ब्राउजिंग टैग

mahatama jayotiva fule

मेरा जीवन तीन गुरुओं और तीन उपास्यों से बना है- बाबासाहब डॉ बीआर अम्बेडकर

नई दिल्ली। 25 अक्टूबर 1954 के दिन बाबासाहब डॉ अम्बेडकर का हीरक महोत्सव मुंबई के पुरंदरे स्टेडियम में मनाया गया था। वहीं पर बाबासाहब ने अपने भाषण में कहा था कि.. मेरे तीन उपास्य (देवता) है... मेरे प्रथम देवता ज्ञान है। मेरा दूसरा देवता स्वाभिमान है और मेरा तीसरा देवता शील है। वहीं आगे बाबासाहब कहते हैं कि... हर मनुष्य के गुरु होते हैं, उसी तरह मेरे भी गुरु (प्रेरणास्रोत) है। मेरे प्रथम और श्रेष्ठ गुरु बुद्ध है। मेरे दुसरे गुरु कबीर हैं और मेरे तीसरे गुरु जोतिबा फुले हैं। यही मेरे तीन गुरु हैं, इनकी…