Home Social जानिए मायावती की मेरठ रैली की वो बातें जो आप नहीं जानते होंगे
Social - State - Uttar Pradesh & Uttarakhand - September 18, 2017

जानिए मायावती की मेरठ रैली की वो बातें जो आप नहीं जानते होंगे

मेरठ। बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने मेरठ में एक विशाल महारैली को संबोधित कीं . मायावती ने रैली में बोलते हुए जमकर बीजेपी पर निशाना साधा. बीजेपी पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि बीजेपी ने षडयंत्र के तहत बीएसपी को नुकसान पहुंचाया. बीजेपी ने यूपी में हुए विधानसभा चुनावों में ईवीएम में गड़बड़ी कर बीएसपी को भारी नुकसान पहुंचाया. मायावती ने आगे कहा कि ईवीएम गड़बड़ी को लेकर बीएसपी को सुप्रीम कोर्ट जाना पड़ा. वहीं मायावती ने सहारनपुर में भड़की जातीय हिंसा को लेकर बीजेपी पर खूब बरसीं. मायावती ने बीजेपी पर षडयंत्र के तहत सहारनपुर में जातीय हिंसा कराने का आरोप भी लगाया. मायावती ने कहा कि सहारनपुर में दलित समुदाय के लोगों का भयंकर शोषण हुआ. उन्होंने कहा कि सहारनपुर में महाराणा प्रताप जयंती के मौके पर सोची समझी साजिश के तहत हिंसा भड़काया गया और सहारनपुर कांड पर सदन में उन्हें बोलने तक नहीं दिया गया. इसलिए उन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया.


आरक्षण खत्म करना चाहती है मोदी सरकार

मायावती ने कहा कि बीएसपी के नेता हालात देखकर अपनी बात रखते हैं. वहीं बीएसपी दुखी, पीड़ित कमजोर वर्गों के लिए लड़ रही है. उन्होंने कहा कि पिछड़े वर्ग को आरक्षण दिलाने के लिए बीएसपी ने दबाव बनाया. उन्होंने कहा कि मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू कराने के लिए हमने धरना दिया. हमने वीपी सिंह से कुछ शर्तें मानने के लिए कहा. बाबा साहब ने कमजोर वर्गों के लिए संघर्ष किया. उन्होंने कानून मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया था. वह तब महिलाओं के लिए हक की लड़ाई लड़ रहे थे. बाबा साहब ने महिलाओं के लिए हिन्दू कोड बिल तैयार किया था. वह महिलाओं को बराबरी का हक दिलाने चाहते थे. बाद में हिन्दू कोड बिल टुकड़ों-टुकड़ों में पास हुआ. यह बाबा साहब अंबेडकर की देन है. मायावती ने कहा कि दलितों, आदिवासियों के आरक्षण को ठीक ढंग से लागू नहीं किया गया. ‘सही ढंग से आरक्षण लागू न करने पर बाबा साहब ने आपत्ति जताई थी. माया ने कहा कि पदोन्नति में आरक्षण का मामला अभी तक लटका है और प्राइवेट सेक्टर में आरक्षण देने का मामला भी लंबित है. बीजेपी की शुरू से ही आरक्षण विरोधी मानसिकता रही है.

इस्तीफे के बाद माया की पहली रैली
राज्यसभा से इस्तीफा देने के बाद मायावती की ये पहली रैली थी. इस रैली में मेरठ, सहारनपुर और मुरादाबाद मंडल से भारी भीड़ पहुंची. जिसके चलते शहर में कई जगह जाम लग गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

The Rampant Cases of Untouchability and Caste Discrimination

The murder of a child belonging to the scheduled caste community in Saraswati Vidya Mandir…