Home International Environment अम्फान तूफान से 87 की मौत, बिजली-पानी को लेकर लोगों ने किया जमकर प्रदर्शन
Environment - Political - Politics - May 24, 2020

अम्फान तूफान से 87 की मौत, बिजली-पानी को लेकर लोगों ने किया जमकर प्रदर्शन

पश्चिम बंगाल में आए चक्रवाती तूफान अम्फान के बाद तबाही मच गई है. जिससे पश्चिम बंगाल जूझ रहा है. अब इसके चलते बंगाल सरकार ने राज्य में ट्रेनों का परिचान थोड़े दिनों के लिए रोक दिया है. ममता बनर्जी ने रेलवे बोर्ड से कम से कम 26 मई तक कोई श्रमिक स्पेशल ट्रेन राज्य में नहीं भेजने को कहा है.

दरअसल, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि तूफान से राज्य की 60 फीसदी आबादी प्रभावित हुई है. तूफान की वजह से लगभग डेढ़ करोड़ लोग सीधे प्रभावित हुए हैं और 10 लाख मकान नष्ट हो गए हैं. यह संकट का समय है. उन्होंने कहा कि लोगों को धैर्य रखना चाहिए और इस मुद्दे पर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए.

वहीं तूफान के चलते बीते तीन दिनों से बिजली की सप्लाई ठप होने की वजह से नाराज लोगों ने शनिवार को उत्तर और दक्षिण 24-परगना जिले के कई इलाकों में प्रदर्शन किया. मिली जानकारी के मुताबिक, उत्तर 24-परगना जिले के टीटागढ़ में नाराज भीड़ ने पुलिस की एक गाड़ी को आग के हवाले कर दिया. जिसके बाद इस माहौल को नियंत्रण में करने के लिए पुलिस ने भीड़ पर लाठीचार्ज किया.

हालांकि तूफान के 72 घंटे बीत चुके है उसके बाद भी कोलकाता में सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है और लगभग ठप है. इसके साथ ही इतनी गर्मी में महानगर में पांच हजार से ज्यादा पेड़ और बिजली के खंभे तूफान के कारण उखड़ने की वजह से कई इलाकों में तीन दिनों से बिजली नहीं है. जिसके चलते पानी की भी किल्लत पैदा हो गई है. काफी परेशानी झेलने के बाद आक्रोशित लोगों ने प्रदर्शन किया और नाराज होकर हिंसक भी हुए. जिसके बाद पुलिस ने कुछ जगहों पर भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया. इसके बाद सीएम ममता बनर्जी ने तूफान की बर्बादी को ध्यान में रखते हुए लोगों से धैर्य बनाए रखने की अपील की है.

बता दें कि तूफान से मरने वालों की तादाद बढ़ कर 87 हो गई है. चक्रवात के कारण जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हो चुका है. राज्य में 20 मई को अम्फान तूफान आने के बाद भीषण तबाही मची और लाखों लोग बेघर हो गए, कई घर बर्बाद हो गए, हजारों पेड़ उखड़ गए और कई निचले इलाके जलमग्न हो गए. लिहाजा पीएम मोदी के पश्चिम बंगाल दौरे के बाद 500 करोड़ रुपये देने का ऐलान किया. लेकिन सवाल ये उठता है कि क्या इससे वहां के बेघर लोगों को मदद मिल पाएगी.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बालेश्वर यादव की पूरी कहानी !

By_Manish Ranjan बालेश्वर यादव भोजपुरी जगत के पहले सुपरस्टार थे। उनके गाये लोकगीत बहुत ही …