गुरु नानक देव जी ने संगठित समाज की नींव रख कैसे धर्म-जाति के बंधन को तोड़ा

0
Want create site? With Free visual composer you can do it easy.

सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के पहले गुरू गुरुनानक देव की आज 550वीं जयंती है जिसे देशभर में सिख समुदाय के लोग प्रकाश पर्व के तौर पर मनाते है. सिख समुदाय इस दिन को खास मानकर गुरुद्वारा जाते है और सरोवर में स्नान करते है. इसके अलावा हर गुरुद्वारे को सजाया जाता है, कार्यक्रम होता है और लंगर भी लगाए जाते है. प्रकाश पर्व के दिन सुबह से ही गुरुद्वारों में धार्मिक अनुष्ठानों का सिलसिला शुरू हो जाता है, जो देर रात तक चलता है.यह पर्व समाज के हर व्यक्ति को साथ रहने, खाने और मेहनत की कमाई करने का संदेश देता है.

वही इस जंयती के मौके पर भारत से लेकर पाकिस्तान तक प्रकाश पर्व मनाया जा रहा है क्योंकि गुरुनानक देव जी को मुस्लिम समुदाय भी फ़कीर के तौर पर पूजता है. ऐसे में गुरु नानक देव को एक गुरु के तौर पर भी देखा जाता है जिन्हे मानने वाले किसी एक धर्म के ही लोग शमिल नहीं है. गुरु नानक देव जी ने 3 सबसे बड़ी शिक्षा का उपदेश दिया था- नाम जपो, किरत करो और वंड छको.

आइये आपको बताते है कि कैसे नानक जी ने विभाजन को तोड़ा? गुरु नानक जी ने समाज को अनेक भागों में बंटा देखा। उन्हें लगा कि धर्म पर कुछ लोगों ने कब्जा कर लिया है और इसे धन उगाही का धंधा बना लिया है. इसलिए उन्होंने एक ऐसा समूह बनाने का निश्चय किया, जिसमें जन्म, धर्म और जाति के लिहाज से कोई छोटा-बड़ा न हो और उन्होंने सामुदायिक उपासना की प्रथा शुरू की जिसमें शामिल लोगों के लिए जात-पात का कोई बंधन नहीं था.

वही करतारपुर में नानक जी संगत में आए लोगों के साथ भोजन करने बैठे थे. भोजन परोस दिया गया था लेकिन नानक जी ने कहा जिन्होंने भोजन बनाया है और जिन्होंने यहां झाड़ू लगाई वो लोग तो अभी आए नहीं. वो अलग भोजन क्यों करेंगे? ईश्वर ने सबको समान बनाया है. सब साथ भोजन करेंगे. फिर नानक जी ने समझाया कि छुआछूत छोड़ सब एक साथ, एक ही पंगत में भोजन करें, इसलिए लंगर प्रथा शुरू की.

गुरु नानक जी के संदेशों पर चल रहे सिख धर्म के चार पवित्र प्रतीक चिन्ह

  • नानक जी ने अंधविश्वास में फंसे लोगों को निकालने के लिए ओउ्म शब्द के साथ एक लगाकर एक ओंकार नाम दिया और संदेश दिया कि ईश्वर एक है. उसे न तो बांटा जा सकता है और न ही वह किसी का हिस्सा है.
  • गुरु ग्रंथ साहिब का संपादन पांचवें गुरु श्री गुरु अर्जन देव जी ने किया था और 16 अगस्त 1604 को हरिमंदिर साहिब में पहला प्रकाश हुआ. गुरु गोबिंद सिंह जी ने 1705 में दमदमा साहिब में गुरु तेग बहादुर जी के 116 शब्द जोड़कर इसको पूर्ण किया। इसमें कुल 1430 अंग (पृष्ठ) है. इसमें सिख गुरुओं सहित 30 अन्य हिंदू संत और मुस्लिम भक्तों की वाणी भी शामिल है.
  • खंडा निशान साहिब पर अंकित “देग-तेग-फ़तह’ के सिद्धांत का प्रतीक है. इसके केंद्र में दोधारी खंडा इस दोधारी अस्त्र की धार अच्छाई को बुराई से प्रतीकात्मक तौर पर अलग करती है. एक चक्र वृत्ताकार अनादि परमात्मा के स्वरूप को दर्शाता है, जिसका न कोई आदि है ना ही कोई अंत है. दो कृपाण (मुड़े हुए एकधारी तलवार) मीरी और पीरी भावों का चित्रण करते हैं. यह आध्यात्म और राजनीति के समन्वय का प्रतीक है.
  • निशान साहिब सिख धर्म में बेहद पवित्र माना जाता हैं. यह खालसा पंथ की मौजूदगी का प्रतीक है. श्री गुरु हरगोबिंद साहिब ने पहली बार केसरिया निशान साहिब 1709 में अकाल तख्त पर फहराया था.

गुरु नानक देव जी ने लोगों को अपनी पूर्ववर्ती यात्रा के दौरान हरिद्वार पहुंचे जो कि गंगा नदी के तट पर स्थित है और हिंदू तीर्थयात्रा के प्रमुख केंद्रों में से एक है. लोग बड़ी संख्या में वहां एकत्र हुए और पवित्र नदी में स्नान किया. गुरु नानक देव जी ने पूर्व में सूर्य की ओर पानी फेंकते हुए कई लोगों को देखा. इस निरर्थक अनुष्ठान के बारे में गुरु ने पहले ही सुना था. इसलिए, उन्होंने इसे सही मार्गदर्शन देने के लिए और सही समय देने के लिए उचित समय सोचा कि उन प्रकार के नासमझ खोखले संस्कारों का कोई मूल्य नहीं है. जो लोग पूर्व में सूर्य की ओर गंगा नदी से मुट्ठी भर पानी फेंक रहे थे, उनका मानना ​​था कि इस अनुष्ठान से वे अपने मृत बुजुर्गों को अगली दुनिया में पानी की पेशकश कर सकते हैं. यह अगली दुनिया पूर्व में थी जहां से सूरज उगता था.

गुरु नानक देव जी स्नान करने के उद्देश्य से नदी में उतरे, जैसा कि अन्य आम तीर्थयात्री कर रहे थे. हालाँकि, पूर्व में पानी फेंकने के बजाय, उन्होंने पानी को पश्चिम की ओर विपरीत दिशा में फेंकना शुरू कर दिया, जहाँ गुरु जी का खेत था. उसे एक भोले आगंतुक के रूप में लेते हुए, पास के स्नान करने वालों ने उसे बताया कि वह सही तरीके से अनुष्ठान नहीं कर रहें और नानक जी को पूर्व में पानी फेंकने की सलाह दी. गुरु नानक देव जी ने यह कहते हुए पश्चिम की ओर पानी फेंकना जारी रखा कि वे ‘पवित्र’ कृत्य में बहुत अधिक लीन थे और उन्होंने कुछ भी नहीं सुना था. जल्द ही, कई लोग उसे यह बताने के लिए इकट्ठा हुए कि अनुष्ठान करने की उचित विधि दूसरी दिशा में पानी फेंकना है. पश्चिम में फेंका गया उसका पानी उसके या उसके मृत पूर्वजों के लिए किसी काम का नहीं था. तीर्थयात्रियों ने सोचा कि गुरु अजीब तरह से काम कर रहे थे और जल्द ही सैकड़ों स्नानार्थियों ने उन्हें घेर लिया और गुरु जी से कह रहे थे कि वह गलत दिशा में पानी फेंक रहे थे और यह उनके पूर्वजों को कभी नहीं मिलेगा – जो पूर्व में रहते हैं. वे गुरु के पास गए और उन्होंने जो कुछ सोचा, वह बहुत ही मजेदार क्रिया थी.

तीर्थयात्रियों के नेता ने गुरु जी से पूछा, “आप पवित्र जल को पश्चिम में क्यों फेंक रहे हैं जो गलत दिशा है?” उस समय हजारों स्नानार्थी गुरु जी को देख रहे थे. तब गुरुजी ने शांतिपूर्वक उत्तर दिया, “मैं पंजाब में अपनी मुरझा रही फसलों को पानी दे रहा हूं. गांव में मेरी सभी फसलें मर रही हैं क्योंकि बारिश नहीं हुई है” गुरु जी का जवाब सुनकर लोग हंसने लगे लेकिन उन्होंने अपना काम जारी रखा. वही खड़े कुछ उत्सुक दर्शकों ने पूछा, “क्या तुम पागल हो? तुम्हारा पानी पंजाब से सैकड़ों मील दूर पंजाब तक कैसे पहुंच सकता है?” गुरु जी ने उत्तर दिया, “उसी तरह जिस तरह से आप अपने पूर्वजों को दूसरी दुनिया में लाखों मील दूर तक पहुँचाते हैं. वास्तव में, मेरा खेत इस पृथ्वी पर काफी करीब है. “गुरु जी ने पानी का छींटा देना बंद कर दिया, गंभीर हो गए और पूछा,” अगर मेरे द्वारा फेंका गया पानी इस बहुत ही पृथ्वी पर कुछ सौ मील दूर नहीं पहुंच सकता है, तो पानी कैसे फेंका जा सकता है आप अपने मृत पूर्वजों के लिए स्वर्ग में पहुँचते हैं? “

तीर्थयात्रियों के नेता के पास इसका कोई जवाब नहीं था लोग चुप हो गए और गुरु द्वारा दिए गए उत्तर पर सोचने लगे. उनके बयान को चुनौती देने के लिए उनके पास कोई तार्किक तर्क नहीं था. इसने लोगों को उनके संस्कार के बेकार होने के बारे में सोचा.

फिर गुरु नानक देव जी नदी से बाहर आए और भीड़ ने उनका पीछा किया. गुरु ने शांति से उन्हें सच्चाई बताई और समझाया कि खोखले अनुष्ठानों का कोई धार्मिक मूल्य नहीं है. उन्हें अपने लोगों, दोस्तों और धर्मों से प्यार करना चाहिए, उनका सम्मान करना चाहिए और जब वे जीवित हैं तो बाद में इन बेकार अनुष्ठानों को करना चाहिए. जब लोग मर जाते हैं, तो उन्हें हमसे कुछ भी नहीं चाहिए और न ही हम उन्हें इस दुनिया से जाने के बाद कुछ भी भेज सकते हैं. मृत्यु के बाद, लोगों को इस धरती पर रहने के दौरान, अपनी ईमानदारी से कमाई से, जरूरतमंदों को जो दिया जाता है, वह मिलता है.

इसलिए संदेश को याद रखें – अपने बड़ों के लिए अच्छे काम अभी करें – क्योंकि एक बार वे चले गए, तो आप उनके लिए कोई सेवा नहीं कर पाएंगे। इस अवसर को मत खोना. लोगों का ध्यान आकर्षित करने और उनकी अज्ञानता को दूर करने का एक तरीका कितना प्रभावी और तर्कसंगत है.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

शयद आपको भी ये अच्छा लगे लेखक की ओर से अधिक