Home Uncategorized नीतीश और पासवान में छिड़ी जंग, किसके हाथ लगेगी बिहार की सत्ता !
Uncategorized - October 7, 2020

नीतीश और पासवान में छिड़ी जंग, किसके हाथ लगेगी बिहार की सत्ता !

बिहार विधानसभा चुनाव में बीजेपी और जेडीयू ने सीट बंटवारे के साथ एनडीए से अलग होने वाले चिराग पासवान को भी दो टूक संदेश देने का काम किया है। चिराग बिहार में पीएम मोदी के नाम को कैश कराने की कवायद में जुटे थे, जिसे लेकर बीजेपी ने एलजेपी को सख्त लहजे में कह दिया है कि बिहार चुनाव में वो न तो पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के नाम का इस्तेमाल करें और न ही प्रचार के बैनर-पोस्टरों में उनकी फोटो लगाएं। वहीं, एनडीए से अलग होकर चिराग बिहार की सियासत में जो रोशनी बिखेरना चाहते थे, उसे नीतीश कुमार ने अपने एक दांव से बुझा दिया है।

लेकिन दूसरी तरफ LJP प्रमुख चिराग पासवान एनडीए से अलग होकर चुनावी ताल ठोककर बिहार में दो नाव पर सवारी करना चाहते थे। एलजेपी बिहार में जेडीयू के खिलाफ प्रत्याशी उतारने और दूसरी तरफ बीजेपी का समर्थन कर यह दिखाना चाहती थी कि उसकी सियासी लड़ाई नीतीश कुमार से है न कि बीजेपी से इस तरह JDU वाली सीटों पर बीजेपी के वोटों को एलजेपी कैश कराना चाहती थी।

बीजेपी ने साफ तौर पर कह दिया है कि उसका गठबंधन जेडीयू के साथ है और एनडीए में वही रहेगा जो नीतीश कुमार के नेतृत्व को स्वीकार करेगा। बिहार में सिर्फ चार दलों का गठबंधन है. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने चिराग पासवान को साफ संदेश देते हुए कहा है कि अगर वह नीतीश कुमार का नेतृत्व नहीं स्वीकार करते तो उन्हें एनडीए से भी हटना पड़ेगा। इस तरह से चिराग बिहार में खुद को एनडीए का हिस्सा नहीं बता पाएंगे।

हालाकि चिराग पासवान बिहार की सियासी जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम और काम से जीत हासिल करना चाहते थे। उन्होंने बकायदा ‘मोदीजी से बैर नहीं, नीतीश कुमार की खैर नहीं’ का नारा भी दिया था। इसके अलावा वह नरेंद्र मोदी और अमित शाह की तस्वीर का भी अपने चुनावी प्रचार में इस्तेमाल करना चाहते थे, पर बीजेपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में साफ कर दिया कि वो ऐसा नहीं होने देगी।

सुशील मोदी और संजय जायसवाल ने कहा कि जरूरत पड़ी तो हम चुनाव आयोग भी जाएंगे और बिहार में एनडीए में शामिल जो पार्टियां मिलकर चुनाव लड़ रही हैं उसके अलावा कोई और पीएम मोदी के नाम का इस्तेमाल नहीं कर पाएगा। एक तरह से साफ है कि नरेंद्र मोदी के नाम पर एलजेपी वोट नहीं मांग पाएगी।

अब नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए से एलजेपी के अलग होने का ठीकरा बीजेपी ने चिराग पासवान पर फोड़ दिया है। सुशील मोदी ने साफ तौर पर कहा कि रामविलास पासवान केंद्र में मंत्री हैं। वह अभी बीमार हैं, जिसके चलते यह दिन देखना पड़ रहा है।अब बिहार की सत्ता पर कौन काबिज होगा ये आने वाला समय बताएगा।

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

तो क्या दीप सिद्धू ही है किसानों की रैली को हिंसा में तब्दील करने वाला आरोपी ?

गणतंत्र दिवस पर किसान संगठनों की ओर से निकाली गई ट्रैक्‍टर रैली ने मंगलवार को अचानक झड़प क…