ब्राउजिंग टैग

CAB

NRC और CAB को लेकर भारत बंद का ऐलान

नागरिकता कानून के खिलाफ देश के कई कोनों से विरोध की आवाजें आ रही हैं. दिल्ली, अलीगढ़, मुंबई, लखनऊ, बनारस समेत कई शहरों में प्रदर्शन किया जा रहा है. दिल्ली की जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में छात्रों और पुलिस की हिंसक झड़प के बाद देशभर के छात्रों ने जामिया स्टूडेंट्स को अपना समर्थन दिया है. वहीं, अमेरिका की 19 प्रतिष्ठित जिसमें हार्वर्ड और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने छात्रों को सपोर्ट कर कहा है कि इस बिल ने लोकतंत्र की अंर्त्मात्मा को झकझोंर दिया है.. वही आज नागरिकता कानून के खिलाफ देशभर के कई हिस्सों में प्रदर्शनों

सावरकर के सपनों का नहीं, बल्कि भगत सिंह और अंबेडकर के सपनों का भारत बनाना है: कन्हैया कुमार

पूर्णिया के इंदिरा गांधी स्टेडियम में सीएए और एनआरसी के विरोध में आयोजित इस जन प्रतिरोध रैली को संबोधित करते हुए कन्हैया ने कहा कि CAA और NRC के खिलाफ यह लड़ाई एक दिन की नहीं है..यह लड़ाई लंबी चलेगी। https://twitter.com/kanhaiyakumar/status/1206564754837213185?ref_src=twsrc%5Etfw%7Ctwcamp%5Etweetembed%7Ctwterm%5E1206564754837213185&ref_url=https%3A%2F%2Fwww.jansatta.com%2Ftrending-news%2Fvideo-kanhaiya-kumar-slogans-aazadi-against-nrc-caa%2F1255419%2F CAA और NRC को ‘संविधान की आत्मा पर हमला’ बताते हुए कन्हैया ने

सरकार ने देश को आग में धकेल दिया है, खुद गृहमंत्री नॉर्थ-ईस्ट जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर मचे विरोध और हिंसा से पूरा देश अब अनजान नहीं है। कल ज़ामिया मिल्लिया यूनिवर्सिटी और पिछले कई दिनों से देश के पूर्वोत्तर राज्यों में जमकर हिंसात्मक विरोध चल रहा है। इस बिल के आने बाद अब देश में पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच जमकर हिंसक झड़प होना शुरू हो चुका है। जिसे केंद्र की सरकार रोकने में नाकाम साबित होती दिखाई दे रहगी है। वहीं इस बिल को लेकर बढ़ती हिंसक घटनाओं को लेकर कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पूर्वोत्तर और देश की राजधानी दिल्ली में जारी हिंसा पर मोदी सरकार और गृह मंत्री अमित

हम हिन्दू बाई चांस इस देश में रहे लेकिन मुस्लिमों ने बाई चॉइस इस मुल्क को पसंद किया : हर्ष मंदर

नागरिकता संशोधन बिल के पास हो जाने से देश के सभी इलाकों में लोग विरोध प्रदर्शन कर रहें है। एक ओर जहां सरकार इसके फ़ायदे की दलीले संसद के दोनों सदनों गिना रही है। वहीं इसके खिलाफ लोग सड़क पर पुरजोर विरोध कर रहे हैं। इस बिल के खिलाफ दिल्ली के जंतर-मंतर पर रोज़ भारी तादाद में लोग विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। आज ‘नॉट इन माय नेम’ समूह द्वारा आयोजित प्रदर्शन में हज़ारों की संख्या में लोग इक्क्ठा होकर इस बिल के खिलाफ प्रदर्शन किया। वहीं इस प्रदर्शन में आए लेखक और मानवाधिकार कार्यकर्ता हर्ष मंदर ने मोदी सरकार के इस बिल को संविधान

नागरिकता संशोधन क़ानून: विरोध कर रहे जामिया के छात्रों पर लाठीचार्ज

नागरिकता संशोधन बिल के विरोध की आग पूर्वोत्तर राज्यों से अब दिल्ली तक पहुंच गई है। कल शुक्रवार को जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों ने जमकर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान पुलिसकर्मियों ने छात्रों पर लाठियां चलाई और आंसू गैस के गोले भी छोड़े। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। वीडियो में देखा जा सकता है कि आंसू गैस के गोले छोड़ते ही प्रदर्शन कर रहे छात्र इधर-उधर भागने लगते हैं। इस दौरान कैंपस में अफरा-तफरी का माहौल नजर आ रहा है। सोशल मीडिया पर छात्रों ने वीडियो साझा किया है, जिसमें पुलिस

भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर का अपनी पार्टी बनाने का एलान, दिल्ली चुनाव लड़ेंगे

भीम आर्मी चीफ रावण चंद्रशेखर आजाद ने अब पूरी तरह से राजनीति में उतरकर चुनाव लड़ने का फैसला ले लिया है. जल्द ही वो अपनी पार्टी के नाम का एलान करने वाले हैं. अभी तक भीम आर्मी बीएसपी को राजनीतिक विकल्प के तौर पर समर्थन देती थी लेकिन नागरिकता संशोधन बिल पर बीएसपी पार्टी के रुख से आहत होकर चंद्रशेखर ने अपने खुद के राजनीतिक दल का एलान किया है. उन्होंने बताया कि वह आगामी दिल्ली विधानसभा में अपने उम्मीदवार उतारेंगे. इसके बाद यूपी में पंचायत चुनाव और विधानसभा चुनाव लड़ेंगे.आगामी दिल्ली विधानसभा चुनाव में चंद्रशेखर की पार्टी अधिक से

नागरिकता संशोधन विधेयक को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

इंडियन मुस्लिम लीग ने नागरिकता संशोधन विधेयक के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है. गुरुवार को उसकी ओर से एक याचिका दायर की गई है. सोमवार को लोकसभा ने और बुधवार को राज्यसभा ने इस बिल को बहुमत से मंज़ूर किया है, यह बिल 1955 के नागरिकता क़ानून में बदलाव के लिए लाया गया है. इस बदलाव के बाद भारत के तीन पड़ोसी देशों- पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान और बांग्लादेश से आने वाले हिंदू, जैन, पारसी, ईसाई, बौद्ध और सिखों को भारत की नागरिकता दिए जाने का रास्ता खुल गया है. मुस्लिम लीग के सांसदों पीके कुन्हालिकुट्टी, ईटी मोहम्मद

नागरिकता संशोधन से असम में विरोध-प्रदर्शन, मंत्रियों के घर पर हमला

नागरिकता संशोधन को लेकर पहले से ही पूर्वोत्तर राज्यों में बवाल मचा हुआ है वही कल राज्यसभा से भी बिल पास होने के बाद असम और त्रिपुरा में प्रदर्शनों को सिलसिला चलता रहा। कई जगहों पर प्रदर्शन हिंसक हो गया है. वहीं देर रात असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और केंद्रीय राज्यमंत्री रामेश्वर तेली के आवास पर प्रदर्शनकारियों ने पथराव और हमला कर दिया। जिससे कि असम में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है. नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB) को संसद द्वारा मंजूरी प्रदान किए जाने के बीच नागरिकता संशोधन को लेकर जारी विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर असम

संसद से CAB पास होने पर नाराज IPS अफसर ने दिया इस्तीफा, SC,ST,OBC और मुस्लिम समुदाय के लोग करें विरोध, SC भी पहुंचें

महाराष्ट्र कैडर के आईपीएस ऑफिसर अब्दुर्रहमान ने बुधवार (11 दिसंबर, 2019) को नागरिकता संशोधन बिल, 2019 राज्यसभा में पास होने के विरोध में अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने ने कहा कि सांप्रदायिक और असंवैधानिक” नागरिकता (संशोधन) विधेयक” के खिलाफ विरोध दर्ज कराते हुए सेवा से इस्तीफा देने का फैसला किया है। बिल लोकसभा में पहले ही पास हो चुका है। मुंबई में विशेष पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) के रूप में तैनात अब्दुर्रहमान ने बयान जारी कर कहा कि वह गुरुवार यानी आज से कार्यालय नहीं जाएंगे। अब्दुर्रहमान ने कहा, “यह विधेयक भारत के

सिटीज़नशिप बिल: असम के 10 ज़िलों में लगाई इंटरनेट पर पाबंदी

पूर्वोत्तर राज्यों में नागरिकता संसोधन बिल (CAB) के खिलाफ़ सबसे ज़्यादा आवाज़ें उठाई जा रही हैं। बिल के खिलाफ़ जगह-जगह विरोध प्रदर्शन किए जा रहे हैं। विरोध की इन आवाज़ों को दबाने के लिए सरकार की ओर से भरपूर प्रयास किए जा रहे हैं। अब असम की सोनोवाल सरकार ने प्रदर्शन के मद्देनज़र 10 जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा सस्पेंड करने का फैसला किया है। ख़बरों के मुताबिक, असम में शाम 7 बजे से अगले 24 घंटे के लिए मोबाइल सेवाएं रोक दी गई हैं। स्थानीय प्रशासन ने अभी जिन 10 जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा को सस्पेंड किया है उनमें