Home Opinions पकिस्तान जिंदाबाद बोलने से मौत बेहतर है : बदसलूकी झेलने वाला जवान
Opinions - April 20, 2017

पकिस्तान जिंदाबाद बोलने से मौत बेहतर है : बदसलूकी झेलने वाला जवान

नई दिल्ली।
पिछले दिनों जम्मू- कश्मीर में लोकसभा उपचुनाव के दौरान सीआरपीएफ जवान का एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ था। जिसमें फ्लैगमार्च कर रहे एक जवान को युवक ने लात मारी, बावजूद इसके वो जवान अपना आपा नहीं खोया और चुपचाप आगे बढ़ गया। तो वहीं यह वीडियो सामने आने के बाद देश भर के लोगों ने इस घटना की कड़ी निंदा की थी। अब इस मामले में बदसलूकी झलने वाले जवान ने इस घटना के बारे में बताया है। हालांकि सीआरपीएफ के इस जवान की पहचान को उजागर नहीं किया गया है, लेकिन बताया जा रहा है कि जवान ओडिशा के संबलपुर जिले का रहने वाला है। तो वहीं जवान अपनी यूनिट के साथ पिछले 4 महीनों से चुनावी ड्यूटी पर तैनात है। तो घटना के बाद जवान ने जिस संयम का परिचय दिया था, उसकी सभी ने तारीफ की थी। जवान ने बताया कि उसकी यूनिट को एटीएम मशीन की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। आपको बता दें कि घटना कश्मीर के बड़गाम जिले की थी। जवान ने कहा कि वह अपनी टुकड़ी के साथ जा रहा था, तभी कुछ कश्मीरी युवक उनलोगों पर पत्थर फेंक रहे थे। इसके साथ ही वह पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे। इतना ही नहीं वह पूरी कोशिश कर रहे थे कि हम भी उनके साथ पाक जिंदाबाद के नारे लगाए। इतना सब होने के बाद भी जवान ने कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए, वह देश की सुरक्षा और उसके लिए जीता है। और देश के लिए मर भी सकता है। लेकिन किसी कीमत पर पाक जिंदाबाद का नारा नहीं लगा सकते हैं। तो वहीं जवान के साथ इतना कुछ हो जाने के बाद भी उसने अपना आपा नहीं खोया और ड्यूटी के दौरान हुए इस घटना की जानकारी सेना के कंट्रोल रूम दी। तो वहीं सीआरपीएफ का यह जवान पश्चिम बंगाल के मिदनापुर जिले में सीआरपीएफ के 50वीं बटालियन में तैनात है। और साल 2011 में ज्वाइन की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

The Rampant Cases of Untouchability and Caste Discrimination

The murder of a child belonging to the scheduled caste community in Saraswati Vidya Mandir…