ब्राउजिंग टैग

constitutional forces

इस खत से महानायिका रमाबाई आंबेडकर का व्यक्तित्व छलकता है

रमाबाई आंबेडकर की जयंती (7 फरवरी) पर उन्हें नमन करते हुए प्रस्तुत है, उनका जीवन-परिचय रमाबाई को डॉ. आंबेडकर प्यार से रामू बुलाते थे . डॉ. आंबेडकर अपनी जीवन-संगिनी रमाबाई आंबेडकर को प्यार से रामू कहकर पुकारते थे और उनकी रामू उन्हें साहेब कहकर बुलाती थीं। दोनों ने 27 वर्षों तक जीवन के सुख-दुख सहे। दुख ज्यादा, सुख बहुत कम। दोनों की शादी 1908 में उस समय हुई थी, जब डॉ. आंबेडकर की उम्र 17 वर्ष और रमाबाई की उम्र 9 वर्ष थी। रमाबाई का मायके का नाम रामीबाई था। शादी के बाद उनका नाम रमाबाई पड़ा। आंबेडकर के अनुयायी रमाबाई को ‘रमाई’

भीम आर्मी चंद्रशेखर: संविधान विरोधी ताक़तो के ख़िलाफ देशव्यापी अभियान चलाये जाएगा

आज पूरे देश में बाबा साहब डॉ भीमराव आंबेडकर को याद कर संविधान दिवस मनाया जा रहा है. वही आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संविधान दिवस के मौक़े पर संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करेंगे. आपको बता दें कि 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा ने संविधान के उस प्रारूप को स्वीकार किया. जिसे डॉ. बीआर आंबेडकर की अध्यक्षता में ड्राफ्टिंग कमेटी ने तैयार किया था. इसी रूप में संविधान 26 जनवरी, 1950 को लागू हुआ और भारत एक गणराज्य बना. इसी की याद में 26 नवंबर के दिन को संविधान दिवस मनाने का चलन 2015 को शुरू किया गया. लेकिन दिलचस्प है कि ये चलन उस साल