Home Language Hindi महाराष्ट्र के चंद्रपुर में अनुसूचित जाति के 7 बुजुर्ग लोगों को जादू-टोना के शक में बेरहमी से पीटा
Hindi - Social Issues - August 24, 2021

महाराष्ट्र के चंद्रपुर में अनुसूचित जाति के 7 बुजुर्ग लोगों को जादू-टोना के शक में बेरहमी से पीटा

महाराष्ट्र के चंद्रपुर में इंसानियत को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। जहां जादू-टोना करने के शक में 7अनुसूचित जाति के लोगों को बड़ी ही बेदर्दी से पीटा जाता है। इस पिटाई का शिकार बुजुर्ग और महिलाएं हुए हैं। चंद्रपुर का यह मामला रूह कंपा देने वाला है। और ये पहला मामला नहीं है जब बहुजनों पर जुल्म ए सितम ढ़हाए गए हो…आप ऊना का मामला देख लीजिए और ना जाने ऐसे कितने मामले है जिनका न्याय नहीं होता. यकीन नहीं होता कि आधुनिक भारत में भी इस तरह की वहशियाना हरकत किसी तालिबानी की सजा से कम नहीं.

दुनिया शिक्षा और विज्ञान की ओर बढ़ रही है। भारत अभी भी जादू टोना में फंसा हुआ है। महाराष्ट्र के चंद्रपुर जिले में एक परिवार के साथ मारपीट का मामला सामने आया है। गांव वालों ने एक ही परिवार के 7 7अनुसूचित जाति लोगों को अंधविश्वास के नाम पर पिटाई कर दी है।
इस घटना की वजह से इलाके में तनाव का माहौल है। चंद्रपुर जिले के जीवती तहसील के अंतर्गत आने वाले वणी खुर्द गांव में यह वाकया पेश आया है। गांववालों ने पहले इन सात लोगों को बंधक बनाया और फिर उनकी पिटाई की। तस्वीरों में साफ देखा जा सकता है कि सैकड़ों गांववाले भीड़ लगाकर इन सात लोगों को पीट रहे हैं। घटना में 5 लोग बुरी तरह से घायल भी हुए हैं।

इस घटना की जानकारी जब स्थानीय पुलिस को मिली तो तुरंत पुलिस ने घटनास्थल का रुख किया और बंधक बनाए गए सभी लोगों को गांववालों के कब्जे से छुड़ाया। यदि पुलिस समय पर नहीं पहुंचती तो संभवत इन सात लोगों की जान भी जा सकती थी। तस्वीरें देखकर ऐसा लगता है कि गांववाले इन सभी लोगों की जान लेने पर ही तुले हुए थे। फिलहाल पुलिस ने 12 लोगों पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

वही इस मामले पर भीमआर्मी चीफ चंद्रशेखर ने भी ट्वीट किया भारत हर दिन जातिवाद की दलदल में धंसा जा रहा है। महाराष्ट्र के चंद्रपुर में जादू-टोना के शक में 7 लोगों को खंभे से बांधकर पीटा गया। 70 साल के बुजुर्ग को भी नहीं छोड़ा। हृदयविदारक वारदात। दोषियों पर कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए।


सोशल मीडिया पर ये मामला छाया हुआ जिसे बहुत लोग इसे शर्मनाक बता रहे है.

बहरहाल हम 21वीं सदी में पहुंच गए हैं। अब भी बहुत से लोग ऐसे हैं जिनके दिमाग में जात-पात, ऊंच- नीच, जादू-टोना जैसे अंधविश्वास की बातें भरी होती हैं। हर रोज खबरों में हमें ऐसी घटनाएं देखने सुनने को मिल जाती है, जो इंसानियत को शर्मसार करती है। तो अंधविश्वास को छोड़ पढ़िए लिखिए, ज्ञान लीजिए.. जो भविष्य में हर जगह काम आएगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Is Ethnocracy Invading India’s Democracy?

As India approaches its Republic day, annual rituals of guns salute and unfurling of the n…