Browsing Category

Uncategorized

क्या सम्राट अकबर को ब्राह्मणों ने विष्णु अवतार घोषित किया था ?

मुग़ल सम्राट अकबर को लेकर आज तगड़ा भ्रम फैला है | पुराने इतिहासकारों ने उसे धार्मिक रूप से सहिष्णु व सबको साथ लेकर चलने वाला महान बादशाह लिखा है | यह सच है कि यदि अकबर धार्मिक रूप से सहिष्णु नहीं होता तो राजपूतों राजाओं के साथ उसकी संधियाँ नहीं निभती | पर आजकल  भारत में धार्मिक तौर पर एक नया ट्रेंड चला है, दूसरे के धर्म, जाति को कठघरे में खड़ा कर उसका चरित्रहनन करने का | अकबर भी इस नए ट्रेंड का पूरा शिकार है | पहले विदेशी व वामपंथी इतिहासकारों ने उसे भारतियों का मनोबल तोड़ने के लिए जरुरत से ज्यादा महिमामंडित किया तो आज राजनैतिक,…

महाड़ सत्याग्रह : जब पूरे भारत ने देखा बहुजनों का दम

कैसे देखें आधुनिक के इतिहास के आईने में आज के भारत को? यह सवाल महत्वपूर्ण है क्योंकि हम वह सोच भी नहीं पाते जो अतीत में द्विज इतिहासकारों ने षडयंत्र किया है। बाबा साहब के आह्वान पर जब बड़ी संख्या में बहुजन जुटे तब पूरे हिन्दुस्तान ने बदलाव के आगाज को महसूस किया। लेकिन षडयंत्रकारी द्विज इतिहासकारों ने गांधी के नमक सत्याग्रह को महान की उपमा दी जबकि उस सत्याग्रह का मकसद केवल वर्चस्ववादी हिन्दू सामाजिक व्यवस्था को बचाए रखना था। सम्मानपूर्वक जीवन के अधिकार के लिए था महाड़ सत्याग्रह। महाड़ सत्याग्रह डॉ. आंबेडकर की अगुवाई में 20…

समाजिक क्रांति के प्रहरी, आरक्षण के जनक, श्रमण संस्कृति के महाराजा शाहूजी महाराज

By -डॉ जयंत चंद्रपाल बाबासाहब डॉ अम्बेडकर सही कहते थे की जो कोम अपना इतिहास नहीं जानती वह अपने भविष्य का निर्माण नहीं कर सकती। हम ब्राह्मण संस्कृति के राजा राम के बारे में और रामराज्य के बारे में तो बहुत जानते है मगर श्रमण संस्कृति के महाराजा शाहूजी और उनके लोकाभिमुख शासन के बारे में बहुत ही कम। Let us recognize our heroes किसी भी महापुरुष की पहचान उनके द्वारा किये गए कार्यो से होती है। 26 जून 1874 के दिन शुद्र वर्ण की कुर्मी (पाटीदार) जाति में जन्मे बहुजन एवं श्रमण संस्कृति के छत्रपति शाहू जी महाराज ने जाति व्यवस्था और इस…

अम्बेडकर जयंती पर देहरादून में पहली बार भीम महोत्सव, एक सप्ताह तक रहेगा जारी

By: Ankur sethi बाबासाहेब डॉ. अम्बेडकर और भगवान बुद्ध की विचारधारा पर काम करने वाली संस्था दून बुद्धिस्ट सोसायटी इस साल देहरादून में बड़ा कार्यक्रम आयोजित करने जा रही है. जिसका नाम है भीम महोत्सव.. जी हाँ, देहरादून के परेड ग्राऊंड में 7 से 15 अप्रैल तक भीम महोत्सव का आयोजन किया जाएगा, जिसमें सांस्कृतिक एवं बौद्धिक मेला’ भी इस खूबसूरत कार्यक्रम की शोभा बढ़ायेगा. आयोजकों द्वारा इस मेले को बहुत शानदार रूप दिया जा रहा है. परेड ग्राऊंड में होने वाले मेले के दौरान रोज शाम को 5 बजे से रात 9 बजे तक प्रदेशभर के प्रसिद्ध…

BJP राज: 15 हजार रुपये की कमी ने छीन लिया मासूम, सरकार-पुलिस और मीडिया किसी ने नहीं सुना दर्द!

नई दिल्ली। राजस्थान के जयपुर में एक मासूम की 15 हजार रुपये कम होने की वजह से हॉस्पिटल में मौत हो गई। पुलिस सिर्फ जांच की बात कहकर मामले को टालने में लगी है. लेकिन मलाल इस बात का है कि एक मासूम की 15 हजार रुपये की वजह से मौत हो जाती है और हमारे देश की मीडिया के लिए यह कोई खबर ही नहीं लगती। एक बच्चे की मौत होना और सबकी खामोशी यह दो अलग घटनाएं बन जाती हैं। मामला जयपुर के सालासर चाइल्ड हॉस्पिटल का है। जब किसी ने दर्द को महसूस  नहीं किया और फरियाद को अनसुना कर दिया तो परिजन ने सोशल मीडिया का सहार लेकर अपना दर्द बयां किया। पढ़िए…

SP-BSP कार्यकर्ताओं में खुशी, बुआ-भतीजे जिंदाबाद-जिंदाबाद…जानिए 20वें राउंड की वोटिंग?

नई दिल्ली। यूपी की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव के सकारात्मक नतीजों को लेकर सपा और बीएसपी कार्यर्ताओं में खुशी की लहर दौड़ गई है। पार्टी कार्यलायों पर कार्यकर्ता में खुशी की उमंग दिखाई दे रही है। एक दूसरे के गुलाल लगाकर खुशी का इजहार कर रहे हैं साथ ही कार्यकर्ता जय-जय अखिलेश और बुआ-भतीजे जिंदाबाद...जिंदाबाद के नारे लगाए जा रहे हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक गोरखपुर में भाजपा के उपेन्द्र शुक्ल अपने निकटतम प्रतिद्वदी समाजवादी पार्टी के प्रवीण निषाद करीब 28 हजार 258 वोटों से आगे चल रहे हैं. जबकि फूलपुर सीट से सपा उम्मीदवार…

पढ़िए कड़वी सच्चाई, आज का बहुजन क्या कर रहा है?

आज का बहुजन क्या कर रहा है ? दोस्तों ये लेख पढ़ के आप को बहुत ही गुस्सा आएगा ,क्योंकि ये सत्य है और सत्य कड़वा होता है। लेकिन सत्य से भागना नहीं है। पूरे लेख को बहुत ही ध्यान से पढ़िए, क्योंकि इस लेख को किसी एक इंसान ने नही बल्कि आज के समय के सोशल मीडिया एक्सपर्ट अम्बेडकर टीम द्वारा बहुत ही अनुभव और गहराई से हमारे समाज के हालात और हालत को इस लेख में ब्यान किया है। तो आइए जानते हैं कि आज हमारा बहुजन समाज किस ओर जा रहा है और क्या कर रहा है.... 1- आज का बहुजन मंदिरों में जाकर घंटा बजा रहा है और प्रसाद के लिए लाइन खड़ा है। 2- आज…

बहुजन पीएचडी छात्र के शोषण की कहानी, पढ़िए उसी की जुबानी

बाबा साहेब भीमराव यूनिवर्सिटी के एक छात्र ने काँलेज प्रशासन पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। य़ह छात्र संस्थान से पीएचडी कर रहा है जिसकी पीएचडी 2010 से शुरू होकर 2018 तक भी पूरी नहीं हो पायी. जिसका कारण कालेज प्रशासन का ढीला रवैया व अनदेखी रहा। बहुजन छात्रों को प्रताड़ित करने का यह मामला नया नहीं है ऐसे न जाने कितने छात्र हैं जो इस जर्जर व्यवस्था से परेशान हैं। छात्र ने हमारे मीडिया संस्थान को अपनी व्यथा के बारे में पत्र लिखा जिसे हम ज्यों का त्यों लगा रहे हैं। जय भीम, जय मूलनिवासी मैम मैं आशुतोष कुमार, पत्रकारिता एंव…

यूपी: एनकाउंटर में मुस्लिम और बहुजन होते हैं निशाने पर?

उत्तर प्रदेश। बीते 10 महीनों में 1100 से अधिक पुलिस एनकाउंटर और उनमें 35 से अधिक कथित अपराधियों की मौत. यह आंकड़ा किसी फ़िल्मी कहानी सा लगता है मगर है एकदम सच. आबादी के लिहाज़ से देश के सबसे बड़े सूबे उत्तर प्रदेश में इस समय एनकाउंटर का बोलबाला है और हाल में विधान परिषद में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसका श्रेय भी लिया. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा था कि राज्य में अपराध पर नियंत्रण के लिए पुलिस एनकाउंटर नहीं रुकेंगे. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, मुख्यमंत्री का कहना है कि 1200 एनकाउंटर में 40 ख़तरनाक…

जिग्नेश के बोलने से डर रही है गुजरात सरकार, 40 सेकेंड में बंद किया माइक

अहमदाबाद। गुजरात में बहुजन सामाजिक कार्यकर्ता भानुभाई वणकर केस के मुद्दे पर विधानसभा में जिगनेश अपनी बात रखना चाह रहे थे. लेकिन सोमवार के सत्र के दौरान जिग्नेश महज 40 सेकंड ही बोल पाए होंगे क्योंकि विधानसभा अध्यक्ष के आदेश पर उनका माइक बंद कर दिया गया। बहुजनों को सरकार की ओर से आवंटित जमीन के कब्जे की मांग को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता भानुभाई वणकर ने पिछले हफ्ते कलेक्टर्ट में खुद को आग लगा कर आत्महत्या कर ली थी. मेवाणी ने खुद को बोलने से रोकने के बाद गुजरात सरकार पर आरोप लगाया कि वह बहुजनों के विरोध में काम कर रही है. सरकार…