ब्राउजिंग टैग

Lalu Yadav

लालू यादव: फिराकपरस्ती के फ़न को कुचल के रख देने वाला सामाजिक न्याय का योद्धा!

सांप्रदायिक शक्तियों के ख़िलाफ़ अचल-अडिग डटे रहने वाले बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व देश के पूर्व रेलमंत्री लालू प्रसाद बिना डिगे फ़िरकापरस्ती से जूझने का माद्दा रखने वाले, पत्थर तोड़ने वाली भगवतिया देवी, जयनारायण निषाद, ब्रह्मानंद पासवान, आदि को संसद भेजने वाले, खगड़िया स्टेशन पर बीड़ी बनाने वाले विद्यासागर निषाद को मंत्री बनाने वाले, आज़ादी के 43 वर्षों के बीत जाने के बाद भी बिहार जैसे पिछड़े सूबे में समाज के बड़े हिस्से के युवाओं को उच्च शिक्षा से जोड़ने हेतु 6 नये विश्वविद्यालय खोलने वाले लोकप्रिय, मक़बूल व विवादास्पद नेता लालू…

लालू की जेल के पीछे का खेल!

By: Jayant jigyasu विमर्श। उसी चारा घोटाले में फंसने पर जगन्नाथ मिश्रा 'जगन्नाथ बाबू' बने रहते हैं, पर लालू प्रसाद 'ललुआ' हो जाते हैं। लालू प्रसाद से 'ललुआ' तक की फिसलन भरी यात्रा में लालू प्रसाद की सारथी रही मीडिया का सामाजिक-मनोवैज्ञानिक विश्लेषण तो होना चाहिए। बिना डिगे सांप्रदायिकता से जूझने का माद्दा रखने वाले सियासतदां, पत्थर तोड़ने वाली भगवतिया देवी, जयनारायण निषाद, ब्रह्मानंद पासवान, आदि को संसद भेजने वाले, खगड़िया स्टेशन पर बीड़ी बनाने वाले विद्यासागर निषाद को मंत्री बनाने वाले एवं आज़ादी के 43 वर्षों के बीत जाने के बाद…

1995 का वह साल जब लालू यादव व्यक्ति से ऊपर उठकर विचार बन चुके थे।

टी एन शेषण के सामने भी यही चुनौती थी कि क्या वे इस बूथ लूट की संस्कृति को रोकने में कामयाब हो पाएँगे? इन्हीं आशंकाओं के बीच और चाक चौबंद सुरक्षा में 1995 के विधानसभा चुनाव हुए। जनता दल, भाकपा, माकपा आदि गठबंधन कर चुनाव लड़ रही थी।