Home International Political गोडसे को देशभक्त कहने वाली प्रज्ञा ठाकुर रक्षा मंत्रालय से क्यों हुई बाहर
Political - Politics - Social - November 29, 2019

गोडसे को देशभक्त कहने वाली प्रज्ञा ठाकुर रक्षा मंत्रालय से क्यों हुई बाहर

भाजपा ने लोकसभा में अपनी सांसद प्रज्ञा ठाकुर के विवादास्पद बयान की निंदा की और कहा कि उन्हें रक्षा मामलों की परामर्श समिति से हटाया जाएगा. भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने संवाददाताओं से कहा भाजपा लोकसभा सांसद प्रज्ञा ठाकुर की टिप्पणी की निंदा करती है. पार्टी ऐसे बयानों का समर्थन नहीं करती. नड्डा ने आगे कहा हमने निर्णय लिया है कि उन्हें रक्षा मामलों की परामर्श समिति से हटाया जायेगा. साथ ही संसद के इस सत्र के दौरान वे भाजपा संसदीय दल की बैठक में हिस्सा नहीं ले सकेंगी. हम इस बारे में बिल्कुल स्पष्ट हैं कि उनका बयान निंदनीय है और हम इस विचारधारा का समर्थन नहीं करते. ज्ञात हो कि बुधवार को लोकसभा में एसपीजी संशोधन विधेयक पर हो रही बहस में द्रमुक सांसद ए. राजा नाथूराम गोडसे के एक बयान का संदर्भ दे रहे थे.जब भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने उन्हें टोकते हुए कहा कि आप एक देशभक्त का उदाहरण नहीं दे सकते. विपक्षी सदस्यों ने ठाकुर के इस बयान का विरोध किया था और लोकसभा अध्यक्ष ने कहा था कि इस संबंध में केवल ए. राजा का बयान रिकॉर्ड में जाएगा.

गुरुवार को प्रज्ञा ठाकुर ने कहा है कि उनकी टिप्पणी उधम सिंह को लेकर की गयी थी. उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा कभी-2 झूठ का बवंडर इतना गहरा होता है .लेकिन इससे पहले बुधवार शाम द्रमुक सांसद ए. राजा ने कहा था कि उनके गोडसे का जिक्र करने पर ही प्रज्ञा ठाकुर ने विवादित टिप्पणी की थी. ठाकुर के इस बयान पर कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति जताई है. गुरुवार को लोकसभा में पार्टी ने वॉकआउट किया और राज्यसभा में भी स्थगन नोटिस दिया है.

सदन की कार्यवाही आरंभ होने के बाद सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने प्रज्ञा के विवादित बयान का मुद्दा उठाया और कहा कि यह सदन इस तरह के बयानों की अनुमति कैसे दे सकता है. भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर द्वारा कांग्रेस को आतंकवादी पार्टी कहा गया उस पार्टी को जिसके हजारों नेताओं ने देश की आजादी के लिए बलिदान दिया ये हो क्या रहा है. क्या सदन इस पर चुप रहेगा. महात्मा गांधी के हत्यारे को देशभक्त कहा गया.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ने प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर कहा वे वही बोल रही हैं जो आरएसएस और भाजपा के मन में है. मैं इस बारे में क्या कह सकता हूं. यह छिपाया नहीं जा सकता. मुझे उस महिला के खिलाफ कार्रवाई की मांग करने में अपना समय बर्बाद करने की जरूरत नहीं है. लोकसभा में कांग्रेस के हंगामे के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि नाथूराम गोडसे को देशभक्त मानने की सोच की वह और उनकी पार्टी निंदा करते हैं.

उन्होंने कहा कि नाथूराम गोडसे को देशभक्त मानने की सोच की पार्टी पूरी तरह निंदा करती है. महात्मा गांधी पहले भी हमारे मार्गदर्शक थे और आज भी हैं. उनके विचार पहले भी प्रासंगिक थे और आज भी प्रासंगिक हैं. यह पहली बार नहीं है जब प्रज्ञा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया है. लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान एक रोड शो कर रही प्रज्ञा ठाकुर ने एक सवाल के जवाब में कहा था. नाथूराम गोडसे देशभक्त थे देशभक्त हैं और रहेंगे गोडसे को आतंकी बोलने वाले खुद के गिरेबां में झांककर देखें. विवाद बढ़ने के बाद ठाकुर ने अपने बयान के लिए माफी मांग ली थी. ठाकुर के माफी मांगने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि वह भले ही माफी मांग लें लेकिन मैं उन्हें मन से कभी माफ नहीं कर पाऊंगा.

(अब आप नेशनल इंडिया न्यूज़ के साथ फेसबुकट्विटर और यू-ट्यूब पर जुड़ सकते हैं.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

डॉ मनीषा बांगर को पद्मश्री सम्मान के लिए राष्ट्रीय ओबीसी संगठनों ने किया निमित

ओबीसी संगठनों ने बहुजन समुदाय के उत्थान में उनके विशिष्ट प्रयासों के लिए डॉ मनीषा बांगर को…