Home International Political अयोध्या जन्मभूमि विवाद पर आज फैसला हुआ खत्म!
Political - Politics - November 9, 2019

अयोध्या जन्मभूमि विवाद पर आज फैसला हुआ खत्म!


अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर 5 जजों की अगुवाई में आज बड़ा फैसला सुना दिया है. शिया वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़े के दावे को खारिज कर दिया गाया है. सुन्नी वक्फ बोर्ड को मस्जिद के लिये किसी मुनासिब जगह पर पांच एकड़ जमीन दी जाए. केंद्र और उप्र सरकार के साथ मिलकर 2.77 एकड़ जमीन को राममंदिर निर्माण के लिए प्राधिकार को तीन महीने तक का आदेश दिया हैं. वही इतिहासकारों के मुताबिक सन् 1526 में बाबर इब्राहिम लोदी से जंग लड़ने भारत आया था. बाबर के सूबेदार मीरबाकी ने 1528 में अयोध्या में मस्जिद बनवाई. बाबर के सम्मान में इसे बाबरी मस्जिद नाम दिया गया.

1959 : निर्मोही अखाड़े ने विवादित स्थल पर मालिकाना हक जताया. 1989 : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवादित स्थल पर यथास्थिति बरकरार रखने को कहा. 1992 : अयोध्या में विवादित ढांचा ढहा दिया गया. 2010 : इलाहाबाद हाईकोर्ट ने फैसला सुनाते हुए विवादित स्थल को सुन्नी वक्फ बोर्ड निर्मोही अखाड़ा और रामलला के बीच तीन हिस्सों में बराबर बांट दिया.6 अगस्त 2019 : सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर हिंदू और मुस्लिम पक्ष की अपीलों पर सुनवाई शुरू की. 16 अक्टूबर 2019 : सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई करते हुए आखिरी फैसला टाल दिया था.

लेकिन वकील जफरयाब ज़ालिनी का कहना है कि ‘फैसला हमें बाबरी मस्जिद नहीं देता, जो हमारे हिसाब से गलत है. हमारे लिए पांच एकड़ जमीन के कोई मायने नहीं हैं. हम फैसले से जरा भी संतुष्‍ट नहीं हैं. हम नागरिकों से शांति बनाए रखने की अपील करते हैं. इस मामले में पुनर्विचार याचिका दायर करने पर विचार किया जाएगा. वहीं कांग्रेस के रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ चुका है. हम राम मंदिर के निर्माण के पक्ष में हैं. इस फैसले ने न केवल मंदिर के निर्माण के लिए दरवाजे खोले बल्कि इस मुद्दे का राजनीतिकरण करने के लिए बीजेपी के लिए दरवाजे भी बंद कर दिए हैं. बहरहाल सदियों पुराना चला आ रहा अयोध्या विवाद आज खत्म हो ही गया.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

डॉ मनीषा बांगर को पद्मश्री सम्मान के लिए राष्ट्रीय ओबीसी संगठनों ने किया निमित

ओबीसी संगठनों ने बहुजन समुदाय के उत्थान में उनके विशिष्ट प्रयासों के लिए डॉ मनीषा बांगर को…