घर मनोरंजन सोनू सूद यांनी त्यांच्या खर्चावर मजूर घरी पाठवले, सरकार काय करत आहे ?

सोनू सूद यांनी त्यांच्या खर्चावर मजूर घरी पाठवले, सरकार काय करत आहे ?

कोरोना महामारी में इस समय देश के प्रवासी मजदूर दोहरी मार झेल रहे है. वहीं इस बीच अब सोनू सूद प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए सामने आए है. जिसके बाद उन्होंने अपनी दरियादिली से लोगों का दिल जीत लिया है. सोनू सूद हर उस व्यक्ति की मदद कर कर रहे हैं जो वापस अपने घर देश के किसी भी हिस्से में जाना चाहता है. लोग ट्वीटर पर मदद मांग रहे हैं, सर हमें बस अपने स्टेट पहुंचा दीजिये. सोनू सूद उन्हें घर तक पहुंचा रहे हैं.

होय होय, सोनू सूद प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए हर ट्वीट का जवाब भी दे रहे हैं. कई लोगों को नहीं पता कि ये सब वह कितनी मेहनत और कठिनाइयों का सामना करके कर रहे हैं. काम ठीक से हो, इसके लिए वह 18 घंटे अपने फोन से चीजों को मॉनिटर कर रहे हैं. इस काम में उनको सरकार से परमिशन लेने में भी दिक्कतें आ रही हैं. उनको यह भी सुनिश्चित करना पड़ रहा है कि इन वर्कर्स के पास कागज पूरे हों ताकि वे किसी राज्य के बॉर्डर पर फंस न जाएं. सोनू सूद का कहना है कि कागजी कार्यवाही के लिए अशिक्षित लोगों को काफी भागदौड़ करना पड़ता है जिससे उन्हे काफी मुश्किल हालातो के सामना करना पड़ता है, सरकार को इस प्रक्रिया को आसान बनाना चाहिए.

मिली जानकारी के मुताबिक अब तक वे लगभग 1600 लोगों को उनके घर भेज चुके हैं. अगले दस दिन में वे फिर से 100 बसें मुम्बई से देश के दूसरे राज्यों के लिए रवाना करेंगे. 60 सीटर बस में 35 पैसेंजर्स को सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए भेजा जा रहा है. इससे पहले जो व्यक्ति जिस जिले में जायेगा उस जिले के डीएम से परमिशन लेना होता है. लोकल पुलिस स्टेशन से अनुमति के साथ सभी जाने वालों का मेडिकल टेस्ट भी अनिवार्य है. बता दें कि यह सब कुछ सोनू सूद अपने खर्चे पर कर रहे हैं. जो बेहद ही सराहनीय है.

बता दें कि सोनू सूद ऐसे पहले अभिनेता है जो प्रवासी मजदूरों को घर भेजने के लिए परिवहन की व्यवस्था कर घर भेज रहे है. कुछ दिनों पहले ही एक्टर ने महाराष्ट्र सरकार से परमिशन लेने के बाद कुछ प्रवासियों की यात्रा और खाने का बंदोबश किया था. वहीं उन्होंने इससे पहले कुल 10 बसें प्रवासी मजदूरों की मुंबई से यूपी के लिए रवाना की थी. इसके अलावा बसे झारखंड और बिहार जैसे राज्यों के लिए भी निकली.

लिहाजा सोनू सूद इस समय प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए सोशल मीडिया पर छाए हुए है, जिनकी खूब सराहना की जा रही है. लेकिन इस बीच सरकार की खूब आलोचना हो रही है, कि मजदूरों की घर वापसी के लिए वह क्या कर रही केवल राजनीति ?

(आता राष्ट्रीय भारत बातम्या फेसबुक, ट्विटर आणि YouTube आपण कनेक्ट करू शकता.)

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

बालेश्वर यादवची संपूर्ण कथा !

बाय_मनीश रंजन बालेश्वर यादव भोजपुरी जगातील पहिले सुपरस्टार होते. त्यांची गायकी लोकगीते खूप आहेत …