Home Language Hindi ‘सरकार फेल,सरदार नहीं’- कोविड मरीजों की ऐसे कर रहे सेवा
Hindi - Human Rights - Political - May 8, 2021

‘सरकार फेल,सरदार नहीं’- कोविड मरीजों की ऐसे कर रहे सेवा

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने हाहाकार की स्थिति पैदा कर दी. सरकारी स्वास्थ्य सिस्टम चरमरा गया. देश के अलग-अलग हिस्सों से ऑक्सीजन, बेड और दवाओं की कमी की खबरें आने लगीं. वहीं कई लोगों ने इस बुरे वक्त का फायदा उठाकर मेडिकल उपकरणों की कालाबाजारी और जमाखोरी की. लेकिन इस कठिन वक्त में भी ‘सेवा’ से प्रेरित होकर सिख समुदाय एक बार फिर कोविड-19 से लड़ाई में मदद के लिए आगे आया. दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी, हेमकुंट फाउंडेशन, सिख एड, खालसा एड जैसे सेवा संगठनों ने कोरोना संकट के दौर में लोगों की कई जरियों से मदद की.

दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी (DSGMC) ने जरूरतमंद लोगों के घर-घर तक जाकर लंगर की सुविधा दी. जिन लोगों के घर पर खाना नहीं है या कोरोना मरीज होने की वजह से बनाने की सुविधा नहीं है उनके घर तक सिख समुदाय के इन लोगों ने भोजन पहुंचाने की मदद की. DSGMC ने ऑक्सीजन सिलेंडरों में भरकर लोगों को फ्री ऑक्सीजन देने का भी अभियान चलाया.

हेमकुंट फाउंडेशन का कार्यालय गुड़गांव में स्थित है. उन्होंने एक बायोबबल बनाया हुआ जहां पर लगातार कोरोना मरीज आते रहते हैं. हेमकुंट फाउंडेशन के वॉलेंटियर ने क्विंट से बातचीत में बताया कि-

”ये एक बायो बबल है, यहां सिर्फ कोविड मरीज आ सकते हैं, यहां दिन-रात मरीज आ रहे हैं. वो यहीं सोते हैं, यहीं खाते हैं, काफी गर्मी है, इसलिए आज हमने यहां कूलर लगाए हैं. पानी के टैंकर लगाए हैं और मरीजों के लिए पोर्टेबल टॉयलेट बनाए गए हैं. हम लगातार मरीजों को नारियल पानी दे रहे हैं, कंबल, रजाई, तकिया, जूस दिया जा रहा है.”

हेमकुंट फाउंडेशन के लिए सेवा काम करने वाले हरकीरत सिंह बताते हैं कि- ‘आप जो भी वॉलिंटियर्स देख रहे हैं, वो सभी फर्स्ट-एड रिस्पॉन्डर्स हैं. ये सभी ट्रेन्ड हैं, यहीं खाते और सोते हैं. हम चौबीस घंटे यहीं हैं. हालात से हमारी मेंटल हेल्थ पर असर पड़ा है, लेकिन हम तब भी काम कर रहे हैं और हम लोगों की मदद करेंगे. जब तक हम यहां हैं, कोशिश करेंगे कि अपनी तरफ से बेस्ट करें. आप सभी सपोर्ट करते रहिए. हमने सेकेंड वेव का पीक टच नहीं किया है. हालात और खराब होंगे.’

भुवनेश्वर के एक युवा का SikhAid एनजीओ ग्राउंड पर लगातार काम कर रहा है. इनके जरिए होम आइसोलेशन में मरीजों को फ्री मेडिकल सुविधा मुहैया कराई जा रही है. ये संगठन लोगों को फ्री में ऑक्सीजन पहुंचा रहा है. ओडिशा के कटक में एक वॉलेंटियर को रात में साढ़े 10 बजे जरूरतमंद का फोन आया तो वॉलेंटियर ने रात को तुरंत ही ऑक्सीजन पहुंचाने का काम किया. SikhAid में सेवा देने वाले रौनक बताते हैं कि- ‘उन्हें दिन में मदद की गुहार वाली 400-500 कॉल रोजाना आती हैं. जिसमें से 70-80 परसेंट क्रिटिकल पेशेंट होते हैं जिनको ऑक्सीजन की जरूरत होती है.’ तो इस तरह से अपनी जान की परवाह किए बिना सिख लोग इस महामारी में जनता की सेवा कर रहे है.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

The Rampant Cases of Untouchability and Caste Discrimination

The murder of a child belonging to the scheduled caste community in Saraswati Vidya Mandir…