्य रहा ब्रह्मो-कम्युनिस्ट आन्दोलन का। उन्ही भोला सिंह के ऊपर मुसहर जाति से आने वाली सांसद और तत्कालीन विधायक भागवती देवी का एक भाषण पढा जाने लायक है। (कोशिश होगी स्त्रीकाल में उसे पढवाये) समझ में आयेगा कि जहां भी जायें जाति हड्डी तक धंसी हुई ले जाते हैं परशुराम के वंशज लोग।…

लालू यादव को ललुआ कहने की मानसिकता क्या है?

Published By- Aqil Raza By-  Prashant Tandon लालू यादव की राजनीति क्या है. तमाम राजनीति विज्ञान के जानकारों से साफ और एक लाइन में मुझे मेट्रो स्टेशन और अपने घर के बीच बिहार के रहने वाले एक रिक्शा चालक ने कुछ साल पहले समझा दी थी. उसने कहा लालू जी ने हमे क्या दिया है आप लोग कभी नहीं समझ पाएंगे. सामने से कोई बड़ा आदमी (सवर्ण) आ जाये तो हम साइकिल से उतर कर पैर छूते थे. लालू जी के आने के बाद अब हम किसी के पैर नहीं छूते हैं हाथ मिलाते हैं. इस वाकये को दोबारा लिख रहा हूँ क्योंकि लालू की राजनीति को इससे बेहतर कोई और नहीं बता पाया.…

महान सम्राट अशोक ने बौद्ध धम्म का कैसे किया था प्रचार, जानिए

सम्राट अशोक प्राचीन भारत के मौर्य सम्राट बिंदुसार का पुत्र था। जिसका जन्म लगभग 304 ई. पूर्व में माना जाता है। 272 ई. पूर्व अशोक को राजगद्दी मिली और 232 ई. पूर्व तक उसने शासन किया। अशोक ने 40 वर्ष राज्य किया। चंद्रगुप्त की सैनिक प्रसार की नीति ने वह स्थायी सफलता नहीं प्राप्त की, जो अशोक की धम्म विजय ने की थी। कलिंग के युद्ध के बाद अशोक ने व्यक्ति गत रूप से बौद्ध धर्म अपना लिया । अशोक के शासनकाल में ही पाटलिपुत्र में तृतीय बौद्ध संगीति का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता मोगाली पुत्र तिष्या ने की । इसी में अभिधम्मपिटक की रचना…

सामाजिक क्रांति के पितामह जोतीराव फुले की जन्मजयन्ती के अवसर पर शत शत नमन….

Published By- Aqil Raza By- Dr. J D Chandrapal नाम ज्योति था मगर वे ज्वालामुखी थे | इनका जीवनक्रम ज्योति था बिलकुल ज्योति की तरह अन्धकार को विलय करनेवाला .. पर उनके कवन ज्वाला मुखी थे | इसीलिए उनका जीवनक्रम तो महत्वपूर्ण है ही मगर उससे ज्यादा महत्वपूर्ण है उनके कवन... उनके विचार... |उनका जीवन हमारे लिए श्रद्धा और आस्था का विषय बन सकता है तो उनके कवन हमारे लिए दर्शन और संकल्प का विषय बन सकता है | वैसे भी हमें हमारे मार्गदर्शक डी के खापर्डे साब ऐसा कहा करते थे की व्यक्ति से ज्यादा महत्वपूर्ण उनके विचार होते है; जब तक सांस चलती…

کنہيا کمار اداروادی برہمن واد کے مکھؤٹے ميں چھپا بہوجنو کا سبسے بڑا دشمن ہے

ڈاکٹر منيشا بانگر بےگو سراے سے سی پی آی اميدوار کنہيا کمار اداروادی برہمن واد کے مکھوٹے ميں چھپا وہ چہرا ہے جو بہوجن واد اور آرکشن کی مخلافت کے ليے منووادی ميڈيا نے بنايا ہے۔ کنہيا وامپنتھی سياست کی ڈوبتی نيّا کو بچانے کے ليے لال سلام کے ساتھ نيل سلام کا نعره دے کر بہوجنو کی پيٹھ ميں چھرا گھونپنے کی سياست کر رہے ہيں۔ https://www.youtube.com/watch?v=IuBMXUurRsg پیپل پارٹی آف انڈيا کی راشٹريا اپادھيکش اور ناگپور سے لوکسبھا اميدوار ڈاکٹر منيشا بانگر نے اپنے بيان ميں یہ باتيں کہيں۔ انہوں نے بيگو سراۓ لوکسبھا علاقہ ميں علان کيا…

ناگپور ميں امبيڈکرواد نے دی گولولکر وادیوں کو چنوتی۔

By- Naeem Sharmad ناگ لوکسبھا علاقہ ميں بھاجپا اميدوار نتن گڈکری کو چنوتی دينے والی ڈاکٹر منيشا بانگر نے وہاں کی انتخابی جنگ کو بہوجن بنام برہمنواد یا اشراف نظام کے نقشہ پر کھينچ ليا ہے۔ انکے عوامی جلسوں اور تکریروں کا ردِعمل جيس شکل ميں ديکھنے کو ملا ہے اس سے ساف ظاہر ہے کہ منيشا اس جنگ ميں بہوجنوں کے جزبات ؤ احساسات کی اچھی قيادت کر رہی ہيں۔ سؤشل ميڈيا پر ڈاکٹر منيشا کی حمايت ميں لوگوں کے ردِعمل کو ديکھ کر لگتا ہے کہ بہوجن معاشرہ کے لوگ کھل کر انکے ساتھ ہيں۔ اور یہ نتن گڈکری کے ليے ايک سنجيده اور کھلا چيلنج ہے۔…

अली अनवर को टिकेट दिलवाने के लिए पसमांदा मुस्लिम समाज ने भरी हुंकार

Published by- Aqil Raza By- अभिजीत आनंद बिहार में पसमांदा मुस्लिम समाज राजनीतिक पार्टियों द्वारा टिकेट वितरण में नज़रंदाज़ किये जाने पर बेहद नाराज़ है. इस सन्दर्भ में समाजशास्त्री प्रो. खालिद अनीस अंसारी ने 23 मार्च को change.org पर एक ऑनलाइन पेटीशन आरंभ की जिसमे राष्ट्रीय जनता दल (राजद) पार्टी से पसमांदा नायक श्री अली अनवर अंसारी के लिए मधुबनी लोक सभा सीट देने की मांग की गयी है. पेटीशन में राजद के ऊपर हमेशा अगड़े मुसलमानों को टिकेट वितरण में तरजीह देने का इलज़ाम लगाया गया है. इस के साथ ही राजद लीडरशिप को सचेत किया गया है कि इस…

नितिन गडकरी को चुनौती दे रही मनीषा बांगर के नाम एक संदेश!

Published by- Aqil Raza Via- Sobran Kabir Yadav   ~ आप है डॉक्टर डॉ मनीषा बांगर (Manisha Bangar) जी।। आपने संघ परिवार को उसके गढ़ नागपुर में घुसकर चुनौती देने का मन बनाया है।। देश की 85 फीसदी जनता आपके साथ है।। नागपुर एक तरफ संघ परिवार का गढ़ है वहीं नागपुर बाबा साहब की कर्मभूमि भी रही है।। https://www.youtube.com/watch?v=t6F2K_sefto बाबा साहब ने नागपुर में ही अपने लाखों अनुयायियों के साथ मानसिक रूप से बीमार सवर्ण हिंदुओं के ब्राह्मण धर्म को तिलांजलि दी थी और सामाजिक परिवर्तन का सूत्रपात किया था।। उम्मीद है नागपुर की…

गुरुग्राम: होली के दिन मुस्लिम परिवार पर किया हमला, कहा “पाकिस्तान जाओ”

By- Aqil Raza   ~  एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, वीडियो में देखा जा सकता है कि कुछ गुंडे एक परिवार के सदस्यों को पीटते हुए नज़र आ रहे हैं। वीडियों में परिवार कि महिलाओं की अवाज़े भी सुनी जा सकती हैं और वो उन गुंडो से रहम की भीक मांग रही है। नीचे पड़े एक शख्स को वो गुंडे लहुलुहान कर देते हैं। वीडिया की पड़ताल के बाद पता चला कि यह घटना गुड़गांव के धमसपुर गांव की है, जहां होली के दिन एक मुस्लिम परिवार और उनसे मिलने आए रिश्तेदारो को बेरहमी से पीटा गया। आरोप है कि होली के दिन 20 25 लोग मुस्लिम परिवार के घर…