Home State Delhi-NCR देश में कोरोना, अम्फान के बाद अब टिड्डियों का आंतक, क्या सरकार है तैयार ?

देश में कोरोना, अम्फान के बाद अब टिड्डियों का आंतक, क्या सरकार है तैयार ?

देश में 2020 की शुरुआत से ही लगातार एक के बाद एक संकट मंडरा रहा है. पहले कोरोना, फिर अम्फान तूफान और अब टिड्डियां देश में भूचाल मचाने को आगे बढ़ रही है. जी हां, राजस्थान में टिड्डियां घुस चुकी है, जो अब बाकी राज्यों की ओर भी बढ़ रही है. जिसके चलते पर्यावारण मंत्रालय ने कई राज्यों में हाई भी अलर्ट जारी कर दिया है.

दरअसल, देश में अब एक और बड़ा संकट सामने है. पाकिस्तान से आई टिड्डियां पहले राजस्थान में घुसीं और अब देश के दूसरे हिस्सों की ओर बढ़ रही हैं. जिसका निशाना अब यूपी, पंजाब, हरियाणा और मध्यप्रदेश हैं. जिस तरह से लगातार आंधिया चल रही है, वहीं अब इसकी वजह से हवा की दिशा में टिड्डियां एक ही दिन में करीब 200 किलोमीटर तक तेजी से आगे बढ़ती चली जा रही है.

वहीं अब इस बारे में पर्यावरण मंत्रालय के मुताबिक, टिड्डियों से सबसे ज्यादा खतरा फसलों और सब्जियों पर है. इस गंभीर समस्या को देखते हुए मंत्रालय ने आगरा पंजाब और हरियाणा जैसे कई राज्यों को हाई अलर्ट भी जारी किया है. इससे पहले टिड्डियों की वजह से राजस्थान बीते साल 1000 करोड़ का नुकसान झेल चुका है. विशेषज्ञों के मुताबिक इस बार इनका झुंड और बढ़ने की संभावना जताई जा रही है. ऐसे में पहले से ही संकट झेल रहे किसानों को बड़ा नुकसान झेलना पड़ सकता है. इसके साथ ही आमतौर पर जून-जुलाई में आने वालीं ये टिड्डियां अब दिल्ली की राह पर है.

बता दें कि टिड्डियों का बड़ा दल राजस्थान में जैसलमेर, बाड़मेर, श्रीगंगानगर, जोधपुर से दाखिल होकर अब दौसा, सवाईमाधोपुर, करौली और धौलपुर तक पहुंच गया हैं. दो दिन पहले टिड्डियों का बड़ा दल शिवाड़ क्षेत्र में दो हिस्सों में तबदील हो गया. एक दल इंद्रगढ़ लाखेरी की ओर से, तो दूसरा दल बनास नदी की ओर से मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश की ओर बढ़ता चला गया. इस हिसाब से अब इन टिड्डियों का सायां फसलों वाले इलाकों पर भारी पड़ सकता है. जिससे सबसे ज्यादा प्रभावित किसान होगा.

टिड्डियों की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि अगर इन टिड्डियों का झुंड एक बार इलाके में घुस गया तो इनका प्रकोप कम से कम तीन साल तक रहेगा. इनके अंडों से करोड़ों की तादाद में टिड्डियां बढ़ेंगी. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि टिड्डियों का डेरा देश में पड़ना एक और भारी संकट का संकेत है. इस समय देश हित के लिए सरकार की तैयारी सबसे ज्यादा मायने रखती है. हालांकि अब देखना ये होगा कि सरकार इस संकट को रोकने के लिए क्या कदम उठाती है.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

रेल मंत्रालय की बड़ी लापरवाही, 40 श्रमिक ट्रेनों के रुट बदले, क्या है इसके पीछे की साजिश ?

By_Mahendra Yadav देश में 40 ट्रेनों के रास्ता भटक कर सैकड़ों मील दूसरे प्रदेशों तक जाना ग…