Home Uncategorized बसें चलाने की अनुमति, योगी पुलिस मजदूरों को रोककर पीट रही ?
Uncategorized - May 18, 2020

बसें चलाने की अनुमति, योगी पुलिस मजदूरों को रोककर पीट रही ?

कागजों पर सार्वजनिक बसें चलाने को सरकार की अनुमति है। यूपी में जगह जगह मजदूरों को रोककर पीटा जा रहा है। जो मजदूर गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा से हजार किलोमीटर पैदल चलकर यूपी में पहुँचे हैं, वह योगी जी के आदेश पर जगह जगह कूटे जा रहे हैं और उन्हें आगे नहीं बढ़ने दिया जा रहा है।


देश की वित्त मंत्राणी ने राहुल गांधी से मजदूरों की मदद करने को कहा। प्रियंका गांधी राजस्थान के 3 जिलों की करीब 500 बसें लेकर यूपी बॉर्डर पर खड़ी हो गईं, जिससे यह बसें यूपी की सड़कों पर दौड़ें और जिस रुट का मजदूर जहां जाना चाहे, उसके गंतव्य तक पहुँचा दें।
योगी सरकार यूपी में बसें नहीं घुसने दे रही है। अब आप ही बताएं कि ये मजदूर कहा जाएं औऱ क्या करे अगर सरकार ही लोगों को मार डालने पर उतारू हो तो क्या किया जा सकता है। इस तरह बसें सिर्फ कांवड़िया और धर्म कार्यों के लिए लगाई जा सकती हैं, मजदूर ढोने के लिए नहीं।

वही कोरोना संकट के इस दौर में पूरे देश में प्रवासी मजदूरों पर पहाड़ टूट पड़ा है। पिछले पचास दिन से भी अधिक समय से लॉकडाउन के कारण कामकाज बंद है और इनके सामने रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया है। इसी वजह से जो मजदूर कभी अपना घर बार छोड़ कर अपनी जिंदगी संवारने का सपना लेकर दूसरे राज्यों में रहे थे,अब वही मजदूर सपना टूटने के बाद अपने-अपने घर वापस लौट रहे हैं। उनके सामने भूखों मरने की नौबत आ गई है।

लॉकडाउन के कारण ट्रेन एवं बस सेवाएं बंद हैं। ऐसे में चाह कर भी मजदूर घर नहीं लौट पा रहे हैं। इस समय सियासत करने का वक़्त नहीं है मजदूरों को घर पहचाने का प्रयास करना चाहिए चाहे कांग्रेस हो या बीजेपी सारी पार्टीयों को एक होकर इस टाइम देश की सेवा करना चाहिए।

लेकिन पता नही क्यो यूपी की योगी सरकार मजदूरों के साथ गलत व्वयहार कर रही उन्हे उनके घर नही जाने दे रही है।

वही इससे पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी ने कल यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से एक हज़ार बसें चलाने की इजाज़त मांगी थी और आज मध्यप्रदेश के भरतपुर और अलवर से 500 बसें चलने को तैयार हो गयी हैं। कांग्रेस की ओर से मज़दूरों को यूपी के गाँव-गाँव पहुँचाने के लिए ये बसें बहज गोवर्धन बार्डर पर पहुँच गयीं। प्रियंका बार-बार ट्वीट करके योगी आदित्यनाथ से बसों के लिए इजाज़त माँग रही हैं लेकिन फिलहाल सरकार से कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कांग्रेस की बसों की यूपी में एंट्री देने की मांग की है.

प्रियंका गांधी ने एक वीडियो संदेश ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने कहा है कि “आदरणीय मुख्यमंत्री जी, मैं आपसे निवेदन कर रही हूँ, ये राजनीति का वक्त नहीं है. हमारी बसें बॉर्डर पर खड़ी हैं. हजारों श्रमिक, प्रवासी भाई बहन बिना खाये पिये, पैदल दुनिया भर की मुसीबतों को उठाते हुए अपने घरों की ओर चल रहे हैं. हमें इनकी मदद करने दीजिए। अब देखना होंगा की योगी सरकार मजदूरों पर कबतक अत्याचार करेगी ।

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसान आंदोलन को 100 दिन पूरे होने को हैं…