घर आंतरराष्ट्रीय चीन बद्दल एस. जयशंकर यांनी मान्य केले, एलएसीवर गोष्टी अतिशय गंभीर आहेत
आंतरराष्ट्रीय - राजकीय - सप्टेंबर 8, 2020

चीन बद्दल एस. जयशंकर यांनी मान्य केले, एलएसीवर गोष्टी अतिशय गंभीर आहेत

भारत और चीन की सीमा पर तनाव एक बार फिर चरम पर पहुंच गया है। चीन ने कहा है कि सोमवार की रात को एलएसी पर फायरिंग हुई।

 15 जून को गलवान घाटी में हुए हिंसक संघर्ष के बाद से दोनों देशों के बीच हालात सामान्य करने के लिए वार्ता हो रही हैं लेकिन अभी तक कोई नतीजा नहीं निकल पाया है। इन घटनाक्रमों के बीच विदेश मंत्री एस. जयशंकर रूस का दौरा करने वाले हैं जहां सीमा विवाद को लेकर वह चीन के विदेश मंत्री वांग यी से भी मुलाकात कर सकते हैं. विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने सोमवार को कहा है कि एलएसी पर स्थिति बेहद नाजुक है

विदेश मंत्री जयशंकर ने माना कि एलएसी पर मौजूदा हालात बेहद गंभीर हैं और दोनों देशों के बीच राजनीतिक स्तर पर बेहद गंभीर और गहरी बातचीत की जरूरत है जयशंकर ने कहाद्विपक्षीय वार्ता में सरहद के हालात से अलग हटकर दोनों देशों के बीच रिश्तों को नहीं देखा जा सकता है.

जयशंकर शंघाई सहयोग संगठन की विदेश मंत्रियों की स्तर की बैठक में शामिल होने के लिए रूस के दौरे पर जा रहे हैं. यह दौरा 9 सितंबर से 11 सितंबर के बीच होगा.

मई महीने में लद्दाख में हुए संघर्ष के बाद से रूस में चीनी विदेश मंत्री वांग यी से जयशंकर की ये पहली मुलाकात हो सकती है। अब देखना होगा कि कबतक ऐसे ही बस मलाकात होगा या इसका कोई समाधान भी निकलेागा।

(आता राष्ट्रीय भारत बातम्याफेसबुकट्विटर आणिYouTube आपण कनेक्ट करू शकता.)

प्रतिक्रिया व्यक्त करा

आपला ई-मेल अड्रेस प्रकाशित केला जाणार नाही.

हे देखील तपासा

नव्या कृषी कायद्याविरोधात दिल्लीच्या सीमेवर किसान आंदोलन सुरूच आहे 100 दिवस जवळ आले आहेत…