Home State Delhi-NCR चोटी काटने के मामले में सुलझा एक केस, शरारत करने के लिए काटी थी चोटी
Delhi-NCR - Social - Uncategorized - August 5, 2017

चोटी काटने के मामले में सुलझा एक केस, शरारत करने के लिए काटी थी चोटी

दिल्ली । दिल्ली पुलिस की माने तो दिल्ली पुलिस ने चोटी काटने का एक केस सुलझा लिया है। आपको बता दें कि इस मामले में आरोपी पीड़िता के छोटे भाई ने ही उसकी चोटी काटी थी। दिल्ली के दक्षिणपुरी से संजय गांधी झुग्गी में शुक्रवार को 14 साल की लड़की ने दावा किया कि दोपहर को किसी ने उसकी चोटी काट ली और उसके कटे हुए बाल उसके कपड़ो पर ही मिले लेकिन उसने किसी को देखा नहीं। दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि जब उन्होने केस की जांच शुरू की तो घटना की पूरी सच्चाई सामने आ गई। दक्षिण-पूर्व दिल्ली के डीसीपी रोमिल बनिया ने बताया कि, ‘हम लोगों ने तथ्यों की जांच के लिए वहां पर एक पुलिस टीम भेजी, जांच में सामने आया कि लड़की का 10 साल का छोटा भाई और 12 साल के उसके एक भतीजे ने शरारत में लड़की चोटी काट दी थी।’ घटना के वक्त लड़की सो रही थी।

ये भी पढ़े- चोटी काटने की खबर पूरी तरह से अफवाह है, इसमें कोई गैंग शामिल नहीं, यूपी पुलिस ने किया अलर्ट जारी

पुलिस ने घरवालों से इस मामले जब पूछताछ की तो इन बच्चों की बात में कुछ अटपटा लगा। पुलिस ने जब बच्चों से जोर देकर पूछा तो बच्चों ने पूरी सच्चाई बता दी। बच्चों ने कहा कि उन्होंने शरारतवश लड़की की चोटी काटी थी। लड़की के माता पिता ने लिखित रूप में घटना का विवरण पुलिस को दे दिया है। जिसके बाद इस केस को बंद कर दिया गया है।

 

आपको बता दें कि उत्तर भारत में चोटी कटने की अफवाहों के चलते लोग डरे हुए हैं। लोगों का मानना है कि ये घटनांए किसी भूत-प्रेत के चलते हो रहीं हैं। आगरा में चोटी काटने के शक में लोगों ने एक बूड़ी महिला को पीट-पीट कर मार डाला था।

 

ये भी पढ़े-चोटी काटने वाला बताकर खूंखार भीड़ ने मुस्लिम युवक को बेरहमी से पीटा

 

अब यह बात साफ हो चुकी है कि कैसे लोग केवल अफवाह के चलते इतने भयभीत हो रहे हैं। वहीं उत्तर प्रदेश पुलिस ने नोटिस जारी करके सबको जानकारी दी है कि भूत-प्रेत के द्वारा चोटी काटने की घटना केवल अफवाह है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

The Rampant Cases of Untouchability and Caste Discrimination

The murder of a child belonging to the scheduled caste community in Saraswati Vidya Mandir…