ब्राउजिंग टैग

AAP

दिल्ली में ‘AAP’ की जीत पर जातिवादी राजनीति क्यों !

आम आदमी पार्टी ने 2015 की अपनी सफलता को लगभग दोहराते हुए दिल्ली में लंका फतह कर जबरदस्त चुनावी जीत हासिल की. दिल्ली में उनकी यह धमाकेदार जीत 2015 से इस मायने में ज्यादा महत्वपूर्ण है कि तब 'एक उम्मीद' को वोट मिले थे और इस बार 'उस उम्मीद पर खरे उतरने' को लेकर वोट मिले है. इससे पहले भी जब 26 जनवरी के बाद से बीजेपी ने दिल्ली में आक्रामक हिंदुत्व का माहौल बनाना शुरू किया तब से आम-तौर पर लग रहा था कि 56-57 सीट के नीचे यदि आम आदमी पार्टी गयी तो यह मान लेना चाहिए कि बीजेपी ने ध्रुवीकरण का अपना गणित साध लिया और उसका खुद का और

जामिया छात्रों की पिटाई पर बोले संजय सिंह- कहाँ हैं गृहमंत्री? ‘रोम जल रहा है नीरो बंसी बजा रहा है’

संसद द्वारा पास किये गए नागरिकता संशोधन बिल और एनआरसी के खिलाफ जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्र विरोध प्रदर्शन कर रहे है। कल रात से ही छात्र वहां प्रदर्शन कर रहे हैं। हालांकि आज उनका प्रोटेस्ट मार्च जामिया मेट्रो से लेकर संसद भवन तक होने वाला था, लेकिन पुलिस ने बलपूर्वक उन्हें जामिया यूनिवर्सिटी में रोक लिया। जिसका विरोध करने पर पुलिस ने छात्रों पर बर्बरतापूर्ण ढंग से लढ़ियाँ लाठीचार्ज कर दिया। जिसमे कई छात्र-छात्राएं घायल हो गए हैं। बता दें कि नागरिकता संशोधन बिल को लेकर देश के कई राज्य में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं.

झारखंड चुनाव से बीजेपी डरी?

पिछले दिनों महाराष्ट्र और हरियाणा के विधानसभा चुनावों के नतीजे आये,तब राजनैतिक कार्यकर्ताओं को झटका लगा कि जनता आखिर चाहती क्या है . कुछ ही महीने पहले लोकसभा चुनाव में बीजेपी और उसके गठबंधन को बड़ी सफलता मिली थी. इस सफलता से बीजेपी के मंसूबे का बढ़ जाना अस्वाभाविक नहीं था. लेकिन महाराष्ट्र और हरियाणा के चुनाव जनता के अलग ही मूड का परिचय दे रहे हैं. कहा जा सकता है कि बीजेपी के मन में कोई दुचित्तापन है. केंद्र और राज्य केलिए उसकी पसंद अलग -अलग है. 2014 में भी लोकसभा चुनाव के कुछ ही समय बाद दिल्ली विधानसभा के चुनाव में जनता ने