Home Social प्रदेश में जंगलराज कायम, योगी सरकार कर रही सच को दबाने की कोशिश- अखिलेश
Social - State - Uttar Pradesh & Uttarakhand - August 18, 2017

प्रदेश में जंगलराज कायम, योगी सरकार कर रही सच को दबाने की कोशिश- अखिलेश

 

नई दिल्ली। औरेया जाते समय समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पुलिस ने नियमों का उल्लघंन करने के आरोप में हिरासत में लिया था, साथ ही सैकड़ों समाजवादी कार्यकर्ताओं को भी पुलिस ने हिरासत में लिया था। अखिलेश यादव ने घटना को बीजेपी की साजिश करार दिया है, उन्होंने बीजेपी सरकार पर पुलिस के द्वारा असवैंधानिक कार्रवाई करने का आरोप लगाया।

 

 

घटना के कुछ ही घंटो बाद पुलिस ने पूर्व सीएम अखिलेश यादव को रिहा कर दिया है, साथ ही समाजवादी कार्यकर्ताओं को भी रिहा कर दिया। जिसके बाद अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला, उन्होंने कहा कि प्रदेश में जंगलराज कायम है, सच्चाई को दबाने की कोशिश की जा रही है, उन्होंने कहा कि वो पुलिस से डरने वालों में नहीं है, वो सच्चाई को जनता के सामने रखेंगे. इसके लिए वो संघर्ष करते रहेंगे. अखिलेश ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि योगी सरकार पंचायत चुनावों में जीत के लिए हर हथकंडे अपना रही है।

 

दरअसल अखिलेश यादव ओरैया में बुधवार को हुई भाजपा और सपा कार्यकर्ताओं की झड़प के बाद कार्यकर्ताओं से मिलने जा रहे थे. जिसके बाद पुलिस ने उन्हें नियमों का उल्लघंन करने के आरोप में हिरासत में ले लिया। हिरासत में लिए जाने के बाद अखिलेश ने कहा कि सरकार नहीं चाहती कि वे वहां जाएं और अपने कार्यकर्ताओं से मिलें. प्रदेश सरकार जनता से सच्चाई छिपाने के लिए ऐसा कर रही है. उन्होंने कहा कि पूर्व सांसद और पूर्व विधायक पर झूठे मुकदमें लगाए गए हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि इन जनप्रतिनिधियों को पुलिस सारी रात इस थाने से उस थाने में लेकर घूमती रही. उन्होंने कहा कि जब वे अपने साथियों से मिलने जा रहे थे तो उन्हें हिरासत में ले लिया गया.

किस वजह से शुरु हुआ विवाद ?

औरैया जिला मुख्यालय ककोर में बुधवार को जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए बीजेपी से दीपू सिंह और समाजवादी पार्टी से सुधीर यादव उर्फ कल्लू सिंह का नामांकन होना था. दीपू सिंह का नामांकन जैसे ही सम्पन्न हुआ सपा कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर भाजपा वालों का साथ देने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया. देखते ही मामला इतना बढ़ गया कि उग्र सपा कार्यकर्ता पुलिस से भिड़ गए. आगजनी और पथराव के बीच पुलिस ने हालात नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे. एसपी संजीव त्यागी के अनुसार स्थिति तनावपूर्ण है, लेकिन काबू में है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

The Rampant Cases of Untouchability and Caste Discrimination

The murder of a child belonging to the scheduled caste community in Saraswati Vidya Mandir…