Home International International बहुजन युवा ने किया देश का नाम रोशन, थाईलैंड में International Peace & Buddhist Leader Award से सम्मानित
International - Social - State - February 14, 2019

बहुजन युवा ने किया देश का नाम रोशन, थाईलैंड में International Peace & Buddhist Leader Award से सम्मानित

Published By- Aqil Raza ~

बहुजन समाज के युवा ने विदेश में International Peace & Buddhist Leader Award पाकर देश का नाम रोशन किया है, जी हां हम बात कर रहे हैं

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले के रहने वाले और ओएनज़ीसी गुजरात, मेहसाना मे एग्ज़िक्युटिव इंजीनियर के पद पर तैनात, ऑफिसर्स असोसियेशन के भूतपूर्व सचिव और पिछले दस सालों से देश के सामाजिक आर्थिक विकास मे एक समाज सेवी, एक लेखक , एक गीतकार, एक गायक के तौर पर कार्य करने वाले विपिन कुमार भारतीय की। जिन्होंने एक बार फ़िर देश का नाम रोशन किया है l…

हाल ही मे थाईलैंड सरकार की Nakhon Pathom Rajghat University के द्वारा आयोजित 9th International Conference on Art & Culture Network 2019 मे विपिन कुमार भारतीय को International Peace & Buddhist Leader Award दिया गया है..

विपिन कुमार भारतीय ने ये पुरुस्कार पूरे देशवासियों को समर्पित किया है उनका कहना है की भारत की भूमि पर पैदा होने वाले तथागत गौतम बुद्धा के रास्ते पर पूरा विश्व चल रहा है..बुद्धा के विचारो को किसी धर्म विशेष से नही बांध सकते..बुद्द के संदेश जीवन जीने की प्रक्रिया पर आधारित है..अगर विश्व को शन्ति के रास्ते पर चलना है आपसी झगड़ों को मिटाना है तो बुद्धा के विचारो को अपनाना होगा।

कोई व्यक्ति अगर अपने जीवन मे बुद्धा के प्रेम करुणा भाईचारे के संदेश को अपना ले तो उसका जीवन सार्थक हो जायेगा..

थाईलैंड मे हुयी इस कान्फरेन्स मे पूरे विश्व के करीब 30 देशो के गणमान्य लोगो ने शिरकत की.. जिनमे प्रमुखत भारत , ताइवान, श्रीलंका , जापान , चाइना , बंग्लादेश , नेपाल, जर्मनी ,घाना अमेरिका , कम्बोडिया जैसे देश शामिल थे। सभी गणमान्य लोगो ने इस कदम की सराहना की..

इस दौरान घाना की मिनिस्टर एवं रॉयल प्रिंसेस ने कहा की यदि हम चाहते है की मानवता आगे बढ़े तो हम सभी को महिलाओ का सम्मान एवं प्यार करना चाहिए..।वहीं कोम्बोडिया की प्रिंसेस ने कहा की बुद्धा के संदेशो मे मानवता को आगे बढ़ाने की शक्ति है..।

आपको बता दें कि विपिन कुमार भारतीय देश मे संवैधानिक अधिकारो की लड़ाई भी लड़ रंहे हैं हालहि में मोदी सरकार के आर्थिक आधार पर 10 फीसदी आरक्षण दिए जाने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर चुनोती भी दे चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

डॉ. मनीषा बांगर ने ट्रोल होने के विरोधाभास को जताया. ब्राह्मण सवर्ण वर्ग पर उठाए कई सवाल !

ट्रोल हुए मतलब निशाना सही जगह लगा तब परेशान होने के बजाय खुश होना चाहिए. इसके अलावा ट्रोल …