घर राज्य दिल्ली-एनसीआर दुनिया में कोरोना से हाहाकर, क्या भारत में होगा सरकार का कदम साकार ?

दुनिया में कोरोना से हाहाकर, क्या भारत में होगा सरकार का कदम साकार ?

मेड इन चाइना का टैग अब सामान के अलावा बीमारी पर भी लग चुका है. कोरोना वायरस से दुनिया में खौफ फैल चुका है. कोरोना के 1 लाख से ज्यादा मरीज कन्फर्म हो चुके हैं. दुनिया में इस बिमारी के चलते हालात इतने गंभीर बने हुए है कि कोरोना इस युग में दुनिया के लिए एक बड़ी चुनौती बन गया है. पूरी दुनिया में अबतक 1 लाख से ज्यादा कोरोना वायरस के केस सामने आ चुके हैं. भारतात 30 लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके हैं. कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में इंसानी जीवन पर खतरा बढ़ गया है. बल्कि इसके चलते दुनिया की अर्थ-व्यवस्था भी चौपट हो गई है. चीन ही नहीं भारत और बाकी देशों की अर्थव्यवस्था को भी बड़ा धक्का लगा है.

वहीं अब तक कोरोना वायरस के 80,651 केस सिर्फ चीन में आ चुके है जिसमें से करीब 3,070 की मौत हो चुकी है. दक्षिण कोरिया में 6,767 केस मिले जिनमें 42 लोगों की जान चली गई. साथ ही इरान, इटली, जापान सहित कई देशों में हजारों से ज्यादा केस कोरोना के पाए गए है जिसमें से कई लोगों की जान भी जा चुकी है. भारत में भी कोरोना वायरस के 30 मामले सामने आए है लेकिन किसी की मौत नही हुई है.

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया से एक चौकाने वाला मामला सामने आया है, जहां डॉक्टर ही कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है. इसके चलते पूरे महकमे में सनसनी फैल गई है. जानकारी मिलने के बाद वहां के क्लीनिक को बंद करा दिया गया. जो भी मरीज डॉक्टर से जांच कराने आये थे उन सभी की जांच की जा रही है. इससे पहले यह डॉक्टर अमेरिका की यात्रा कर ऑस्ट्रेलिया के मेलबर्न लौटा था. और जिसके बाद 2 पासून 6 मार्च के बीच करीब 70 मरीज उनके पास इलाज के लिए पहुंचे थे.

गौरतलब है कि दुनिया में बढ़ते कोरोना वायरस के बीच लोगों का दिल दहला उठा है. सभी के बीच इसके दुष्प्रभाव को लेकर दशहत का माहौल छाया हुआ है और सभी बेहद डरे हुए है. साथ ही क्रेंद सरकार और राज्य सरकारे ने भी कई कदम इस बीमारी से लड़ने के लिए उठाए है. भारत से विदेश जाने वालीं पैरासिटामोल, विटामिन B12,विटामिन B6,विटामिन B1 जैसी कुछ दवाइयों के एक्सपोर्ट पर पूरी तरह से रोक लगा दी है. ताकि भारत में इस तरह की दवाइयों की कोई कमी ना आ पाए. चीन, इटली, जपान, ईरान और साउथ कोरिया के यात्रियों के वीजा पर रोक के लिए एडवाजरी जारी की है. भारतीय नागरिकों को भी इन देशों की यात्रा करने से सतर्क रखा गया है. इसके अलावा कई देशों को वीज़ा ऑन अराइवल की सुविधा पर रोक लगा दी है और लंबी प्रक्रिया के बाद ही एंट्री दी जा रही है.

साथ ही एहतियात के तौर पर स्कूली बच्चे इस बीमारी का शिकार ना हो सके. इसलिए केजरीवाल सरकार ने दिल्ली के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को 31 मार्च तक बंद रखने की घोषणा की है. हालांकि अब देखना ये होगा कि सरकार के इस उठाए कदम से कितना प्रभाव पड़ता है ? क्या कोरोना वायरस के बढ़ते कहर को रोक पाते है यह एहतियात कदम ?

(आता राष्ट्रीय भारत बातम्याफेसबुकट्विटरआणिYouTubeआपण कनेक्ट करू शकता.)

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

अस्पृश्यता आणि जातिभेदाची सर्रास प्रकरणे

सरस्वती विद्या मंदिरात अनुसूचित जाती समाजातील मुलाची हत्या…