Home International Environment ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमला, सिख श्रद्धालु फंसे, भारत ने कहा- फौरन कार्रवाई करे PAK

ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर हमला, सिख श्रद्धालु फंसे, भारत ने कहा- फौरन कार्रवाई करे PAK

भारत सरकार ने पाकिस्तान में सिख धर्म के पवित्र स्थल गुरुद्वारा ननकाना साहिब में तोड़-फोड़ की घटना की कड़े शब्दों में निन्दा की है और पाकिस्तान सरकार से सिख समुदाय की सुरक्षा के लिए तत्काल क़दम उठाने की माँग की है.

शुक्रवार की शाम को ऐसी ख़बरें आईं कि पाकिस्तान में गुरुद्वारा ननकाना साहिब पर पथराव किया गया. रिपोर्ट्स के अनुसार ग़ुस्साई भीड़ ने गुरुद्वारा ननकाना साहिब को घेर लिया था. समाचार एजेंसियों के अनुसार इस भीड़ की अगुआई एक लड़के का परिवार कर रहा था जिसने कथित तौर पर गुरुद्वारे के एक सिख कर्मचारी की बेटी को अग़वा कर लिया था.

भारत सरकार के विदेश मंत्रालय ने इस घटना पर एक बयान जारी कर लिखा है, “हम पाकिस्तान से मांग करते हैं कि वो तुरंत ही सिख समुदाय की सुरक्षा के लिए क़दम उठाए. भारत गुरुद्वारा ननकाना साहिब पर हुए हमले की निंदा करता है.”

वहीं, भारत के पंजाब राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस मामले में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान से दख़ल की अपील की है.

अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर लिखा है- “मैं इमरान ख़ान से अपील करता हूँ कि वे इस मामले में तुरंत दखल दें और वहाँ फँसे श्रद्धालुओं को सुरक्षित निकाला जाए. साथ ही ऐतिहासिक गुरुद्वारे को भी बचाया जाए.”

इस घटना की गूंज दुनियाभर में पहुंची। ब्रिटेन की लेबर पार्टी की सांसद प्रीत कौर गिल ने प्रधानमंत्री इमरान खान से सवाल करते हुए कहा, यह चिंता की बात है, आखिर क्यों पाकिस्तान में सिख समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है?

वहीं, शिअद अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया कि वह यह मामला अपने पाकिस्तानी समकक्ष के साथ उठाएं. विदेश मंत्रालय के मुताबिक पाकिस्तान में अल्पसंख्यक सिख समुदाय के सदस्य पवित्र शहर ननकाना साहिब में हिंसक कृत्य के शिकार हुए हैं. पाकिस्तान के इस शहर में सिख धर्म के संस्थापक गुरुनानक देव का जन्म हुआ था. मिली जानकारी के अनुसार उपद्रवियों ने गुरुद्वारे के बाहर सिख विरोधी नारे भी लगाए. इससे पहले लोगों ने गुरुद्वारे पर पथराव भी किया था.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Remembering Lohia, he who Never Challenged Brahminical Hegemony

Today we remember Ram Manohar Lohia on his 53rd death anniversary. Lohia was a political g…