Home Social जन्मदिन विशेष: शिवाजी महाराज की मां जीजाबाई एक प्रभावशाली और प्रतिबद्ध महिला थीं
Social - State - January 12, 2018

जन्मदिन विशेष: शिवाजी महाराज की मां जीजाबाई एक प्रभावशाली और प्रतिबद्ध महिला थीं

By: Sushil Kumar

Maratha king Chhatrapati Shivaji Raje Bhosle mother born jeejaabaaee 12 January 1598 को हुआ था। जीजाबाई का जन्म सिंदखेड़ गांव में हुआ था। यह स्थान वर्तमान में महाराष्ट्र के विदर्भ प्रांत में बुलढाणा जिले के मेहकर जनपद के अन्तर्गत आता है। Jijabai's father was a royal courtier and prominent Maratha chieftain., Whose name was Lakhuji Jadhavrao, While his mother's name was Mhalsa Bai.

जीजाबाई की शादी बहुत कम उम्र में हो गई थी। उस कालखंड के रीति-रिवाज के मुताबिक उनका विवाह शाहजी भोसले से हुआ। शाहजी भी निजाम शाह के दरबार में राजनयिक पद संभालते थे। वे एक बेहतरीन योद्धा भी थे। शाहजी भोसले के पिताजी का नाम मालोजी शिलेदार था, जो बाद में तरक्की पाते हुए ‘सरदार मालोजी राव भोसले’ बन गए। वैसे तो दंपती का वैवाहिक जीवन बेहद सुखद था। लेकिन उनके परिजनों की आपसी टकराहट ने तनाव को जन्म दिया। शाहजी राजे और उनके ससुर जाधव के आपसी रिश्ते बिगड़ गए। हालात इतने बिगड़ चुके थे कि जीजाबाई पूरी तरह टूट गई थी। उन्हें अपने पति और पिता में से एक का पक्ष लेना था। उन्होंने पति का साथ दिया।

जीजाबाई की इच्छा थी कि मराठों का अपना साम्राज्य स्थापित हो। दोनों की आठ संतानें हुईं। दो लड़के और छह बेटियां। शिवाजी उनके दो बेटों में से एक थे। वह हमेशा भगवान से प्रार्थना करती थी कि उन्हें एक ऐसा बेटा मिले जो मराठा साम्राज्य की नींव रख सके। उनकी प्रार्थनाओं का जवाब शिवाजी के तौर पर मिला, Who founded the Maratha empire.

Jeejaabaaee is known as an effective and committed women, जिसके लिए आत्मसम्मान और उनके मूल्य सर्वोपरि हैं। अपनी दूरदर्शिता के लिए प्रसिद्ध जीजाबाई खुद एक योद्धा और प्रशासक थी। Feeling of duty in Shivaji, साहस और मुश्किल परिस्थितियों का सामना साहस के साथ करने के लिए मूल्यों का संचार किया। शिवाजी भी अपनी सभी सफलताओं का श्रेय अपनी मां को देते थे, Which was an inspiration for him.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

डॉ. आंबेडकर की भारतीय गणतंत्र की परिकल्पना

गणतंत्र दिवस ( 26 जनवरी ) के एक दिन पूर्व 26 जनवरी आधुनिक भारतीय इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण…