Home International Political अमेरिकी प्रदर्शन को देखते हुए प्रशांत भूषण का सवाल, क्या मौजूदा पुलिस पीएम को फटकार लगा सकती है ?
Political - June 23, 2020

अमेरिकी प्रदर्शन को देखते हुए प्रशांत भूषण का सवाल, क्या मौजूदा पुलिस पीएम को फटकार लगा सकती है ?

जॉर्ज फ्लोयड हत्या मामले में पूरे अमेरिका में विरोध प्रदर्शन जारी हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति भवन के सामने भी प्रदर्शनकारी इकट्ठा हुए और जमकर प्रदर्शन किया. इस समय #BLACKLIVESMATTER ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है. साथ ही अश्वेत लोगों के खिलाफ हो रही हिंसा को बंद करने की मांग उठ रही है. जिसके बाद इस मामले ने कई देशों में तूल पकड़ लिया है.

दरअसल, जॉर्ज फ्लोयड हत्या मामले में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक कॉन्फ्रेंस की. जिसमें उन्होंने कहा था कि राज्यों के गवर्नर हिंसा से निपटने में अपनी कमज़ोरी दिखा रहे हैं, जबकि उन्हें प्रदर्शनकारियों पर हावी होना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर आप हावी नहीं हैं, तो आप अपना समय बर्बाद कर रहे हैं.

वहीं ट्रंप के इस बयान पर ह्यूस्टन के पुलिस प्रमुख आर्ट एक्‍वेडो ने ऐतराज़ जताया. उन्होंने ट्रंप को अपना मुंह बंद रखने की सलाह दी. ये बात उन्होंने सीएनएन के साथ एक साक्षात्कार में कही. उन्होंने कहा कि मैं देश के पुलिस प्रमुखों की ओर से अमेरिका के राष्ट्रपति से केवल यह कहना चाहूंगा कि अगर आपके पास कहने के लिए कुछ रचनात्मक नहीं है, तो कृपया अपना मुंह बंद रखें.

इसके बाद से ही ह्यूस्टन पुलिस चीफ़ के इस बयान के बाद भारत में भी प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू शुरु हो गया है. लोग एक्‍वेडो की बेबाकी की तारीफ़ करते हुए पूछ रहे हैं कि क्या भारत में भी कोई पुलिस अधिकारी इस तरह से प्रधानमंत्री को बोल सकता है. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने ट्वीट कर लिखा कि वाह! एक पुलिस प्रमुख अपने राष्ट्रपति को फटकार लगाता है. कार्यकाल की सुरक्षा का आनंद लेने के सिवा, क्या हम किसी भी मौजूदा पुलिस प्रमुख को पीएम को फटकार लगाता देखते हैं?

बता दें कि अमेरिका में अश्वेत फ्लॉयड की पुलिस द्वारा की गई हत्या के बाद हिंसक प्रदर्शनों का दौर जारी है. जिसकी आग अमेरिका की 140 शहरों तक पहुंच गई है, जिसे देश में पिछले कई दशकों की सबसे खराब नागरिक अशांति माना जा रहा है. इन प्रदर्शनों के बीच पुलिस की तरफ़ से भी अच्छी पहल देखने को मिली है. इससे पहले पुलिस ने प्रदर्शकारियों के साथ एकजुटता दिखाते हुए घुटनों पर बैठकर फ्लोयड की मौत की निंदा की थी. जिसके बाद अमेरिकी पुलिस की काफी तारीफ हो रही है. लेकिन इस बीच सवाल ये उठता है कि क्या भारत की पुलिस प्रधानमंत्री के खिलाफ जाकर कभी जनता का साथ देगी ? जिसका जवाब दिल्ली हिंसा के बाद शायद ना ही हो.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बालेश्वर यादव की पूरी कहानी !

By_Manish Ranjan बालेश्वर यादव भोजपुरी जगत के पहले सुपरस्टार थे। उनके गाये लोकगीत बहुत ही …