ब्राउजिंग टैग

all sides

बिरसा मुंडा को भारत रत्न, सब तरफ़ से बहुजनों की एक ही अवाज!

सुगना मुंडा और करमी हातू के बेटे बिरसा मुंडा का जन्म 15 नवम्बर 1875 को झारखंड में राँची के उलीहातू गाँव में हुआ था. साल्गा गाँव में प्रारम्भिक पढ़ाई के बाद वे चाईबासा इंग्लिश मिडिल स्कूल में पढ़े. एक अक्टूबर 1894 को नौजवान नेता बिरसा मुंडा ने आदिवासियों को एकत्र कर अंग्रेजों के खिलाफ लगान माफी का आन्दोलन किया. 1895 में उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया और हजारीबाग केन्द्रीय कारागार में 2 साल के कारावास की सजा दी गयी. 1898 में तांगा नदी के किनारे बिरसा मुंडा की अगुआई में आदिवासियों ने अंग्रेज सेना को मात दी. गुस्साए अंग्रेजों ने