राशिफल 2017

0
Want create site? With Free visual composer you can do it easy.

मेष राशिफल 2017

मेष जातक साल 2017 का स्वागत धूम-धाम से कर सकते हैं। यह साल आपके लिये काफी भाग्यशाली रहने की संभावनाएं हैं। चूंकि 2017 की शुरुआत सूर्य के वार यानि रविवार से हो रही है जिसे राजा भी मानते हैं। सूर्य सजीव एवं अग्नि तत्व वाला ग्रह है। इसका संकेत है कि मेष जातकों के लिये यह शुभ समाचार लेकर आयेगा। राशि का मालिक भी एकादश भाव में है जो कि बहुत ही लाभदायक रहने के आसार हैं।

2017 में आपको सुख-समृद्धि, कार्यक्षेत्र में उन्नति, सुखद सफल यात्राएं, परिवार और जीवन साथी का सहयोग सब मिलने के आसार हैं। साल के शुरुआती सप्ताह में ही आप शनि की ढ़ैय्या से मुक्त हो जायेंगें। इस समय आप महसूस कर सकते हैं कि लक्ष्यों तक पहुंचने के लिये आपके पैरों में मजबूरियों और अड़चनों की जो जंजीरें पड़ी हुई थी वे कट चुकी हैं। हालांकि विद्यार्थियों को अपने लक्ष्य हासिल करने में थोड़ी अधिक मेहनत करनी पड़ सकती है लेकिन उन्हें इस कड़ी मेहनत का अपेक्षित परिणाम भी हासिल होगा।

स्वास्थ्य को लेकर आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता होगी। आपके लिये बेहतर होगा कि नित्य योगाभ्यास करें। आपमें इस पूरे वर्ष गज़ब का आत्मविश्वास रहने के आसार हैं जो कि आपकी आर्थिक स्थिति को बेहतर करने में भी सहायक सिद्ध होगा। व्यापारिक यात्राएं बढ़ सकती हैं लेकिन उनमें सफलता भी हासिल होगी। अविवाहित प्रेमी जातक इस साल परिणय सूत्र में बंधने का संकल्प कर सकते हैं। आप में से कुछ के यहां शहनाई बजने के भी आसार हैं।

लेकिन ऐसा नहीं है कि इस वर्ष आपके जीवन में सब कुछ टिप-टोप ही रहेगा। अप्रैल के प्रथम सप्ताह से आप पर फिर से शनि की ढ़ैय्या रहेगी जिससे आपके जो काम बिल्कुल बनने की कगार पर खड़े हैं, उनमें अचानक कुछ न कुछ अड़चनें लगनी शुरु होंगी। वहीं सितम्बर तो आप पर मुसीबतों का पहाड़ टूट सकता है दरअसल इस समय राहू-केतु राशि परिवर्तन करेंगें जो कि मुश्किलों के लिहाज से आपके लिए कठिन दौर कहा जा सकता है। लेकिन घबराने की जरुरत नहीं है जल्द ही बृहस्पति भी राशि परिवर्तन करेंगे जिससे आपके दिन फिर से बहुरने लगेंगे। वहीं शनि की ढ़ैय्या का प्रभाव अक्तूबर में समाप्त हो जायेगा अब आप चैन की साँस ले सकेंगे, इस समय आपकी सारी दुविधाएं दूर हो सकती हैं।

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि यदि विद्वान ज्योतिषाचार्यों से आप परामर्श कर शनि की ढ़ैय्या का समाधान करवा लेते हैं तो यह साल आपके लिये बहुत ही भाग्यशाली रह सकता है।

वृष राशिफल 2017

वृषभ जातक स्वभाव से शांत, मेहनती और शारीरिक रुप से हष्ट-पुष्ट होते हैं। वर्ष 2017 आपके लिये कभी खुशी कभी गम लेकर आ सकता है लेकिन खुशियां होंगी ज्यादा और गम होंगें कम, इसी उम्मीद से नव वर्ष 2017 में बढाइयेगा कदम।

साल की शुरुआत में आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता है। क्योंकि इस समय राशि स्वामी शुक्र का केतु के साथ युक्ति संबंध रहेगा। विशेषकर भावनात्मक रूप से आपको आहत होना पड़ सकता है इसलिये प्रेम-संबंधों के मामले में हर कदम संभल कर उठाना होगा। विवाहित जातक अपने जीवनसाथी में पूर्णतया विश्वास जतायें अन्यथा संबंधों में खटास पैदा हो सकती है।

जनवरी के अंतिम सप्ताह में शनि के राशिपरिवर्तन से आप पर शनि की ढ़ैय्या आरंभ होगी जिससे आपकी परेशानियां बढ़ सकती हैं। इस समय यदि आप भाग्य के भरोसे बैठेंगे तो यह आपकी बड़ी भूल साबित हो सकती है, इसलिये कठिन परिश्रम करें। शनि एक न्यायप्रिय देवता हैं, इसलिये कड़ी मेहनत का फल आपको मिल सकता है। कार्यस्थल पर पदोन्नति के आसार हैं लेकिन आपको थोड़ा संयम से रहने की आवश्यकता होगी क्योंकि वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मतभेद पैदा होने की संभावनाएं भी प्रबल हैं। ढ़ैय्या का ज्यादा असर आपके कर्मक्षेत्र, आपके सम्मान व आपके नाम पर पड़ने के आसार हैं। यदि न्यायालय में कोई मामला लंबित है और परिणाम अपेक्षित है तो हो सकता है यह फैसला आपके पक्ष में न आये।

व्यावसायिक जीवन में भले ही आपको थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़े लेकिन व्यक्तिगत जीवन में शुभ समाचार आपके जख्मों पर मरहम का काम करेंगें। संतान पक्ष की ओर से आपको बहुत ज्यादा खुशी देने वाला समाचार मिल सकता है।

हालांकि अप्रैल में शनि के वक्री होने से आपको शनि की ढ़ैय्या से कुछ समय के लिये मुक्ति मिलेगी। आपके लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों की सलाह है कि शनि की ढ़ैय्या के प्रभाव को कम करने का उपाय जरुर करवायें।

आसमान से टपके, खजूर में अटके कुछ ऐसा ही आपके साथ अप्रैल के बाद के समय में हो सकता है। क्योंकि शनि की ढ़ैय्या से मुक्त होने के साथ ही बुध का मेष राशि में वक्र होना आपके लिये शुभ नहीं कहा जा सकता है। इस दौरान आपके खर्चे बढ़ने की संभावनाएं प्रबल होंगी जिससे आप कठिन आर्थिक हालातों का सामना भी कर सकते हैं। इस समय स्वास्थ्य के प्रति भी आपको सचेत रहने की आवश्यकता होगी विशेषकर गर्मी संबंधी बिमारियां आपको अपनी जकड़ में ले सकती हैं। माता के स्वास्थ्य के लिये भी यह समय हानिकारक हो सकता है लेकिन भाई-बहनों के लिये अच्छा रहने के आसार हैं। हालांकि इसी समय गुरु भी कन्या राशि में रहेंगें जिनके प्रभाव से इन तमाम परिस्थितियों में आपको सगे-संबंधियों से उचित सलाह भी मिलने की संभावना है।

सितंबर में राहू-केतु राशि परिवर्तन करेंगे, यह समय आपके लिये बहुत भाग्यशाली रहने के आसार हैं। राहू जहां आपके पराक्रम में वृद्धि कर सकते हैं और शत्रुओं पर विजय प्राप्त करवा सकते हैं वहीं केतु जो कि भाग्य क्षेत्र में होंगें आपकी रुचि धर्म-कर्म के कामों की ओर बढ़ा सकते हैं। हो सकता है इस दौरान आपके परिवार में बड़े स्तर पर किसी मांगलिक कार्य का आयोजन हो।

लेकिन चिंता कि बात यह है कि आपके लिये यह सौभाग्यशाली समय बहुत ज्यादा समय के लिये नहीं है। राहू-केतु के राशि परिवर्तन के तीन दिन बाद ही बृहस्पति भी राशि परिवर्तन करेंगें जिससे आपकी परेशानियां फिर से बढ़ सकती हैं। इस समय किसी भी महत्वपूर्ण फैसले को लेने से पहले अच्छे से उसके सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं पर विचार-विमर्श कर लें हो सके तो अनुभवी व्यक्तियों से सलाह अवश्य लें। आगे के समय में साल के अंत तक आपको ऐसे ही उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं।

मिथुन राशिफल 2017

मिथुन राशि के जातक अक्सर मिलनसार होते हैं और इनके बहुत सारे दोस्त होते हैं। विपरीत लिंगी के प्रति तो ये स्वयं भी बहुत जल्द आकर्षित होते हैं और अपनी और भी उन्हें जल्द ही आकर्षित कर लेते हैं। वर्ष 2017 में भी आपका जादू लोगों पर चलने के आसार हैं। वर्ष के आरंभ में ही राशि स्वामी बुध वक्री होकर सूर्य के साथ गोचर में युक्ति संबंध बना रहा है जो कि संकेत कर रहा है कि यदि अपने से सीनियर की राय मानकर आप कोई कार्य करते हैं तो उसमें आपको लाभ मिलने के आसार हैं। हालांकि बुध वर्ष के प्रथम सप्ताह में ही वक्री रहेंगें 8 जनवरी की शाम तक वह मार्गी हो जायेंगें। इस वर्ष आपको नये काम और नई चुनौतियों को स्वीकार करना पड़ सकता है।

शनि के राशि परिवर्तन का असर मिथुन जातकों पर मिला-जुला रहने के आसार हैं। शनि इस समय आपकी राशि से सातवें स्थान पर होंगे जिसके कारण आप असमंजस की स्थिति में रह सकते हैं। जीवनसाथी के साथ मतभेद पैदा हो सकते हैं लेकिन अगर आप अपने साथी की भावनाओं का खयाल रखते हैं तो उनका सहयोग प्राप्त किया जा सकता है।

अप्रैल का महीने में आपके सामने एक साथ कई मुश्किलें आ सकती हैं इसलिये व्यवहार से लेकर व्यापार तक हर मामले में आपको सावधानी रखें। दरअसल इस समय राशि स्वामी बुध व शनि देव दोनों ही वक्री होंगें। इस समय हो सकता है आप अपने काम या स्थान के परिवर्तन का भी मन बना लें। शनि के वक्र होने से आपको लक्ष्यों तक पंहुचने के लिये बहुत अधिक मेहनत करनी पड़ सकती है। राशि स्वामी के वक्री होने से भी आप निर्णयों को लेने में हिचकिचा सकते हैं या फिर असमंजस की स्थिति पैदा हो सकती है। यदि आप इस समय सोच-विचार कर सही निर्णय लेते हैं तो यह आपके लिये लाभकारी भी हो सकता है। आपके लिये सलाह है कि वक्री शनि व बुध के नकारात्मक प्रभावों से बचने के उपाय जानने के लिये विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श अवश्य कर लें।

कड़ी मेहनत करते रहे तो सितंबर में राहू-केतु के परिवर्तन के साथ ही आपको सचेत रहना होगा इस समय आपको धन की हानि हो सकती है, कार्यक्षेत्र में प्रतिस्पर्धी या इर्ष्यालु आपको नुक्सान पहुंचाने का प्रयास भी कर सकते हैं। लेकिन विदेश में संभावनाएं तलाश रहे जातकों के लिये बहुत ही शुभ समय रहने के आसार हैं। विदेश यात्रा के अवसर मिलने के आसार हैं। राहू-केतु के परिवर्तन के तीन दिन बाद ही बृहस्पति भी अपनी राशि परिवर्तित करेंगें। बृहस्पति के प्रभाव से आपको संतान पक्ष की ओर से कोई शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है। संतान का सुख मिलने के पूरे आसार हैं। बृहस्पति का परिवर्तन आपके भाग्य और लाभ में भी वृद्धि करने वाला साबित हो सकता है।

कुल मिलाकर कह सकते हैं कि नये काम, नये स्थान और नई चुनौतियों के साथ आप 2017 को एक शानदार वर्ष के रुप में बिता सकते हैं।

कर्क राशिफल 2017

कर्क राशि एक चर राशि मानी जाती है जिसमें जल तत्व की प्रधानता पाई जाती है। कर्क जातकों के लिये 2017 कैसा रहेगा इसके जवाब में कहा जा सकता है कि कर्क जातक 2017 को एक आनंददायी वर्ष के रुप में बिता सकते हैं यानि साल 2017 आपके लिये काफी शुभ समाचार लेकर आ सकता है। खासकर नौकरी से लेकर व्यवसाय यानि आर्थिक मामलों में तो आप बेहतरी की उम्मीद कर ही सकते हैं। हालांकि स्वास्थ्य और व्यक्तिगत जीवन खासकर प्रेम संबंधों के मामले में हो सकता है यह आपके लिये एक उत्साही वर्ष साबित न हो।

लेकिन साल की शुरुआत में तो आपको जीवन के हर क्षेत्र में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल जनवरी में शनि का गोचर आपकी राशि से छठे स्थान में होगा जिससे हर क्षेत्र में आपके शत्रु बढ़ सकते हैं। इसी समय शारीरिक रुप से भी आप अस्वस्थ महसूस कर सकते हैं। फरवरी में जैसे ही गुरु वक्री होंगें तो आपके भाई-बहनों के स्वास्थ्य के लिये आपको चिंतित होना पड़ सकता है। धार्मिक कार्यों के प्रति भी आपका रुझान कम हो सकता है जिसके कारण आपको मानसिक तनाव भी झेलना पड़ सकता है। कार्यस्थल पर भी आपको अपने से नीचले वर्ग के कर्मियों से दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

अप्रैल में बुध के वक्री होने से कार्यक्षेत्र में परिवर्तन के योग भी बन सकते हैं। बुध का मेष राशि में परिवर्तन एवं सूर्य के साथ होने से इस समय आपको कुछ शुभ समाचार मिल सकते हैं। व्यापार व लेने देन में लाभ के आसार भी बन सकते हैं। अपने लंबित कार्यों को करने के लिये यह समय आपके लिये काफी अच्छा रहने की संभावना है।

सितंबर के दूसरे सप्ताह में एक बार फिर आपके स्वभाव में एक चिड़चिड़ापन आ सकता है। आपके इस रुखे स्वभाव का कारण राहू का राशि परिवर्तन कर आपकी राशि में आना हो सकता है। इस समय आपको वाद-विवाद से भी थोड़ा बचकर रहने की आवश्यकता होगी अन्यथा आपके संबंधों में खटास पैदा हो सकती है। गृहस्थ जीवन को लेकर विशेष रुप से सतर्क रहने की आवश्यकता होगी। हालांकि इसी समय केतु का सप्तम भाव में होना जीवन साथी का भरपूर सहयोग मिलने के संकेत दे रहा है लेकिन अपने जीवन साथी के स्वास्थ्य का आपको अच्छे से ध्यान रखने की जरुरत पड़ सकती है। इसी महीने राहू-केतु के राशि परिवर्तन के बाद बृहस्पति भी अपनी राशि परिवर्तित करेंगें जो कि आपके लिये काफी शुभ रहने के आसार हैं। भाग्य के बृहस्पति इस समय आपके लिये किसी अच्छे सलाहकार की भूमिका निभा सकते हैं। आपके परिवार का कोई सदस्य इस समय अचानक आपके लिये मार्गदर्शक बनकर सामने आ सकता है। नौकरीपेशे से जुड़े जातकों के लिये बृहस्पति का कर्मक्षेत्र को देखना अच्छे सकेंत कर रहा है। इस समय आप पदोन्नति की उम्मीद भी कर सकते हैं।

कुल मिलाकर एक 2017 आपके लिये तरक्की प्रदान करने वाला साल साबित हो सकता है और आपकी बहुत महत्वपूर्ण जरुरतें इस वर्ष पूर्ण हो सकती हैं लेकिन अपनी व अपने चाहने वालों की सेहत के प्रति इस वर्ष आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता होगी।

सिंह राशिफल 2017

2017 सिहं राशि वालों के लिये बहुत शुभ रहने के आसार हैं। वर्ष का राजा सूर्य है जो कि सिंह राशि का स्वामी होता है। इस वर्ष कुछ अवसर तो आपको ऐसे मिल सकते हैं जिनमें आप अपने शत्रुओं से भी काम निकलवा सकते हैं।

जनवरी माह के अंतिम सप्ताह में शनि का परिवर्तन आपके लिये शुभ शुरुआत कहा जा सकता है। पंचम का शनि आपके आत्मविश्वास में वृद्धि करने वाला तो है ही साथ ही अपनी बुद्धि व विवेक से यदि आप काम लेते हैं तो आप अपने जीवन में उन्नति के पथ पर अग्रसर हो सकते हैं। हालांकि फरवरी के प्रथम सप्ताहांत पर जैसे ही बृहस्पति कन्या में वक्री होंगें आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता होगी। परिवार में संपत्ति को लेकर विवाद हो सकता है लेकिन इसकी भी पूरी संभावनाएं हैं कि इस विवाद के अंत में निर्णय आपके पक्ष में हों यानि आपको इस विवाद में लाभ मिलने के पूरे-पूरे आसार हैं। वहीं वर्ष 2017 का शुरुआती समय आपके लिये इस मायने भी खास हो सकता है कि शुरुआती महिनों में सरकारी योजनाओं से आपको लाभ मिल सकता है। यहां तक यदि आप अपने लिये घर का सपना संजो रहे हैं तो यह सपना भी भी इस समय में आपका पूरा हो सकता है।

लेकिन शारीरिक स्वास्थ्य को लेकर आपको थोड़ा सतर्क रहने की आवश्यकता भी होगी। छोटी-मोटी बिमारियां आपके लिये परेशानी खड़ी कर सकती हैं। भावनात्मक रुप से भी आपको चोट पहुंच सकती हैं विशेषकर प्यार में धोखा मिलने से आप कुछ समय के लिये तनावग्रस्त भी हो सकते हैं। यदि आप परिणय सूत्र में बंधने का विचार कर चुके हैं तो आपके वैवाहिक योग में भी विघ्न पड़ने की पूरी संभावना है। दरअसल अप्रैल में बुध और शनि का वक्र होना आपके आत्मविश्वास को कमजोर व आपकी एकाग्रता को भंग कर सकता है जिस कारण आप हो सकता है कुछ गलत निर्णय भी ले इसलिये इस समय आपके लिये यही सलाह है कि अपने मन को भटकने न दें व ध्यान और योग के लिये भी कुछ समय अवश्य निकालें।

इसके बाद सितंबर का समय आपके लिये एक बार फिर मुश्किलें खड़ी कर सकता है। यहां से आपको अपना हर कदम फूंक-फूंक कर रखने की आवश्यकता होगी। दरअसल सितबंर के दूसरे सप्ताह के मध्य में राहू-केतु अपनी राशि परिवर्तित करेंगें जो आपके लिये बिल्कुल भी शुभ नहीं कहे जा सकते। हालांकि सप्ताहांत पर बृहस्पति का भी राशि परिवर्तन आपके पराक्रम में होगा लेकिन यह भी आपके लिये विशेषकर व्यक्तिगत जीवन में तो कुछ खास नहीं कर पायेगा। साल के अंत तक आप आशंकित रह सकते हैं, एक अनजाना भय भी आपको सता सकता है। आपका आत्म विश्वास भी कमजोर रहने के आसार हैं साथ ही आपके स्वास्थ्य में भी गिरावट महसूस कर सकते हैं। कामकाजी जीवन में हो सकता है कुछ अच्छी खबर भी आपको मिलें। लेकिन वर्ष 2017 का अंतिम हिस्सा हो सकता है आपके लिये उत्साहजनक न रहे।

कुल मिलाकर वर्ष की शुरुआत तो आपके लिये अच्छी रहने के आसार हैं लेकिन साल का अंत आपके लिये शुभ नहीं कहा जा सकता।

कन्या राशिफल 2017

कन्या जातकों के लिये 2017 की शुरुआत चहल-पहल वाली हो सकती है। लग्न से चौथे में बुध का वक्री होना कार्यक्षेत्र उन्नति के योग बना रहा है। यह समय नई योजनाओं व मन की इच्छाओं को पूर्ण करने वाला हो सकता है। लेकिन उत्साह में आने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि 2017 में बाधाओं का भी आपको सामना करना पड़ सकता है हालांकि आप इन बाधाओं को पार करने में सक्षम हो सकते हैं।

कार्यक्षेत्र में आपको काफी मेहनत करने की आवश्यकता हो सकती है। जनवरी के अंतिम सप्ताह में शनि के परिवर्तन से आपके कार्य चुनौतिपूर्ण हो सकते हैं, हालांकि कार्यक्षेत्र के लिये यह शुभ कहा जा सकता है लेकिन व्यक्तिगत जीवन में आपके लिये परेशानी खड़ी कर सकता है। हो सकता है जीवनसाथी का आप पर विश्वास कमजोर हो और आपकी हर गतिविधि को संदेहपूर्ण नजर से देखा जाये। ऐसे में आपके लिये बेहतर होगा कि अपने व्यस्त जीवन में से कुछ समय अपने साथी के लिये भी निकालें ताकि इस तरह की नौबत ना आये। इसी दौरान बीच-बीच में आपको आर्थिक तंगी का सामना भी करना पड़ सकता है लेकिन दोस्तों व परिजनों द्वारा मिले सहयोग से खुद को भाग्यशाली भी समझ सकते हैं।

इस वर्ष दुर्घटनाओं का संयोग भी बन सकता है इसलिये यात्रा पर जाते समय सावधानी जरुर बरतें, वाहन चलाते समय भी सतर्क रहें और किसी तरह की लापरवाही न करें। नशीले पदार्थ का सेवन करने के बाद वाहन चलाना आपके लिये और भी घातक हो सकता है। फरवरी में बृहस्पति के वक्री होने से आपकी मानसिक स्थिति प्रभावित हो सकती है और आप असमंजस की स्थिति में रह सकते हैं। इस समय निर्णय लेना भी आपके लिये मुश्किल हो सकता है।

अप्रैल में बुध और शनि का वक्री होना संतान पक्ष की ओर से आपकी चिंताए बढ़ा सकता है। छोटी-छोटी यात्राओं के योग भी बन सकते हैं लेकिन उनमें अड़चनें भी लग सकती हैं। जून में जैसे ही बृहस्पति मार्गी होंगें आप फिर से अपने अंदर एक नई ऊर्जा को महसूस कर सकते हैं। यह समय भविष्य में कुछ नया करने की योजना बनाने के लिये काफी शुभ हो सकता है।

सिंतबर में राहू-केतु के परिवर्तन के साथ ही कुछ जातकों के लिये विदेश यात्रा के योग बन सकते हैं जिनके सफल रहने की उम्मीद की जा सकती है। केतु का पंचम में आना आपके लिये संतान योग बना रहा है। इस समय संतान से सुख प्राप्ति का योग भी बन रहा है। वहीं सिंतबर में ही बृहस्पति का आपकी राशि से दूसरी राशि में आना संबंधों के मामले में आपके लिये काफी सुखद हो सकता है। पिछले लंबे समय से पुराने संबंधों में जो खटास पैदा हुई है वह दूर होने के आसार बन सकते हैं। इसी समय अविवाहित जातकों के लिये विवाह के योग भी बन सकते हैं। आर्थिक स्थिति भी अच्छी रहने के आसार हैं। कार्यक्षेत्र में भी उन्नति होने के आसार हैं।

कुल मिलाकर 2017 आपके लिये एक शानदार वर्ष रहने की संभावना है। चुनौतियां तो आपके रास्ते में आयेंगी लेकिन आपमें इतनी हिम्मत व हौसला भी होगा कि आप इन चुनौतियों का सामना कर सकें।

तुला राशिफल 2017

वर्ष 2017 की शुरुआत कन्या लग्न में हो रही है व लग्नेश बुध हैं। बृहस्पति लग्न में बैठे हैं कुल मिलाकर कह सकते हैं कि तुला जातकों के लिये साल की शुरुआत धमाकेधार हो सकती है। विशेषकर वित्तीय मामलों में तो यह साल काफी अच्छा रहने के आसार हैं वहीं व्यक्तिगत जीवन में भी यह वर्ष आपके अकेलेपन को दूर करने में मददगार हो सकता है यानि इसी वर्ष आपके परिणय सूत्र में बंधने के योग भी बन सकते हैं। विद्यार्थी वर्ग के लिये भी यह वर्ष काफी अच्छा रहने के आसार हैं। करियर के क्षेत्र में अपनी जमीन तलाश रहे जातकों को मंजिल मिल सकती है तो पहले से रोजगारशुदा जातकों के लिये पदोन्नति की संभावनाएं भी प्रबल हैं। लेकिन वर्ष के आरंभ में ही शुक्र व मंगल कुंभ राशि में रहेंगें जिसका साफ संकेत है कि आपको पैसे उधार देने से बचना चाहिये।

जनवरी के अंत में शनि का राशि परिवर्तन आपके लिये बहुत ही शुभ है क्योंकि इसके साथ ही आप पर चल रही शनि की साढ़े साती समाप्त हो जायेगी। फरवरी के शुरुआती सप्ताह में ही हालांकि बृहस्पति भी वक्री हो रहे हैं लेकिन तुला जातकों पर इसका प्रभाव नगण्य रहने के आसार हैं। हालांकि कोर्ट-कचहरी के चक्कर से दूर ही रहें तो बेहतर है।

अप्रैल तक का समय आपके लिये काफी शुभ कहा जा सकता है लेकिन अप्रैल के पहले सप्ताहांत पर शनि के वक्री होने से आपके बनते हुए काम अचानक रुक सकते हैं। यह समय आपके जीवन के हर क्षेत्र में मुश्किलें पैदा करने वाला हो सकता है। शुक्र व बुध भी इस समय वक्री होंगे जिसके कारण आपके संबंधों में भी खटास पैदा हो सकती है। बुध के वक्री होने से आपके स्वभाव में परिवर्तन हो सकता है। आवेश में आकर आप किसी की भावनाओं को ठेस भी पंहुचा सकते हैं। इस समय आपके लिये बेहतर रहेगा कि अपनी वाणी पर नियंत्रण रखें व संयम से काम लें। किसी भी तरह के वाद-विवाद में न ही पड़ें तो अच्छा है। ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिये विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श अवश्य कर लें। शनिदेव की पूजा अर्चना करना या करवाना भी आपके लिये लाभदायक हो सकता है।

सितंबर तक का समय आपके लिये थोड़ा मुश्किलों भरा हो सकता है हालांकि अगस्त के अंत से आपकी समस्याएं कुछ कम होने के आसार बन सकते हैं। क्योंकि इस समय शनि मार्गी हो जायेंगें। सितंबर में राहू-केतु का परिवर्तन तुला जातकों के लिये सामान्य रहने के आसार हैं लेकिन सितंबर में ही बृहस्पति तुला राशि में ही आ जायेंगें। इस समय आपको अति आत्मविश्वास से बचना चाहिये। किसी भी कार्य की शुरुआत करने से पहले अपने माता-पिता, गुरु अथवा दोस्तों से सलाह अवश्य लें।

अक्तूबर के अंत में शनि के राशि परिवर्तन के साथ ही आपकी तमाम समस्याओं का समाधान भी होने लगेगा। इस समय आपके रुके हुए कार्य बनने व आपके जीवन की गाड़ी पटरी पर लौट आने की पूरी संभावना है। साल का बाकि बचा समय आपके लिये बहुत ही शुभ कहा जा सकता है।

वृश्चिक राशिफल 2017

वर्ष 2017 वृश्चिक जातकों के लिये मिलाजुला रहने के आसार हैं। साल की शुरुआत अच्छी हो सकती है लेकिन जनवरी के अंत में जैसे ही शनि राशि परिवर्तन करेंगें वैसे ही शनि की साढ़ेसाती भी तीसरे चरण में प्रवेश करेगी। इस समय आपके साथ कोई दुर्घटना घटने की संभावनाएं प्रबल हो सकती हैं। आपके लिये सलाह है कि वाहन चलाते समय विशेष सावधानी रखें। तेज गति में वाहन चलाना आपके लिये बिल्कुल भी ठीक नहीं कहा जा सकता। शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ करना आपके लिये लाभदायक हो सकता है। ऐसा नहीं है कि इस समय आपके साथ सबकुछ बुरा ही होगा बल्कि जैसे जैसे समय आगे बढ़ेगा वैसे वैसे लाभ मिलने की संभावनाएं भी बढ़ सकती हैं।

अप्रैल में बुध के मेष राशि में वक्र होने पर किसी से विवाद होने के आसार हैं आपके लिये बेहतर है कि इस समय किसी भी तरह के वाद-विवाद से दूर ही रहें व अपनी वाणी पर संयम रखें। इसी समय शनि के वक्री होने से कुछ पुराने शत्रुओं से भी आपका सामना हो सकता है हालांकि आप अपनी समझदारी से इन हालातों से निपट सकते हैं। इस समय यात्रा के योग भी आपके लिये बनेंगें लेकिन सावधान रहें दुर्घटनाग्रस्त होने का खतरा इस समय भी आपके सर पर मंडराने के आसार हैं। वहीं कामकाजी जीवन में यह समय आपके लिये शुभ कहा जा सकता है, नौकरी में पदौन्नति होने के योग भी बन सकते हैं। यदि पिछले कुछ समय से आपका पैसा कहीं रुका हुआ है तो उसके भी मिलने के आसार बन सकते हैं। सितंबर तक का समय आपके लिये इसी तरह असमंजस भरा व उतार-चढ़ाव वाला रहने की उम्मीद है। लेकिन सितंबर के दूसरे सप्ताह के मध्य में राहू-केतु के परिवर्तन के साथ ही कार्यस्थल में परिवर्तन के योग बन सकते हैं। यदि आप वर्तमान नौकरी से असंतुष्ट हैं तो कोई बेहतर अवसर इस समय आपको मिल सकता है। थोड़े समय के लिये छोटी-छोटी यात्राएं भी आपको करनी पड़ सकती हैं। लेकिन यात्रा के दौरान अपने सामान खासकर जरुरी कागजात को संभाल कर रखें, गुम होने की संभावनाएं प्रबल हैं। हालांकि इसके साथ ही इसी सप्ताह के अंत में बृहस्पति भी अपनी राशि में परिवर्तन करेंगें लेकिन वृश्चिक जातकों पर इसका प्रभाव नगण्य रहने के आसार हैं।

अक्तूबर के अंत में शनि आपकी राशि को पूर्णत: छोड़ने पर आपके जीवन में शुभ समय की शुरुआत हो सकती है। यही वह समय है जिसमें आपको मंजिल तक पंहुचने का सही मार्ग मिल सकता है। विद्यार्थियों व प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले जातकों के लिये तो यह समय सफलता दिलाने वाला हो सकता है।

धनु राशिफल 2017

कभी खुशी कभी गम घबराइये नहीं फिल्म नहीं यह आपके भविष्य के बारे में ही है। 2017 में आपके राशिफल के अनुसार यही स्थिति रहने के आसार हैं। वर्ष की शुरुआत आप पूरे जोश के साथ कर सकते हैं लेकिन आपके लिये दुखद यह है कि जनवरी के अंत में ही शनि के परिवर्तन के साथ आप पर साढ़ेसाती का द्वितीय चरण आरंभ हो जायेगा। इस वर्ष आपको अपने स्वास्थ्य का विशेष रूप से ध्यान रखने की आवश्यकता है। शनि के प्रभाव से आपके लिये आक्समिक धन हानि के योग भी बन रहे हैं तो वहीं शत्रु या प्रतिस्पर्धी भी आपके रास्ते में अड़चने लगा सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि किसी भी नये या मांगलिक कार्य से पहले शनिदेव की पूजा अवश्य करवायें। दूसरों के मामलों में हस्तक्षेप न करें। विशेषकर दूसरों के झगड़ों से दूर ही रहें तो बेहतर है।

फरवरी में राशि स्वामी बृहस्पति का वक्री होना आपके लिये शुभ नहीं है विशेषकर घर में बड़े-बुजूर्गों व दफ्तर में वरिष्ठ अधिकारियों के साथ आपके संबंध बिगड़ सकते हैं। इस दौरान आपके लिये सलाह है कि घर व दफ्तर में अपने कार्यों एवं दायित्वों का निर्वाह गंभीरता से करें व तय समय पर लक्ष्यों को हासिल करें। हो सकता है इस दौरान अपने परिजनों की सेहत के प्रति भी सावधान रहें।

अप्रैल में शनि के वक्री होना आपके लिये कुछ गड़े मुर्दों को उखाड़ने वाला हो सकता है। इस समय कोई पुरानी परेशानी फिर से आपके सामने आ सकती है। यह समय भी आपके लिये अपना प्रत्येक कदम सावधानी के साथ उठाने का है। यदि इस समय आपका कोई भी कार्य बिगड़ गया तो उसके संवरने के लिये आपको शनि के मार्गी होने तक इंतजार करना पड़ सकता है।

वर्ष के पूर्वाध यानि की जून तक का समय आपके लिये मुश्किलों भरा रहने के आसार हैं हालांकि बीच-बीच में कुछ शुभ समाचार आपको थोड़े समय के लिये राहत दे सकते हैं। प्रेमी युगलों के लिये भी वर्ष का शुरुआती आधा हिस्सा कष्टप्रद रह सकता है।

जून में जैसे ही बृहस्पति मार्गी होंगे आपकी मुश्किलों में कुछ कमी आयेगी। घर व दफ्तर में आपकी प्रतिष्ठा व आप पर परिजनों अथवा अधिकारियों का जो विश्वास कम हुआ था उसे दोबारा हासिल कर सकते हैं। जून के अंतिम सप्ताह से लेकर अक्तूबर के अंत तक का समय आपके लिये शुभ कहा जा सकता है। अपने रूके हुए कार्यों को इस अवधि में पूरा करने का प्रयास करें दरअसल इस समय शनि वृश्चिक राशि में रहेंगें जिस कारण आपकी मुश्किलों थोड़ी कम होने के आसार हैं।

हालांकि अगस्त के अंत में मंगल के सिंह राशि में प्रवेश करने से अचानक किसी विवाद के होने की स्थिति बन सकती है। आपके लिये सलाह है कि इस समय संयम व सूझबूझ से काम लें। सितंबर के दूसरे सप्ताहांत पर बृहस्पति के तुला राशि में चले जाने पर आपको कोई खुशखबरी मिल सकती है। इसके अलावा यह समय सामान्य बना रहने के आसार हैं। अक्तूबर के अंत में शनि पुन: आपकी राशि में प्रवेश करेंगें और आपकी मुश्किलों को बढ़ायेंगें लेकिन वर्षांत पर शुक्र व सूर्य के आपकी राशि में आने से कुछ समय के लिये आपको शुभ समाचारों के साथ राहत मिल सकती है।

कुल मिलाकर वर्ष 2017 का समय आपके लिये थोड़ा कठिन है लेकिन समस्या है तो समाधान भी जरूर होता है। विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर शनि के दुष्प्रभावों से बचने के उपाय करके आप अपनी मुश्किलों में कमी ला सकते हैं। वर्ष का अंत आपके लिये सुखद रहने के आसार हैं।

मकर राशिफल 2017

वर्ष 2017 आपके लिये एक बेहतर वर्ष साबित हो सकता है। वर्ष की शुरुआत आप काफी धूमधाम से कर सकते हैं। लेकिन इस समय बुध के धनु राशि में वक्री रहने के कारण अपनी वाणी पर ज़रूर आपको नियंत्रण रखने की आवश्यकता होगी। इस समय यदि वर्तमान नौकरी को बदलने का विचार बना रहे हैं या फिर, घर बदलना चाहते हैं या कहीं साक्षात्कार के लिये जाना हो तो यदि संभव हो तो कुछ समय के लिये इसे स्थगित कर दें। यदि जाना ही पड़े तो विद्वान ज्योतिषाचार्यों से वक्री बुध के नकारात्मक प्रभाव से बचने का उपाय अवश्य करें। बुध के मार्गी जो कि जल्द ही जो जायेंगें, होने पर आपको इन कार्यों में सफलता मिल सकती है।

जनवरी के अंत में राशि स्वामी शनि के राशि परिवर्तन के साथ ही आप पर साढ़ेसाती का प्रथम ढ़ैय्या आरंभ होगा। चूंकि शनि आपका राशि स्वामी है इसलिये यह आपके लिये नुक्सान दायक नहीं बल्कि सामान्य रुप से फलदायी ही रहने के आसार हैं।

वहीं फरवरी में बृहस्पति के कन्या राशि में वक्री रहने पर पेट संबंधी रोग होने की संभावना भी बढ़ सकती हैं। अपने खान-पान पर अवश्य ध्यान दें। निर्णयों को लेने में सावधानी रखें, बृहस्पति के वक्री प्रभाव से आपकी बुद्धि नकारात्मक हो सकती है जिससे कुछ गलत निर्णय भी आप ले सकते हैं।

अप्रैल में बुध चूंकि मेष राशि में वक्री होंगे और इसी समय शनि भी वक्री होंगे बुध का वक्री प्रभाव आप पर सामान्य रहने के आसार हैं तो शनि भी आपके लिये आंशिक रुप से इस समय फलदायी होंगें यानि राशि स्वामी भी ज्यादा लाभ आपको इस समय नहीं देंगें।

जून में बृहस्पति के मार्गी होने पर आपकी समस्याओं का समाधान होने के आसार हैं विशेषकर आपके स्वास्थ्य में आयी दिक्कतें इस समय दूर हो सकती हैं और आप एक नई ऊर्जा के साथ कार्यों को अंजाम दे सकते हैं। जुलाई के दूसरे सप्ताहांत के निकट मंगल का कर्क राशि में प्रवेश करना आपके शत्रुओं को सक्रिय कर सकता है जिससे कुछ क्षणिक बाधाएं आपके कार्यों में आ सकती हैं।

सितंबर के दूसरे सप्ताह के मध्य में केतु आपकी राशि में दाखिल होंगे यह समय शुरुआत में थोड़ा कष्टदायक हो सकता है लेकिन कुछ समय उपरांत आपको बड़ी सफलताएं भी इसके प्रभाव से मिल सकती हैं। लेकिन केतु कई बार सर्पदंश का कारण भी बनता है इसलिये अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें। सर्पदंश से बचने के लिये भगवान भोलेनाथ की पूजा कर सकते हैं। इसके साथ ही इसी सप्ताहांत पर बृहस्पति का तुला राशि में आना आपका भाग्योदय कहा जा सकता है। इस समय आपको जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में लाभ मिलने के आसार हैं। करियर और आर्थिक स्तर पर यह समय उन्नति का रहने की संभावना है। धार्मिक कार्यों के प्रति भी इस समय आपका रूझान हो सकता है। प्रेमपाश में बंधे जातक परिणय सूत्र में भी इस समय बंध सकते हैं।

अक्तूबर में शनि का परिवर्तन वर्ष के पूर्वाध में हुए सारे नुक्सान की भरपाई कर सकता है। विद्यार्थियों पर पूरे वर्ष बृहस्पति की अपार कृपा रहने के आसार हैं।

कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि वर्ष 2017 आपके लिये एक बेहतरीन साल रह सकता है। विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर ग्रहों के नकारात्मक प्रभाव से बचने का उपाय करें, अपनी सेहत के प्रति सचेत रहें। आर्थिक उन्नति व प्रेम के पथ में सफलता आपके कदम चूम सकती है।

कुंभ राशिफल 2017

कुंभ राशि के जातकों के लिये वर्ष 2017 काफी अच्छा रहने के आसार हैं हालांकि वर्ष की शुरुआत पारिवारिक जीवन में अशांति वाली हो सकती है। दरअसल वर्ष के आरंभ में ही आपकी राशि में शुक्र, केतु और मंगल विचरण करेंगें जिससे ग्रह क्लेश होने की संभावनाएं बनी रहेंगी। जनवरी के अंत में राशि स्वामी शनि का परिवर्तन होगा जो कि आपकी राशि से 11वां होगा, यह आपके लिये बहुत शुभ रहने के आसार हैं। भूमि, वाहन आदि की खरीद कर सकते हैं। इस समय व्यापार में धन का निवेश करना भी आपके लिये भविष्य में अच्छे परिणाम देने वाला हो सकता है।

फरवरी में बृहस्पति कन्या राशि में वक्री होंगे, इनके प्रभाव से आपको अपने गुरुजनों, वरिष्ठ अधिकारियों, परिवार में बड़े-बुजूर्गों का अच्छा सहयोग मिलने के आसार हैं। आपके लिये सलाह है कि अपने से बड़ों का सम्मान करें व इनकी बातों को अपने जीवन में धारण करें, भविष्य में इसके सकारात्मक परिणाम भी आपको दिखाई दे सकते हैं।

अप्रैल में शुक्र ग्रह के वक्री होने से अचानक बड़े खर्चे आ सकते हैं। इस समय किसी से ऋण न लें व अपने सामर्थ्य के अनुसार ही धन का उपयोग करें। इसी समय राशि स्वामी शनि के वक्री होने से व्यापार, विद्या नौकरी में अचानक कठिनाइयां आ सकती हैं। आपके लिये बेहतर है कि सूझबूझ से काम लें और गलत निर्णय लेने से बचें। विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर शनि पूजा करवाना भी आपके लिये लाभकारी हो सकता है।

जून में बृहस्पति के मार्गी होने से बड़ों का सहयोग मिलेगा। कार्यक्षेत्र में भी वरिष्ठ अधिकारी आपके कार्य से खुश होंगे। पदोन्नति चाहने वालों के लिये भी यह शुभ अवसर हो सकता है। इस अवसर का भरपूर लाभ उठाएं

अगस्त में शनि का वृश्चिक राशि में मार्गी होना लंबे समय से चल रही अड़चनों को दूर कर सकता है। बेरोजगार जातकों को इस समय रोजगार मिलने की संभावना बढ़ जायेंगी। इस समय का अधिक से अधिक सदुपयोग करें। समय कुल मिलाकर अच्छा लेकिन वृश्चिक राशि वाले जातकों से थोड़ा सावधान रहें खासकर तब जब वे आपके साथ व्यवसाय में साझेदार हों।

सितंबर में काफी समय से विचरण कर रहे केतु के परिवर्तन के कारण लंबी बिमारी और पिछले दो-ढाई सालों से चल रहे विवाद व मानसिक परेशानियां दूर हो सकती हैं। रुके हुए कार्य सिरे चढ़ने के आसार हैं। दूर यात्रा के योग भी बन सकता है, लेकिन यात्रा के दौरान सावधानी अवश्य बरतें।

सितंबर में ही आपकी राशि से 9वें बृहस्पति आने से भाग्य का अपार साथ मिलेगा, ऊंचे पद प्रतिष्ठा का योग भी बन सकता है। व्यापार में भी लाभ मिलने के आसार हैं। बुद्धि सात्विक बनी रहेगी। जिन लोगों से अभी तक निराशा हाथ लगी है आप देख सकते हैं कि वे लोग भी आपके सहयोगी होते जा रहे हैं। बृहस्पति का यह सकारात्मक प्रभाव लंबे समय तक आपको मिलने के आसार हैं। तुला राशि के जातकों से बनाकर रखें इनसे आपको विशेष लाभ मिल सकता है साथ ही बड़े बुजूर्गों का सम्मान अवश्य करें।

मीन राशिफल 2017

नववर्ष का 2017 के आगमन पर बृहस्पति कन्या लग्न में रहने से मीन राशि को सपष्ट दृष्टि से देखता है और अपने घर को देखने से यह वर्ष आपके लिये शुभ रहने के आसार हैं। अपने जीवन के हर क्षेत्र में आपको नये अवसर, नई संभावनाएं मिल मिल सकती हैं।

जनवरी के अंत में शनि अपनी राशि परिवर्तित करेंगें लेकिन मीन जातकों पर इसका प्रभाव सामान्य बने रहने की उम्मीद की जा सकती है। वहीं फरवरी में बृहस्पति का वक्री होना थोड़ी मुश्किलें पैदा कर सकता है। कार्यस्थल पर वरिष्ठ अधिकारियों के कोप का भाजन बनना पड़ सकता है। परिवार में बड़े बुजूर्गों की नाराजगी झेलनी पड़ सकती है। हो सकता है आपको अपने अनुकूल लगने वाले लोग भी आपके खिलाफ खड़े मिलें। लेकिन घबराने की आवश्यकता नहीं है ऐसे समय में ही अपने और पराये की पहचान भी होती है जो कि भविष्य के लिये अच्छा रहता है। यह समय अपने जीवन में आने वाली चुनौतियों से सबक लेने का समय भी आपके लिये हो सकता है।

अप्रैल में आपकी राशि से द्वितीय भाव में बुध के वक्री होने से धन की गति में रुकावट बनी रह सकती है। व्यावसायिक व प्रेम जीवन में आपके संबंध मजबूत होने की संभावना भी अप्रैल में वक्री शुक्र के आपकी राशि में उच्च का होने से बन रही हैं। साथ ही सूर्य के होने से सेहत के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता भी आपको होगी। इसी महीने शनि भी वक्री होंगे लेकिन शनि का प्रभाव आप पर सामान्य बना रहने के आसार हैं।

मई के पहले सप्ताह में बुध के मार्गी होने के साथ ही धन के मामले में आ रही रूकावटें दूर हो सकती हैं। तो वहीं जून में अपने प्रेम संबंधों के प्रति थोड़ा सचेत रहें। जून के आरंभ में शुक्र आपकी राशि से निकल जायेंगें ऐसे में साथी के साथ अलगाव की स्थिति हो सकती है। विशेषकर अविवाहित प्रेमी युगल सावधान रहें। आपके लिये सलाह है कि अपने रिश्ते की अहमियत को समझें व जल्दबाजी में कोई भी निर्णय न लें। इस समय प्यार में खायी चोट आपके कामकाजी जीवन में भी खोट पैदा कर सकती है जिससे कार्यस्थल पर आपकी प्रतिष्ठा को ठेस पंहुच सकती है।

सितंबर में सूर्य का कन्या राशि में होंगे इस समय आपको लंबी यात्राओं से बचकर रहने की सलाह दी जाती है साथ ही अपनी सेहत के प्रति सावधान रहें। इसी महीने दूसरे सप्ताह के मध्य में राहू-केतु का परिवर्तन होगा। केतु आपकी राशि से ग्याहरवें घर में आने से घर में किसी मांगलिक कार्य का आयोजन हो सकता है। साथ ही पैतृक संपत्ति में भी आपको हिस्सा मिलने के आसार हैं। व्यवसाय में मुनाफे को लेकर लंबे समय से यदि रूकावट महसूस कर रहे हैं तो इस समय वह दूर हो सकती हैं। काली गाय की सेवा करना आपके लिये फायदेमंद हो सकता है। सितंबर में ही राशि स्वामी बृहस्पति के तुला राशि में प्रवेश करने से लंबी यात्राओं के योग बन सकते हैं व घर के सदस्यों के प्रति आपकी चिंताएं बढ़ सकती हैं। अपनी सेहत का ध्यान रखें व गरिष्ठ भोजन का सेवन न ही करें तो बेहतर है। वर्ष का बाकि समय अच्छा रहने के आसार हैं।

कुल मिलाकर वर्ष 2017 आपके लिये एक बेहतरीन वर्ष कहा जा सकता है लेकिन स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही बिल्कुल भी न बरतें।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

You might also like More from author