घर राज्य दिल्ली-एनसीआर रद्दी म्हणून घरात चोरी करायची,पोलिसांनी पकडले

रद्दी म्हणून घरात चोरी करायची,पोलिसांनी पकडले

दिल्ली:- Twitter आणि YouTube वर कनेक्ट व्हा. ऐसे में माना जा रहा है कि दिल्ली पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हासिल हुई है चोरी के मामले में मनीष राठोर (28) और उसके साथी मोहम्मद सफीक को गिरफ्तार किया है. इन चोरों के पास से पुलिस ने अर्टिगा कार, दो डिजिटल गोल्ड वज़न मापने वाली मशीनें बरामद की हैं,

साथ ही पुलिस ने एक जोड़ी बैंगल्स, दो जोड़ी कड़ा, एक जोड़ी अंगूठी, शिकायतकर्ता के संपत्ति के कागजात, 20 हजार रुपये भी बरामद किए। चोरी के समय दोनों चोरों के जरिए इस्तेमाल किया गया एक तौलिया भी पुलिस ने जब्त किया है.

बदमाशों को गिरफ्तार कर ले जाती पुलिस

बदमाशों पर पहले से भी कई मुकदमे दर्ज है. हालांकि मनीष और इनके साथी इतने कुख्यात है कि सोने तौलने का मशीन भी साथ रखता था. मनीष पहले कबाड़ी का काम करता है और घर घर जाकर समान खरीदता था. मसलन मनीष पहले सामान खरीदने के बहाने घर का रैक करता था और जो घर में ताला लगा रहता था उस घर में रात में जाकर चोरी करता था.

खरंच 27 जून को मंजीत कौर नाम की एक महिला ने थाना पहाड़गंज में चोरी की FIR दर्ज कराई थी। शिकायत में मंजीत कौर ने बताया था कि वो चोरी वाले दिन अपने भाई के घर गई हुई थी। जब वो सुबह अपने घर वापस आई तो उन्होंने अपने घर का ताला टूटा हुआ पाया। घर के अंदर देखने पर उन्हें पता चला की घर से सोने की चेन, बैंगल्स, अंगूठियां, मंगलसूत्र 55 हजार रुपये नकद और संपत्ति के कागजात चोरी हुए हैं।

इस वारदात को अंजाम देने वाले गिरोह को पकड़ने के लिए एसीपी पहाड़ गंज ओम प्रकाश लेखवाल इंचार्ज विशुद्धानन्द झा ने अपनी निगरानी में एक पुलिस पार्टी तैयार की इसमें एसआई सुशील कुमार, एएसआई चंद्रपाल, एएसआई इफ्तिखार, हवलदार राजवीर, सिपाही, साइबर एक्सपर्ट दीपक कुमार , राजीव, मुकुल, को शामिल किया गया।

गौरतलब है कि साइबर एक्सपर्ट दीपक कुमार इससे पहले भी कई मामले रेप,कीडनपिंग,छीनाझपटी, 365, 363, 376, 420 जैसे मामले में अपना अहम भूमिका निभाकर कई रिवॉर्ड अपने नाम हासिल कर चुके है.

दीपक कुमार साइबर एक्सपर्ट


हालांकि पहाड़गंज मामले में पुलिस टीम ने इलाके के तकरीबन 100 CCTV कैमरों की जांच करने के बाद नबी करीम इलाके में लगे एक CCTV कैमरे की फुटेज से एक सुराग मिला। फुटेज में दिखा ‘सुनसान जगह पर खड़ी अर्टिगा कार में कुछ लोग तेजी से बैठ रहे हैं । पुलिस ने इस अर्टिगा कार को अपनी जांच के दायरे में ले लिया। चोरी की वारदात का समय और इस कार बैठने वाले लोगों के समय में अधिक अंतराल नहीं था।

इसके बाद पुलिस स्टाफ ने कार का नंबर DL-1ZB-3740 लेकर उसके मालिक का विवरण निकलवाया तो यह कार साइमा कामील नाम की महिला के नाम पर थी जो दिल्ली के इंद्रलोक के पत्ते पर रहती थी। इसके बाद पुलिस को पता लगा यह कार SBI बैंक से इंश्योरेंस की गई थी। पुलिस को वहाँ से एक फ़ोन नंबर व पता मिला जो कार की मालकिन साइमा कामील का था। पुलिस ने साइमा कामील तक पहुँच कर पूछताछ की तो उस महिला ने बताया वह पेशे से फार्मासिस्ट है और उसने अपनी अर्टिगा कार को सफीक नाम के व्यक्ति को मासिक किराए पर दे रखा है।


इसके बाद पुलिस की जाँच के दायरे में सफीक आ चुका था । पुलिस को साइमा से सफीक का मोबाइल नंबर मिल गया था। थाने के साइबर एक्सपर्ट सिपाही दीपक ने बिना वक्त गवाएं सफीक के नंबर की लोकेशन तलाश ली। सफीक की लोकेशन एम्स अस्पताल के आस पास आ रही थी। पुलिस टीम लोकेशन के आधार पर पीछा करते करते तक औखला पहुँच गई और उसे रस्ते से गिरफ्तार कर लिया।


पूछताछ के बाद आरोपी सफीक ने चोरी का गुनाह कबूल करते हुए अपने साथी मनीष राठौर के बारे में बता दिया। मनीष (28) को आनंद पर्वत की कटपुतली कॉलोनी से गिरफ्तार कर लिया गया। मनीष के पास से एक कार जेन एस्टिलो नंबर – डीएल -5 सीबी- 9533 जिसे चोरी में इस्तेमाल किया करता था। इनके पास से 2 कारें संपत्ति के कागजात चोरी किया हुआ माल बरामद कर लिया गया किन्तु इनका एक साथी अभी फरार है जिसकी पुलिस तलाश कर रही है।


गिरफ्तार आरोपी मनीष राठौर जो एक पेशेवर अपराधी हैं । यह रंजीत नगर में कबाड़ी की दुकान चलाता है। मनीष के साथी कबाड़ी बनकर इलाकों में घरों की रैकी किया करते थे। कई लोग इन कबाड़ियों को पुराना सामान दिखाने के लिए घर के अंदर बुला लेते थे। उस घर की रैकी करके रात को कार लेकर निकलते थे सफीक कार चलाता था वारदात करने की जगह से कुछ दूरी पर सुनसान में कार खड़ी कर देते थे। इसके सेंधमारी करने के बाद कार में बैठ कर फरार हो जाते थे। लिहाजा पहाड़गंज थाने की पुलिस टीम ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार का जेल भेज दिया है.

(आता राष्ट्रीय भारत बातम्याफेसबुकट्विटर आणिYouTube आपण कनेक्ट करू शकता.)

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

26 मे रोजी शेतकरी आंदोलन 6 महिने, या सरकारांमध्ये मोदी सरकारच्या धोरणांच्या विरोधात काळा दिवस साजरा केला जाईल

किसान बेहद विपरीत परस्थतियों में भी अपने आंदोलन को आगे बढ़ा रहे हैं। दिल्ली की सीमाओं पर कि