Home International Political वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने प्याज की कीमतों को लेकर निर्मला सीतारमण पे साधा निशाना
Political - Politics - Social - December 5, 2019

वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने प्याज की कीमतों को लेकर निर्मला सीतारमण पे साधा निशाना

वित्त मंत्री के इस बयान पर राजनीतिक में घमासान यूध्द छिड़ गया है और 106 दिन बाद जेल से बाहर आए पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने उनपर अपना करारा वार किया है. प्याज की कीमतों को लेकर पूरे देश भर में मचा हाहाकार है लेकिन वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का कहना है कि वह प्याज़ नहीं खाती हैं इसलिए उन्हें फर्क नहीं पड़ता है. वित्त मंत्री के इस बयान पर राजनीतिक घमासान छिड़ गया है और इसी को लेकर 106 दिन बाद जेल से बाहर आए पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने उनपर करारा वार किया है.

गुरुवार को संसद भवन पहुंचे पी. चिदंबरम ने कहा जो सरकार लोगों को कम प्याज और लहसुन खाने की सलाह देती है. उसे चले जाना चाहिए. अर्थव्यवस्था के मामले में ये सरकार पूरी तरह से फेल हुई है. पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा कि अगर निर्मला सीतारमण प्याज नहीं खाती हैं तो क्या खाती हैं. क्या वह एवोकाडो खाती हैं.

बुधवार को ही लोकसभा की कार्यवाही के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जब भाषण दे रही थीं. तो उन्होंने प्याज को लेकर कमेंट किया था. कांग्रेस नेता की ओर से प्याज का मुद्दा उठाने पर निर्मला सीतारमण ने जवाब दिया था. मैं इतना लहुसन, प्याज नहीं खाती हूं जी. मैं ऐसे परिवार से आती हूं जहां अनियन से मतलब नहीं रखते.

बयान पर मचे बवाल के बाद निर्मला सीतारमण के ऑफिस की ओर से उनके बयान का वीडियो ट्वीट किया गया. जिसमें सरकार के द्वारा उठाए गए कदमों को गिनाया गया, वीडियो के साथ लिखा गया कि इस वीडियो का एक हिस्सा वायरल किया जा रहा है जो गलत संदेश दे रहा है. इसी के बाद निर्मला सीतारमण विपक्ष के निशाने पर हैं और सोशल मीडिया पर भी लोगों का गुस्सा फूट रहा है. गौरतलब है कि देश के कई शहरों में प्याज की कीमत 100 रुपये से लेकर 150 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई है.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Remembering Maulana Azad and his death anniversary

Maulana Abul Kalam Azad, also known as Maulana Azad, was an eminent Indian scholar, freedo…