Home Uncategorized इसलिए बहुजनों,मुसलमानों और आदिवासी को इंसान नहीं समझती मोदी सरकार ?
Uncategorized - 3 weeks ago

इसलिए बहुजनों,मुसलमानों और आदिवासी को इंसान नहीं समझती मोदी सरकार ?

हाथरस की घटना पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने एक बार फिर यूपी सरकार पर हमला किया है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है कि शर्मनाक सच्चाई ये है कि कई भारतीय बहुजन, मुसलमान और आदिवासियों को इंसान समझते ही नहीं है।राहुल ने कहा कि मुख्यमंत्री और उनकी पुलिस कहती है कि किसी का रेप नहीं हुआ था, क्योंकि उनके लिए और कई दूसरे भारतीयों के लिए वो पीड़िता कोई नहीं थी।

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने बीबीसी की एक रिपोर्ट पर टिप्पणी करते हुए ये प्रतिक्रिया दी है. बीबीसी की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पुलिस और राज्य सरकार के अधिकारी बार-बार रेप की घटना से इनकार कर रहे हैं।

इसी रिपोर्ट पर टिप्पणी करते हुए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने यूपी सरकार की खिंचाई की है, राहुल गांधी ने ट्वीट किया, “शर्मनाक सच्चाई ये है कि कई भारतीय बहुजनों, मुसलमानों और आदिवासियों को इंसान समझते ही नहीं हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि मुख्यमंत्री और उनकी पुलिस कहती है कि किसी का रेप नहीं हुआ था, क्योंकि उनके लिए और कई दूसरे भारतीयों के लिए पीड़िता कोई थी ही नहीं।

बता दें कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी हाथरस की घटना को लेकर यूपी सरकार पर शुरू से ही हमलावर रहे हैं। राहुल गांधी हाथरस में पीड़ित परिवार के घर भी गए थे और उनसे मुलाकात की थी. राहुल ने कहा था कि यूपी सरकार चाह कर भी पीड़ित परिवार के साथ मनमानी नहीं कर पाएगी, क्योंकि अब इस देश की बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए पूरा देश खड़ा है।

राहुल गांधी ने कहा था कि इस मुश्किल वक्त में हम उनके साथ खड़े हैं और उन्हें न्याय दिलाने में पूरी मदद करेंगे।लेकिन हाथरस पीड़ित परिवार को इंसाफ कब मिलेगा ये कोई नहीं जानता लेकिन सवाल ये है की सरकार आरोपियों को बचा क्यों रही है।

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

क्या नीतीश सरकार में हो रहा था बहजुनों और मुस्लिमों के साथ भेदभाव ?

एक रिपोर्ट के अनुसार 2011 की जनगणना के मुताबिक, बिहार की जनसंख्या 10.38 करोड़ थी। इसमें 82…