Home Social Education दुनिया के 100 सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में भारत के सिर्फ 3 शामिल, IISc के साथ IIT रोपड़ और IIT इंदौर को मिली जगह
Education - June 6, 2021

दुनिया के 100 सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में भारत के सिर्फ 3 शामिल, IISc के साथ IIT रोपड़ और IIT इंदौर को मिली जगह

टाइम्स हायर एजुकेशन ने 2021 की अच्छे विश्वविद्यालयों की लिस्ट जारी की है । जिसमें भारतीय संस्थान IIsc पिछले साल के मुकाबले एक पायदान नीचे आकर 37वें स्थान पर आ गया जो कि शीर्ष के 50 विश्वविद्यालयों में सबसे अच्छा भारतीय संस्थान यही है।

जिसमें आपको बताते दें शीर्ष के 10 में से दो चीन के, तीन हांगकांग के, दो जापान के, दो सिंगापुर के और एक दक्षिण कोरिया के विश्वविद्यालय हैं।11-20 पायदान पर पाँच चीन के, तीन दक्षिण कोरिया के, एक ताइवान और एक हांगकांग के हैं।

भारतीय संस्थान IISc पिछले साल से एक पायदान नीचे आकर 37वें स्थान पर है। शीर्ष के 50 विश्वविद्यालयों में एकमात्र यही संस्थान स्थान पा सका है। पहले सौ संस्थानों में पिछले साल चार भारतीय विश्वविद्यालय थे, इस बार इनकी संख्या तीन है. पाँचो शीर्षस्थ भारतीय संस्थानों की रैंकिंग पिछले साल की तुलना में नीचे आयी है। इस सूची में कुल 551 संस्थान हैं. ये 30 देशों/क्षेत्रों से हैं. चीन के हांगकांग और मकाऊ स्वायत्त क्षेत्र अलग से लिखित हैं
इन 551 में सबसे अधिक जापान के संस्थान (116) हैं. उसके बाद चीन (91) और भारत (63) का स्थान है।

गौरतलब है कि पिछले साल की तुलना में तीन अधिक, अठारह भारतीय विश्वविद्यालयों ने इस वर्ष की टाइम्स हायर एजुकेशन (THE) एशिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग में शीर्ष 200 में जगह बनाई है।

भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc) एशिया में 37 वें स्थान के साथ सर्वश्रेष्ठ घरेलू संस्थान बना हुआ है, इसके बाद रोपड़ और इंदौर में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) हैं। ब्रिटिश रैंकिंग एजेंसी ने 4 जून को कहा कि तीन नए नाम- लखनऊ में किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, दिल्ली में इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (आईआईआईटी) और केरल में महात्मा गांधी यूनिवर्सिटी ने पहली बार शीर्ष 200 सूची में प्रवेश किया है।

तीन भारतीय संस्थान पिछले साल चार के मुकाबले शीर्ष 100 में शामिल हैं। इसके अलावा, सभी शीर्ष पांच घरेलू स्कूलों की रैंकिंग में गिरावट आई है।जबकि IISc पिछले साल से एक रैंक गिरा, IIT रोपड़ आठ स्थान गिरकर 55 वें स्थान पर आ गया, और IIT इंदौर 23 स्थान गिरकर 78 वें स्थान पर आ गया।

मुंबई में रासायनिक प्रौद्योगिकी संस्थान, एक राज्य द्वारा संचालित डीम्ड विश्वविद्यालय, 122 वें स्थान पर था, जो 2020 की स्थिति से 30 रैंक नीचे था, और IIT गांधीनगर को पिछले साल 114 के मुकाबले 137 पर स्थान दिया गया था। किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, जिसने 2021 में अपनी शुरुआत की, को 139वें स्थान पर रखा गया।

  • इस रैंकिंग में भारत की कोई भी विश्वविद्यालय शीर्ष 300 में स्थान हासिल नहीं कर पाई। इस रैंकिंग में क्वालीफाई करने के लिए भारत की 63 विश्वविद्यालयों ने सफलता प्राप्त की। 
  • 2020 में भारत की 14 विश्वविद्यालयों ने रैंकिंग के लिए सफलतापूर्वक क्वालीफाई किया था। इसके मुकाबले इस बार अधिक विश्वविद्यालय ने क्वालीफाई किया है। इन दक्षिण एशियाई देश में सबसे ज्यादा क्वालीफाई में बढ़ोतरी की है। 

रैंकिंग में प्रथम द्वितीय और तृतीय स्थान क्रमशः 

  1. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी
  2. स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी
  3. हावर्ड यूनिवर्सिटी है। 
  • इसके बाद कैलिफ़ोर्निया इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी बेहतर प्रदर्शन करके अच्छा स्थान हासिल किया।
  • टोप 200 यूनिवर्सिटी में अमेरिका की 59 यूनिवर्सिटी शामिल है, इसके साथ इस रैंकिंग अमेरिका सबसे ज्यादा यूनिवर्सिटी के साथ अग्रणी है। 
  • इसके बाद क्रमशः द्वितीय और तृतीय स्थान पर ब्रिटन और जर्मनी 29 और 21 यूनिवर्सिटी के साथ शामिल है। इस रैंकिंग मैं शीर्ष 20 यूनिवर्सिटी स्थान प्राप्त करने वाला प्रथम एशियाई देश चीन की सिंघुआ विश्वविद्यालय है। 

रैंकिंग के बारे में सामान्य जानकारी

  • इस रैंकिंग बनाने के लिए कई महत्वपूर्ण मापदंडों का इस्तेमाल किया गया है, जिनमें रिसर्च वर्क, ज्ञान, शिक्षण, अंतर्राष्ट्रीय दृष्टिकोण जैसी पैरामीटर का इस्तेमाल किया गया है। 
  • रैंकिंग में 93 देशों के 1527 विश्वविद्यालय के प्रदर्शन को शामिल किया गया था। शीर्ष स्थान पर लगातार पांचवी बार बेहतर प्रदर्शन जारी रखते हुए ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों ने शीर्ष स्थान हासिल किया। 
  • एशियाई विश्वविद्यालय ने भी अच्छी प्रगति की है। अमेरिकी 20 विश्वविद्यालय में आधे विश्वविद्यालय अपनी रैंकिंग बचाने में नाकाम रहे। 

इस रैंकिंग में एशियाई देशों के प्रदर्शन के बारे में जानकारी

  • एशियाई देशों का प्रदर्शन हर साल बेहतर होता जा रहा है, इस प्रदर्शन के पीछे चीन के विश्वविद्यालयों का सबसे बड़ा योगदान है। चीनी विश्वविद्यालय 2016 की तुलना में शीर्ष 200 विश्वविद्यालय में अधिक स्थान प्राप्त किए, इसके अलावा शीर्ष 100 में अपने प्रतिनिधित्व को डबल किया है। 
  • 2020 में शीर्ष 200 में स्थान प्राप्त करने वाले सभी 7 विश्वविद्यालयों ने 2021 में भी अपने स्थान को और भी ज्यादा मजबूत किया है। 

मुख्य ज्ञान अधिकारी फिल बाटी ने कहा, “एशिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग हर साल तेजी से प्रतिस्पर्धी होती जा रही है … यह देखना बहुत अच्छा है कि भारत शीर्ष 100 में कई स्थान हासिल करना जारी रखता है, और शीर्ष 200 में तीन पदार्पण संस्थानों को देखना बहुत प्रभावशाली है।” इस वर्ष भाग लेने वाले संस्थानों की भारत की रिकॉर्ड संख्या इसके विश्वविद्यालयों की अपने साथियों के खिलाफ अपनी ताकत और बेंचमार्क दिखाने के लिए क्षेत्रीय और विश्व मंच पर खड़े होने की इच्छा का प्रमाण है।

बहरहाल उम्मीद है कि हम आने वाले वर्षों में संख्या में वृद्धि देखना जारी रखेंगे क्योंकि भारतीय विश्वविद्यालय कोविड के बाद की दुनिया के अनुकूल हैं।


(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

The Portrayal of Female Characters in Pa Ranjith’s Cinema

The notion that only women are the ones who face many problems and setbacks due to this ma…