Home State Delhi-NCR दिल्ली में एक महीने के अंदर नौ सफाई कर्मचारियों की मौत, कौन है जिम्मेदार ?
Delhi-NCR - Social - State - August 13, 2017

दिल्ली में एक महीने के अंदर नौ सफाई कर्मचारियों की मौत, कौन है जिम्मेदार ?

new Delhi. Went to clean the gutter in Delhi went died due to poisonous gas of two brothers. This event is Shahdara. Cleaning staff entered into the gutter to clean. But went to his death because of the poisonous gas smell. जबकि उनके पिता को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है. एक महीने के अंदर यह नौवीं मौत है. जिस समय घटना हुई उस समय सफाई कर्मचारी एक शॉपिंग मॉल के पास एक नाले की सफाई कर रहे थे. पुलिस ने बताया कि इस बचाव अभियान में शामिल एक दमकलकर्मी भी ज़हरीली गैसों के संपर्क में आया और उसे भी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

Joseph during Clear Channel, according to police Agarwal Fnsiti mall located in Vishwas Nagar Shahdara basement (50) और उनके दो बेटे जहांगीर (24) और इजाज़ (22) बेहोश हो गए. जब वे काफी समय तक नाले से बाहर नहीं निकले तब पुलिस और दमकल विभाग को सूचित किया गया. Police said further entered into an MP's stream of Dmklkarmiyon and he fell while coming in contact with poisonous gases. चारों लोगों को हेडगेवार अस्पताल ले जाया गया, जहां पहुंचते ही जहांगीर को मृत घोषित कर दिया गया. कुछ ही देर बाद इजाज़ की भी मौत हो गई. यूसुफ और महिपाल का हेडगेवार अस्पताल में इलाज चल रहा है जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई है.

बता दें कि दिल्ली में एक महीने के अंदर सीवर और नाला सफाई के दौरान सफाईकर्मियों की मौत की यह तीसरी घटना है. बीते 15 जुलाई को दक्षिण दिल्ली के घिटोरनी इलाके में सेप्टिक टैंक की सफाई के दौरान दम घुटने से चार सफाई कर्मचारियों की मौत हो गई थी. सभी सफाई कर्मचारी छतरपुर के आंबेडकर कॉलोनी के रहने वाले थे.

After August six near Kabir Ram temple in Lajpat Nagar went to the death of three employees during the cleaning of a sewer line. इन तीनों घटनाओं को मिलाकर देखा जाए तो दिल्ली में सीवर सफाई के दौरान एक महीने के अंदर नौ लोगों की मौत हो चुकी है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

हे पुरुष प्रधान समाज महिलाएं अब खेल भी रही हैं और मेडल जीत रही हैं

ये सच है हमारा समाज  पुरुष प्रधान समाज रहा है और कई मामलों में आज भी है. एक बात मैं य…