Home International Political योगी सरकार जनता की लूट रही कमाई?
Political - Politics - Uncategorized - October 30, 2019

योगी सरकार जनता की लूट रही कमाई?

पूरे देशभर में जहां 27 अक्टूबर को एक ओर दिवाली मनाई जा रही थी वही दूसरी ओर यूपी के अयोध्या में 5 लाख 55 हजार तेल के दीये जलाए जा रहे थे.वही एक तस्वीर ऐसी भी देखने को मिली जिसे देख आप भावुक जरुर होगें लेकिन आपको भावुक होने की जरुरत नहीं क्योंकि यही है यूपी का रामराज्य…जहां हमारे देश में गरीबी के मारे ये गरीब बच्चे जो खाने के लिए तरस रहे है.आपने सुना भी होगा कि भुखमरी में भारत पाकिस्तान और बांग्लादेश से भी पीछे रह गया.लेकिन हमारे देश के नेताओं को गरीबी और भुखमरी से कोई लेना देना नही.

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ भगवान को खुश करने और विश्व रिकॉर्ड बनाने के लिए लोगों की गाढ़ी कमाई का 133 करोड़ रूपया फूंक दिया. वह भी गरीब और बदहाल प्रदेश में. इस 133 करोड़ रूपए से इस तरह कि कितनी बेटियों के चेहरे खिल सकते थे. उनके जीवन में रोशनी आ सकती थी। इसे देखिए यह शायद कुछ चंद रूपयों के लिए दियों में तेल भर रही है. या दियों बचे तेल को बोतल में भर रही है. ताकि अपने या अपने परिवार के लिए थोड़ी से खुशी और रोशनी का जुगाड़ कर सके. लाखों बच्चियों-बच्चों को भूखा रखकर 133 करोड़ रूपये खर्च करके दीपक जलाने से खुश होने वाला भगवान तो हो ही नहीं सकता. हां कोई शैतान हो सकता है.

वही वरिष्ठ पत्रकार सिद्धार्थ रामू अपनी फेसबुक वॉल पर लिखते है कि योगी ज आपके इस कृत्य से भगवान तो नहीं शैतान ही खुश हो सकता है.उनके इस पोस्ट पर जैन तन्मय कमेंट करके कहते है कि बेहद शर्मसार करने वाला कृत्य है. चन्द दिखावे के लिए पहले वो सरदार जी की मूर्ति बनाकर करोड़ों बर्बाद कर दिए और अब ये 133 करोड़ रुपये अयोध्या के अध्याय में लगा डाले. पैसा है तो आखिर आम नागरिक का कौनसा इनका कुछ जा रहा है. अंधों में काना राजा वाला हिसाब है यहाँ भी अपना टाइम आयगा. खैर ये तोसच बात है लेकिन आम नागरिक क्या कर सकता है लेकिन आए दिन सरकार इस तरह के आडंबरों का नौटंकी करके जनता के खून पसीने की कमाई को लुटता जा रहा है.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

The Rampant Cases of Untouchability and Caste Discrimination

The murder of a child belonging to the scheduled caste community in Saraswati Vidya Mandir…