Home Social EVM हैकिंग, और सय्यद सूजा के गंभीर आरोप
Social - State - January 23, 2019

EVM हैकिंग, और सय्यद सूजा के गंभीर आरोप

By- निखिल ~

नई दिल्ली – भारत की राजनीति में सोमवार शाम अचानक एक भूकंप सा आ गया. कथित राफेल घोटाले के बाद अब ईवीएम मशीन के मुद्दे पर राजनीति गरमाने के संकेत है. दरअसल हुआ यूं के फॉरेन जर्नालिस्ट एसोसिएशन नामक पत्रकारों के एक सघंठन ने लिंन में प्रेस कॉन्फ्रेंस करवाई. उस प्रेस कॉन्फ्रेंस में सय्यद शुजा नामक भारतीय मूल के अमेरिकी आईटी एक्सपर्ट ने ईवीएम मशीन के बारे में कई राज खोले. उसने उस कॉन्फ्रेंस में दावा किया कि देश के एक नामचीन राजनेता की हत्या ईवीएम मशीन की वजह से हुई है. इसके अलावा और भी बहुत से चुकाने वाले बयान दिए।

सोमवार शाम सय्यद शुजा अचानक पत्रकारों के सामन पेश हुआ. उसने कहा कि 2014 के आम चुनावों में ईवीएम मशीन हैक कर के भाजपा चुनाव जीती थी. इतना ही नहीं उसने इसके बाद कहा कि महाराष्ट्र के भाजपा नेता गोपीनाथ मुडं ईवीएम हैकिंग के बारे में जानते थे. बीजेपी ने इसका उपयोग कर के चुनाव के नतीजे आपने पक्ष में किए थे. इस वजह से पार्टी ने बगावत के डर से एक कार एक्सिडेंट का नाटक रच के उनकी हत्या कर दी थी. इतना ही नही शुजा ने कहा की देश की लगभग सभी पाटीयों को इवीएम हैकिंग की जानकारी है. उन्होंने उसे कई चुनावों के नतीजे अपने पक्ष में करने के लिए सपंर्क भी किया था. शुजा ने अपने बयानों में कहा कि उसे इवीएम हैकिंग आती है. क्सयों की भारत में इवीएम मशीन बनाने वाली कंपनी के टेक्निकल टीम का वह हिस्सा थे. वैसै तो इवीएम में ब्लुटूथ या वाईफाई से हैकिंग नहीं की जा सकती. लेकिन मशीन से निकलने वाली लो फ्रिक्वेंसी रेडिओ तरंगों से इवीएम हैक की जा सकती है.

शुजा ने यह भी दावा किय की भाजपा ने उस टीम के सारे लोगों को मौत के घाट उतार दिया है. लेकिन वह जान बचाकर भागने में सफल रहा. जिसके बाद उसने अमरीका में शरण ले ली. इतना ही नहीं भारत की पत्रकार गौरी लकेंश को भी ईस बात की जानकारी थी और वह इस बारे में स्टोरी करने वाली थी. लेकिन भाजपा ने खतरा भांप कर उनका कत्ल करवा दिया.

इन आरोपो के बाद देश की सियासत में भूचाल आ गया है. लंदन में हुए इस पत्रकार वार्ता में कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल भी मौजूद थे. जिस वजह से कांग्रसे शक के घेरे में आ गई है कि कही कांग्रेस ने ही यह खेल न खेला हो. 2019 के आम चुनाव अभी सिर पर हैं. जिसकी वजह इवीएम पर यह टिप्पणी गभींर समझी जा रही है. लेकिन चुनाव आयोग ने तुरंत ही अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने शुजा के सारे आरोपों को सिरे से खारीज कर दिया है. इस मामले में आयोग कानूनी कार्रवाई करने की तयारी कर रहा है.

वहीं भाजपा के केंद्रीय नेता रविशकंर प्रसाद ने भी बीजेपी पर लगाए सारे आरोपों को सिरे से खारीज कर दिया है. जब बीजेपी जीतती है तभी इवीएम हैक होती है क्यों? ऐसा सवाल उन्होंने पाटी के खेमे से दागा है. वहीं इसे कांग्रेस की राजनीतिक साजिश करार दिया है. शूजा ने अपने बयानो में हाल ही में हुए 4 राज्यों के विधान सभा चुनावों का भी जिक्र किया. इन चुनावों में भी बीजेपी ने इवीएम हैक करने की कोशिश की थी. लेकिन उसके किसी कथित टीम ने बीजेपी की इस मशां को पूरा नहीं होने दिया. जिस वजह से बीजेपी को करारी हार का सामना करना पडा. वही उसने कांग्रेस, बसपा, सपा और आम आदमी पार्टी पर भी इवीएम हैक करवाने के लिए उसे प्रस्ताव दिया गया था, ऐसा आरोप लगाया है. बीएसपी सुप्रिमो मायावती ने भी एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के इवीएम की जांच किए जाने की मांग की है. अब देखना ये है कि इस पूरे मामले को लेकर क्या कार्रवाई की जाती है।

~ निखिल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बाबा साहेब को पढ़कर मिली प्रेरणा, और बन गईं पूजा आह्लयाण मिसेज हरियाणा

हांसी, हिसार: कोई पहाड़ कोई पर्वत अब आड़े आ सकता नहीं, घरेलू हिंसा हो या शोषण, अब रास्ता र…