Home Language Hindi कोर्ट में रोई दिशा रवि, दिल्ली पुलिस ने कहा- ‘टूलकिट एडिट किया गया’!

कोर्ट में रोई दिशा रवि, दिल्ली पुलिस ने कहा- ‘टूलकिट एडिट किया गया’!

किसान आंदोलन से जुड़ी एक ‘टूलकिट’ के मामले में क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि की गिरफ्तारी के बाद कई नेताओं और बाकी हस्तियों ने दिल्ली पुलिस की कार्रवाई की आलोचना की है.

आपको बता दें कि दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने दिशा रवि को टूलकिट का प्रसार करने के आरोप में शनिवार को बेंगलुरु से गिरफ्तार किया था. इसके बाद दिल्ली की एक अदालत ने रविवार को दिशा को पांच दिनों के लिए स्पेशल सेल की हिरासत में भेज दिया.

दिल्ली पुलिस ने दिशा रवि को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया. कोर्ट की कार्यवाही के दौरान क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि जज के सामने रो पड़ीं. दिशा ने मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट देव सरोहा को बताया कि टूलकिट उसने नहीं बनाया था बल्कि किसानों के समर्थन में सिर्फ दो लाइनों को एडिट किया था. हालांकि दिल्ली पुलिस का आरोप है कि दिशा ने टूलकिट को एडिट किया था. दिशा के मोबाइल को बरामद कर लिया है लेकिन डेटा डिलीट कर दिया गया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने दिशा की गिरफ्तारी के मामले पर ट्वीट कर कहा, ”पूरी तरह भयानक! यह अनुचित उत्पीड़न और धमकी है. मैं दिशा रवि के साथ अपनी पूरी एकजुटता व्यक्त करता हूं.”

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा है, “डरते हैं बंदूकों वाले एक निहत्थी लड़की से, फैले हैं हिम्मत के उजाले एक निहत्थी लड़की से.”

वकील और अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस ने कहा है, ”भारतीय अधिकारियों ने एक अन्य युवा महिला कार्यकर्ता, 21 साल की दिशा रवि को गिरफ्तार किया है, क्योंकि उसने सोशल मीडिया पर एक टूलकिट पोस्ट की थी कि कैसे किसानों के प्रदर्शन का समर्थन करें. घटनाओं के अनुक्रम के बारे में इस थ्रेड को पढ़ें और पूछें कि एक्टिविस्ट्स को सरकार की ओर से टारगेट और चुप क्यों किया जा रहा है.”

द वायर के मुताबिक, कोर्ट की कार्यवाही पर नजर रखने वाली वकील रेबेका जॉन ने एक सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा है, ”पटियाल हाउस कोर्ट के ड्यूटी मजिस्ट्रेट के व्यवहार से काफी निराश हूं, जिन्होंने एक युवा महिला को 5 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया, बिना यह सुनिश्चित किए कि कोई वकील उसका प्रतिनिधित्व कर रहा है या नहीं.”

बता दें कि पिछले दिनों दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने ‘‘भारत सरकार के खिलाफ सामाजिक, सांस्कृतिक और आर्थिक युद्ध’’ छेड़ने के आरोप में ‘टूलकिट’ के निर्माताओं के खिलाफ FIR दर्ज की थी.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

न्यायपालिका में इंसाफ के प्रतिनिधि थे जस्टिस पी बी सावंत -डॉ मनीषा बांगर

भारतीय सामाजिक व्यवस्था के मूल में जातिवादी व्यवस्था है। यह व्यवस्था इतनी ताकतवर है कि बड़…