घर राज्य दिल्ली-एनसीआर #MeToo मोहिमेतील उच्च जातीच्या महिलांना डॉ रामकृष्णांच्या या समर्पक प्रश्नांची उत्तरे द्यावी लागतील!

#MeToo मोहिमेतील उच्च जातीच्या महिलांना डॉ रामकृष्णांच्या या समर्पक प्रश्नांची उत्तरे द्यावी लागतील!

भारतीय समाज में महिलाओं को कमजोर समझे जाने की मानसिकता के चलते आज भी पुरुषवादी सोच उन पर हावी है और उसी सोच के चलते महिलाओं के साथ शोषण बदस्तूर जारी है। लेकिन महिलाओं के उत्पीड़न का यह दौर कोई नया नहीं है, इसका बहुत लंबा इतिहास रहा है। यह उस मनुवादी और ब्राह्मणवादी व्यवस्था का नतीजा है जिसका महिलाओं ने भी कभी खुलकर विरोध नहीं किया है। आज जब मीटू कैंपेन के जरिए महिलाएं खुद को सशक्त और मजबूत महसूस कर रहीं है तो हमें कवयित्रि महादेवी वर्मा द्वारा लिखी एक कविता याद आती हैजिसमें वो लिखती हैं….

 

मै हैरान हूं यह सोचकर

किसी महिला ने उंगली नहीं उठाई,

तुलसीदास पर जिसने कहा:-

ढोल,गवार, शूद्र, पशु, नारी

सब है तड़न के अधिकारी।

 

मै हैरान हूं यह सोचकर

किसी औरत ने नहीं

जलाई मनुस्मृति

जिसने पहनाई

उन्हें गुलामी की बेड़ियां।

 

मै हैरान हूं, यह सोचकर

किसी औरत ने धिक्कारा नहीं

ते “रॅम” करण्यासाठी

जिसने गर्भवती पत्नी को

अग्नि परीक्षा के बाद भी

निकाल दिया घर से बाहर

धक्के मारकर

 

मै हैरान हूं यह सोचकर

किसी औरत ने

नहीं किया नंगा, उस कृष्ण को

चुराता था जो नहाती हुई

बालाओं के वस्त्र

योगेश्वर कहलाकर भी

जो मनाता था रंगरलियां

सरे आम!

 

किसी औरत ने लानत नहीं भेजी

उन सबको, भारताच्या इतिहासातील तो पहिला राजा होता

औरत को समझकरवस्तु

लगा दिया, जुए के दांव पर

होता रहा जहांनपुंसक

योद्धाओं के बीच

समूची औरत जात का चीर_हरन!

 

में हैरान हूं ये सोचकर

किसी महिला ने नहीं किया

संयोगिता_अंबालिका के

अपहरण का विरोध

आज तक!

 

और मैं हैरान हूं ये सोचकर,

क्यों इतना होने के बाद भी,

उन्हें अपना श्रद्धेय मानकर

पूजती है मेरी मां, बहन, बेटियां

उन्हें देवता भगवान मानकर

आखिर क्यों?

 

मै हैरान हूं

उनकी चुप्पी देखकर

इसे उनकी सहनशीलता कहूं या

अंध श्रद्धा या फिर

मानसिक गुलामी की परिकाष्ठा!

 

-डॉ रामकृष्ण

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

वाचून बाबासाहेबांना प्रेरणा मिळाली, आणि पूजा अहलियान मिसेस हरियाणा बनल्या

हांसी, हिसार: कोणताही पर्वत, कोणताही डोंगर वाटेने येऊ शकत नाही, घरगुती हिंसा किंवा शोषण, आता मार्ग आणि…