घर सामाजिक राजकारण लोकसभा चुनाव : 2004 की तस्वीर दिखा रहे एक्जिट पोल

लोकसभा चुनाव : 2004 की तस्वीर दिखा रहे एक्जिट पोल

– नवल किशोर कुमार
लोकसभा चुनाव 2019 के तहत सभी सात चरणों के मतदान समाप्त हो चुके हैं और इसके साथ ही कयासबाजियों का दौर शुरू हो चुका है कि कौन पार्टी कितनी सीटें जीतेगी और 23 मई को ताज किसके माथे पर होगा। अभी तक दस सर्वेक्षणों के परिणाम सामने आए हैं और इनमें से 9 एजेंसियों ने नरेंद्र मोदी को विजेता बताया है और मात्र एक ने इसकी अंदेशा जाहिर की है कि इस बार त्रिशकु सरकार बन सकती है।

एक्जिट पोल के परिणामों को आधार मानकर किसी ठोस निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता है। मसलन, 2004 में जब अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में एनडीए ने चुनाव लड़ा था तब एक्जिट पोल करने वाली एजेंसियों ने कुछ वैसी ही तस्वीर दिखायी थी, जैसा कि आज दिखाया जा रहा है।

तब आजतक-ओआरजी-मार्ग ने एनडीए को 248 सीटें मिलने की बात कही थी। वहीं कांग्रेस गठबंधन को 190 और अन्य के खाते में 105 सीटें संभावित थीं। जबकि जब परिणाम सामने आए तब कांग्रेस गठबंधन को 218 सीटें मिलीं और भाजपानीत एनडीए को 181 सीटें मिली थीं।

उस समय भाजपा गठबंधन को विजेता का ताज पहनाने वालों में एनडीटीवी-एसी निलसेन भी थे जिन्होंने एनडीए को 230-250 सीटें मिलने की 230-205 सीटें मिलने की कही थी। वहीं कांग्रेस गठबंधन को 171-181 सीटें मिलने की बात कही थी। एनडीए को सबसे अधिक 263-278 सीटें मिलने की बात सहारा-डीआरएस ने कही थी। जी न्यूज ने एनीए को 249 सीटें भाजपा गठबंधन को मिलने की बात कही थी।

इस बार लगभग सभी सर्वे एजेंसियों ने स्वीकार किया है कि कांग्रेस और उसके घटक दलों को लाभ होगा। मसलन इंडिया टुडे-एक्सिस के मुताबिक कांग्रेस और उसके गठबंधन दलों को 77-108 सीटें, न्यूज 24-चाणक्य के अनुसार 95, न्यूज 18-आईपीएसओएस के अनुसार 82, टाइम्स नाऊ-वीएमआर के अनुसार 132, रिपब्लिक-जन की बात के अनुसार 124, इंडिया न्यूज-पोल स्ट्रेट के अनुसार 118, रिपब्लिक-सी वोटर के मुताबिक 128, न्यूज नेशन के अनुसार 122, एबीपी न्यूज के मुताबिक 130 और न्यूज एक्स-नेता के अनुसार 164 सीटें मिल सकती हैं।

इस बार के एक्जिट पोल के आंकड़े खास इसलिए भी हैं क्योंकि सभी ने एनडीए और यूपीए के अलग उन दलों के बारे में जो कि किसी गठबंधन के हिस्से नहीं हैं, को मिलने वाली सीटों में बढ़ोत्तरी की संभावना व्यक्त किया है। मसलन, इनमें न्यूज 24-चाणक्य ने इन दलों को 97, न्यूज 18-आईपीएसएस ने 114, टाइम्स नाऊ-वीएमआर ने 104, रिपब्लिक-जन की बात ने 113, इंडिया न्यूज-पोल स्ट्रीट ने 126, रिपब्लिक-सी वोटर ने 127 और एबीपी न्यूज ने 135 सीटें मिलने की बात कही है। न्यूज एक्स-नेता का आंकड़ा 136 आहे.

यानी एक बात स्पष्ट है कि मोदी के बावजूद क्षेत्रीय पार्टियां सीटें जीतने में कामयाब होंगी और निश्चित तौर पर इसका असर सरकार के गठन पर पड़ेगा। यह देखना दिलचस्प होगा कि क्षेत्रीय पार्टियों के मजबूत होने पर गठित होने वाली सरकार का स्वरूप क्या होगा। फिलहाल सभी को इंतजार 23 मई का है जब संभावनाओं की असलियत सामने आएगी।

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

वाचून बाबासाहेबांना प्रेरणा मिळाली, आणि पूजा अहलियान मिसेस हरियाणा बनल्या

हांसी, हिसार: कोणताही पर्वत, कोणताही डोंगर वाटेने येऊ शकत नाही, घरगुती हिंसा किंवा शोषण, आता मार्ग आणि…