Home Social Education बाबा रामदेव की फिर बढ़ी मुश्किलें, IMA ने दिल्ली पुलिस के पास दर्ज कराई शिकायत
Education - Health - Hindi - Political - May 27, 2021

बाबा रामदेव की फिर बढ़ी मुश्किलें, IMA ने दिल्ली पुलिस के पास दर्ज कराई शिकायत

रामदेव के खिलाफ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) का विरोध तेज होता जा रहा है। IMA ने 27 मई को दिल्ली के आईपी एस्टेट पुलिस स्टेशन में योगगुरु के खिलाफ शिकायत दी है। इसमें रामदेव पर महामारी एक्ट, आपदा एक्ट और राजद्रोह समेत दूसरी धाराओं के तहत FIR दर्ज करने की मांग की गई है। इस शिकायत की वजह रामदेव का वह बयान है जिसमें उन्होंने एलोपैथी को बकवास और दिवालिया साइंस कहा था। इसे लेकर IMA उनसे नाराज है।

IMA ने अपनी शिकायत में कहा है कि रामदेव और उनके साथियों की मंशा गलत थी। उनका बयान देशहित के खिलाफ था। इससे गरीब जनता को जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई नहीं हो सकती। इसलिए उनके खिलाफ केस दर्ज किया जाना चाहिए।

दिल्ली के आईपी एस्टेट पुलिस स्टेशन में रामदेव के खिलाफ दी गई IMA की शिकायत की कॉपी।

IMA ने रामदेव के खिलाफ ऐसी ही शिकायत छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के सिविल लाइंस थाने में भी दी है। IMA के जिला अध्यक्ष डॉ. विकास अग्रवाल, सचिव डॉ. आशा जैन और डॉ. अनिल जैन की ओर से दी गई शिकायत में कहा गया है कि पिछले कुछ दिनों से रामदेव देश के डॉक्टर्स और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च से अप्रूव्ड कोरोना की दवाओं के बारे में दुष्प्रचार कर रहे हैं।

एलोपैथी और डॉक्टर्स को लेकर रामदेव के विवादित बयानों को IMA ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी चिट्ठी लिखी है। इसमें कहा गया है कि वैक्सीनेशन को लेकर रामदेव की तरफ से किए जा रहे दुष्प्रचार को रोका जाना चाहिए। साथ ही उन पर देशद्रोह के आरोपों के तहत कार्रवाई की जानी चाहिए। IMA के मुताबिक एक वीडियो में रामदेव ये दावा करते दिख रहे हैं कि कोरोना वैक्सीन की दोनों खुराक लेने के बाद भी 10,000 डॉक्टर और लाखों लोग मारे गए हैं।

IMA उत्तराखंड ने 26 मई को योग गुरु बाबा रामदेव को 1000 करोड़ रुपए का मानहानि का नोटिस भेजा है। यह मामला भी रामदेव के उस वीडियो से जुड़ा है, जिसमें बाबा एलोपैथी के खिलाफ बोल रहे हैं। हालांकि रामदेव ने बाद में अपना बयान वापस ले लिया था। लेकिन IMA का कहना है कि उन्होंने जो बयान दिया है उसके जवाब में अगर वे अगले 15 दिनों में वीडियो जारी कर सफाई नहीं देते और लिखित रूप से माफी नहीं मांगते, तो उनसे 1000 करोड़ रुपए की भरपाई की मांग की जाएगी।

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुक, ट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

The Rampant Cases of Untouchability and Caste Discrimination

The murder of a child belonging to the scheduled caste community in Saraswati Vidya Mandir…